breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

#AirForceDay2019: आज देश मना रहा वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस, जानें क्यों मनाते है AirForce Day

वायुसेना के अदम्य सहास,शौर्य को समर्पित है आज का दिन

नई दिल्ली, 8 अक्टूबर : AirForceDay2019 87th Indian air force day- आज देशभर में पूरे धूमधाम से वायुसेना दिवस (AirForceDay2019) मनाया जा रहा है।

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के स्थापना दिवस को एयरफोर्स डे (Air Force) कहते है।

वायु सेना दिवस पर हमारे जवानों और उनके परिजनों को देश नमन कर रहा (AirForceDay2019 87th Indian air force day)है।

अपने जवानों के अदम्य साहस व शौर्य के बलबूते आज भारतीय वायुसेना किसी भी परिस्थिति से निपटने में सक्षम है।

सोशल मीडिया पर भी यूजर्स भारतीय वायुसेना दिवस (Indian Air Force Day) की शुभकामनाएं दे रहे है

और हैशटैग #AirForceDay2019 ट्रेंड कर रहे है।

‘भारतीय वायुसेना’ ,भारतीय सशस्त्र सेना का एक एहम हिस्सा है |

जो देश में होने वाले वायु युद्ध ,वायु सुरक्षा ,एवं वायु चौकसी का काम देश के लिए करती है |

8 अक्टूबर ,1932 को इसकी स्थापना की गयी थी |

क्या आप जानते हैं कि इसमें तीनों रक्षा सेवाओं अर्थात भारतीय वायुसेना, सेना और नौसेना के चीफ शामिल हैं।

आधारिक और  सार्वजानिक तौर  पर इस दिन के बारे में  विश्व में भारतीय वायु सेना (Indian air force) के प्रति 

जागरूक करने के लिए 8 अक्टूबर ,1932 को यह दिवस बड़े धूम धाम से मनाया जाने लगा (AirForceDay2019 87th Indian air force day)

इस दिन पूरे देश में विभिन्न वायु स्टेशनों पर एक ही उत्साह और गौरव के साथ मनाया जाता है।

कई राज्यों में सभी वायुसेना (Air force) स्टेशन के मैदानों में परेड़  आयोजित की जाती है ।

यहां तक ​​कि सैन्य परेड उसी कार्यक्रम के अनुसार आयोजित किया जाता है।

जिनमें सेना के कमांडर्स बड़े गर्व के साथ अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं |  

आईएएफ का सुप्रीम कमांडर और वायुसेना का राष्ट्रीय कमांडर भी कई रूपों में योगदान देतें  है।

पिछले कुछ सालों में, भारतीय वायुसेना काफी विकास  कर रही है

और  महिलाओं को लघु सेवा आयोगों में लाने की शुरुआत भी की  है।

 भारतीय वायु सेना (Indian Air Force)  भी भारतीय नौसेना और सेना की तरह रक्षा  प्रणाली का एक महत्वपूर्ण अंग है |

भारतीय वायु सेना के गठन के बाद 1 अप्रैल, 1933 को आईएएफ (IAF) की पहले उड़ान बनाई गयी थी |

वायु सेना ने पहली बार वजीरिस्तान युद्ध के दौरान  अपनी बहादुरी का झंडा लहराया|

इसके बाद दूसरे  विश्व युद्ध के दौरान आईएएफ का विस्तार हुआ।

विशेष रूप से बर्मा में युद्ध के दौरान आईएएफ एक महान रक्षा बल साबित हुआ है।

इसके अज्ञात योगदान और उपलब्धि ने आईएएफ को 1 945 में रॉयल का दर्जा जीता

और इसलिए रॉयल इंडियन एयरफोर्स  (आरआईएएफ) के रूप में जाना जाने लगा।

भारतीय वायु सेना की ज़िम्मेदारी केवल  भारतीय क्षेत्र को सभी जोखिमों से बचाने की ही नहीं  है,

बल्कि  प्राकृतिक आपदाओं के दौरान प्रभावित इलाकों में समर्थन प्रदान करना भी  है।

आईएएफ कई युद्धों में शामिल रहा है: द्वितीय विश्व युद्ध, चीन-भारतीय युद्ध,

ऑपरेशन कैक्टस, ऑपरेशन विजय, कारगिल युद्ध, भारत-पाकिस्तान युद्ध, कांगो संकट,

ऑपरेशन पुमालाई, ऑपरेशन पवन और कुछ अन्य। 

AirForceDay2019 87th Indian air force day

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: