breaking_news Home slider अन्य ताजा खबरें देश राज्यो की खबरें

तमिलनाडु: शशिकला बनी एआईएडीएमके की नई महासचिव

पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के साथ शशिकला नटराजन(साभार-गूगल)

चेन्नई, 30 दिसम्बर : तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने गुरुवार को कहा कि दिवंगत मुख्यमंत्री व पार्टी की नेता जे.जयललिता की करीबी वी. के. शशिकला ने पार्टी की अगली महासचिव बनने के लिए स्वीकृति दे दी है। पन्नीरसेल्वम ने संवाददाताओं को बताया कि शशिकला जल्द ही औपचारिक रूप से पार्टी महासचिव का पदभार संभाल लेंगी।

तमिलनाडु में सत्तारूढ़ पार्टी एआईएएडीएमके ने इससे पहले एक प्रस्ताव पारित कर कहा था कि सिर्फ शशिकला ही पार्टी की महासचिव बनने के योग्य हैं।

यह प्रस्ताव पार्टी की जनरल काउंसिल की सुबह यहां हुई बैठक में पारित किया गया। पार्टी महासचिव पद के लिए शशिकला के अलावा कोई दूसरा प्रत्याशी नहीं था।

पार्टी संविधान के मुताबिक, महासचिव का चुनाव तमिलनाडु के पार्टी सदस्य और पुद्दूचेरी, नई दिल्ली, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र व अंडमान के पार्टी पदाधिकारी करते हैं।

पार्टी की विभिन्न शाखाओं द्वारा उस व्यक्ति का चुनाव किया जाता है। जनरल काउंसिल ने एकमत से यह फैसला किया कि शशिकला ही पार्टी की महासचिव पद के योग्य हैं।

पार्टी का कहना है कि नीतियां बनाने, पार्टी के खातों और अन्य गतिविधियों के प्रबंधन के लिए महासचिव की जरूरत है और पार्टी नवनिर्वाचित महासचिव शशिकला के नेतृत्व में काम करेगी।

बैठक में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम और अन्य नेताओं ने भी हिस्सा लिया। काउंसिल ने जयललिता के निधन पर शोक जताते हुए एक अन्य प्रस्ताव भी पारित किया।

इसके बाद पन्नीरसेल्वम ने जनरल काउंसिल द्वारा पारित प्रस्ताव की एक प्रति शशिकला को दी। वह फिलहाल पोएस गार्डन में जयललिता के आवास पर रह रही हैं।

जयललिता के निधन के बाद विभिन्न नेताओं और पार्टी की शाखाओं ने शशिकला से पार्टी की कमान संभालने का आग्रह किया था।

लेकिन पार्टी के कुछ अन्य जाति के नेताओं ने पार्टी के शीर्ष दो पदों पर एक ही जाति (थेवार) से आने वाले दो नेताओं (पन्नीरसेल्वम और शशिकला) की नियुक्ति पर सहमति नहीं जताई, हालांकि इसके कारण पार्टी में किसी तरह का मतभेद नहीं उभरा।

कुछ पार्टी नेताओं ने तो शशिकला से आर. के. नगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़कर राज्य की मुख्यमंत्री का पद भी ग्रहण करें।

इस बीच पार्टी के कुछ लोकप्रिय नेताओं, अभिनेता आनंदराज और कराटे मास्टर शिहान हुसैनी ने शशिकला को पार्टी महासचिव बनाए जाने के विरोध में पार्टी छोड़ दी।

पार्टी से निलंबित राज्य सभा सांसद शशिकला पुष्पा ने पार्टी महासचिव पद के लिए दावेदारी पेश करने की घोषणा की। लेकिन पार्टी कार्यकर्ताओं ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय के बाहर शशिकला पुष्पा के पति और समर्थकों के साथ मारपीट की।

ज्ञात हो कि जयललिता ने पुष्पा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से बर्खास्त कर दिया था, लेकिन पुष्पा ने राज्य सभा की सदस्यता से इस्तीफा नहीं दिया था।

इन सबके बावजूद शशिकला को पार्टी महासचिव बनाए जाने का खास विरोध नहीं हुआ। शशिकला अब लोकसभा चुनाव-2014 में 37 सीट जीतकर बनी देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी की कमान संभालेंगी।

–आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment

अन्य ताजा खबरें