breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराजनीतिराज्यों की खबरें

कर्नाटक संकट : सुप्रीम कोर्ट ने आज दोनों पक्षों की बाते सुन फैसला कल सुरक्षित रखा

मुकुल रोहतगी ने कहा की जबरदस्ती इस्तीफे लेने के सबुत नहीं है, इस्तीफे मंजूर होने चाहिए

supreme court on the matter of Karnataka rebel 15 MLAs

नई दिल्ली, 16 जुलाई (समयधारा) :  सुप्रीम कोर्ट ने आज दोनों पक्षों की बाते सुन फैसला कल सुरक्षित रखा l 

जीरह के दौरान कोर्ट ने कहा स्पीकर कैसे फैसला लेते है यह देखना सुप्रीम कोर्ट का काम नहीं l

मंगलवार को कोर्ट में संबंधित पक्षों ने अपनी-अपनी दलीलें रखीं और कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया।

सुप्रीम कोर्ट अब बुधवार को सुबह 10:30 बजे इस मामले में फैसला सुनाएगा।

बागी विधायकों ने कोर्ट से मांग की है कि वह स्पीकर को उनके इस्तीफों को स्वीकार करने का निर्देश दे, 

जबकि स्पीकर ने आज कोर्ट से यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश को वापस लेने की मांग की। 

सुप्रीम कोर्ट में कर्नाटक के बागी बिधायकों पर सुनवाई जारी है l

मुकुल रोहतगी ने कहा की जबरदस्ती इस्तीफे लेने के सबुत नहीं है l इस्तीफे मंजूर होने चाहिए l 

इस सुनवाई में 5 और बागी विधायकों की अर्जी भी शामिल कर दी गयी है l

मुकुल रोहतगी सुप्रीम कोर्ट में CJI के सवालों के जवाब दे रहे है l

सवाल : CJI ने उनसे पूछा की बागी विधायकों ने इस्तीफा कब दिया l इन्हें अयोग्य ठहराने का क्या आधार दिये गए l 

जवाब : इस पर मुकुल रोहतगी ने कहा की 6 जुलाई को l रोहतगी ने आगे कहा की स्पीकर इस्तीफा स्वीकार नहीं कर रहे है l

10 में से 2 विधायकों पर ही अयोग्यता का मामला लंबित l अयोग्यता लंबित हो तो उससे इस्तीफे पर असर नहीं l

बागी विधायकों ने कहा की मुझे MLA नहीं रहना, कोई मुझे फाॅर्स नहीं कर सकता, मेरा इस्तीफा स्वीकार किया जाए l 

गौरतलब है कि कर्नाटक में गुरूवार को फ्लोर टेस्ट होने वाला है l 

इससे पहले,

सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के फैसले पर रोक लगाईं,मंगलवार को होगी सुनवाई l 

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के बागी विधायकों पर कहा कि स्पीकर का फैसला क्या है..?

क्या स्पीकर हमारी पॉवर को चेलेंज कर रहे है …?

इस पर कांग्रेस के प्रवक्ता व वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि बागी विधायकों के खिलाफ इस्तीफे से पहले ही कारवाई शुरू l

supreme court on the matter of Karnataka rebel 15 MLAs

इनका इस्तीफा देने का कारण कुछ और है और इनका अयोग्यता  से बचने का यह तरिका है l

बागी विधायको ने कहा कि हमारे इस्तीफे स्पीकर ने नामंजूर किये l स्पीकर ने विधायकों को अयोग्य 

गौरतलब है कि कल कोर्ट ने स्पीकर को बागी विधायकों के इस्तीफे पर फैसला लेने को कहा था l

जिस पर बागी विधायकों से मिलने के बाद कर्नाटक विधानसभा स्पीकर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की

और कहा कि वे इन इस्तीफों की रातभर जांच करेंगे ताकि पता लगाया जा सकें

और सत्यता का पता लगाएंगे कि इस्तीफे किसी दबाव में तो नहीं दिए गए। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट (SC) के आदेश के बाद कर्नाटक(Karnataka) स्पीकर (Karnataka speaker) से

बागी विधायक (rebel MLAs) आज शाम साढ़े 6 बजे मिलें और उन्हें इस्तीफा सौंप दिया l 

कर्नाटक  स्पीकर ने बताया है कि बागी विधायकों ने हमें कुछ नहीं बताया और वे लोग सीधे राज्यपाल के पास चले गए।

अब वे क्या कर सकते है? इस विषय में गलत क्या है? वे लोग सुप्रीम कोर्ट चले गए।

मेरा देश की जनता और संविधान के प्रति कर्तव्य है।

supreme court on the matter of Karnataka rebel 15 MLAs

मैं इस विषय में देरी इसलिए कर रहा हूं कि जमीन से प्यार करता हूं। इसलिए मैं किसी जल्दबाजी में काम नहीं कर रहा हूं। 

गौरतलब है कि कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायक अपने इस्तीफे का एलान करके मुंबई से बेंगलुरू पहुंचे।

जो विधायक स्पीकर से मिलने पहुंचे वे है- एच. विश्वनाथ, के. गोपालैय्या, महेश कुमथाहाली,

बीए बसावराज, शिवराम हेब्बार, रमेश जरकिहोली, एसटी सोमशेखर, बीसी पाटिल, प्रताप गौड़ा पाटिल है।

दरअसल, बागी विधायक कर्नाटक स्पीकर (Karnataka speaker meet rebel MLAs after SC order) के खिलाफ

सुप्रीम कोर्ट में पहुंचे और आरोप लगाएं कि स्पीकर उनसे जानबूझकर नहीं मिल रहे।

तब सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार शाम 6 बजे स्पीकर से मिलने को कहा था।

साथ ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)  ने अपने फैसले में कहा कि स्पीकर आज ही इस मसले पर फैसला लें।

सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा कि स्पीकर अपने फैसले से शुक्रवार को पीठ को अवगत कराये।

तब न्यायालय इस मामले में आगे विचार करेगा।

supreme court on the matter of Karnataka rebel 15 MLAs

दूसरी ओर, जेडीएस के प्रवक्ता रमेश बाबू ने कहा है कि उन तीन बागी विधायकों को पार्टी आयोग्य करार देने का संकेत दे सकती है।

बीते हफ्ते ही जेडीएस के के. गोपालैय्या, नारायण गौड़ा और एएच विश्वनाथ ने अपना इस्तीफा दे दिया था।

यह भी पढ़े: कर्नाटक संकट : कुमारस्वामी CM पद छोड़ने को राजी,पर बागी मानने को तैयार नहीं

यह भी पढ़े: जानियें कब-कब कर्नाटक में कुमारस्वामी पर गहरायें संकट के बादल

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: