breaking_newsदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें
Trending

सुप्रीम फरमान- मीडिया मुजफ्फरनगर बाल गृहकांड के रेप पीड़ितों की पहचान उजागर न करें

नई दिल्ली, 2 अगस्त : Supreme court, media, Muzaffarpur shelter home-सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को मुजफ्फरनगर बाल गृहकांड के रेप पीड़ितों की पहचान उजागर न करने को कहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के आश्रय गृह में नाबालिग दुष्कर्म पीड़िताओं की तस्वीरों व वीडियो प्रसारित करने पर रोक लगा दी है।

Supreme court stops media not to reveal identity of victims Muzaffarpur shelter home

न्यायमूर्ति मदन बी.लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने एक शख्स द्वारा अदालत को पत्र लिखने के बाद इस घटना पर स्वत: संज्ञान लिया। इस पर न्यायालय ने महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, बिहार सरकार से जवाब मांगा है।

अदालत ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) से भी सहायता मांगी है।

पीठ ने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा नाबालिग दुष्कर्म पीड़िताओं की पहचान उजागर करने पर चिंता जताई। अदालत ने (मॉर्फ) तस्वीर भी प्रकाशित नहीं करने की बात कही है।

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामला इस साल की शुरुआत में प्रकाश में आया था जब बिहार समाज कल्याण विभाग ने टीआईएसएस द्वारा किए गए सोशल ऑडिट के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सिफारिश के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो ने रविवार को आश्रय गृह दुष्कर्म मामले की जांच संभाल ली।

 

–आईएएनएस

यह भी पढ़े: मुजफ्फरपुर बाल गृहकांड : 34 नाबालिग बच्चियों से रेप के विरोध में बिहार में बंद

यह भी पढ़े: बिहार : ‘मुजफ्फरपुर बालिकागृह बना बलात्कारगृह’, 34 लड़कियों के साथ रेप की पुष्टि

इसे भी पढ़े: बिहार: गड्ढे में गिरी बस,आग लगने से 7 यात्रियों की मौत, सीएम नीतीश कुमार ने जताया शोक

यह भी पढ़े: बिहार : महाशिवरात्रि पर मंदिरों में उमड़ी भीड़, भोले पर अभिषेक कर सब धूमधाम से मना रहे है पर्व

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: