breaking_newsदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

देशवासियों को ईद-उल-अजहा/फितr की बहुत-बहुत मुबारकबाद

ईद-उल-अजहा हमें नेक राह पर चलने की नसीहत देता है

नई दिल्ली, 22 अगस्त : ईद-उल-अजहा का त्योहार अल्लाह की राह में कुर्बानी के जज्बे का वह त्योहार है l 

जिसकी बुनियाद हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम ने सैकड़ों वर्ष पहले रखी थी।

हर वर्ष एक बार आने वाली ऐसी ईद-उल-अजहा के लिए सभी उम्र के

मुस्लिम भाइयों-बहनों एवं बच्चों-बच्चियों को तहेदिल से बहुत-बहुत मुबारकबाद। 

 भारतीय मुसलमान व उनके खासकर दो त्योहार-ईद-उल-फित्र व ईद-उल-अजहा-समृद्ध

भारतीय संस्कृति के सदियों से अभिन्न हिस्सा हैं।

इस मौके पर सरकारों की भी जिम्मेदारी बनती है कि देश के वर्तमान हालात के मद्देनजर

सभी जगह शांति-व्यवस्था व आपसी भाईचारा एवं सद्भावना का माहौल बिगड़ने नहीं दे। 

 ईद का यह त्योहार कौमी एकता को मजबूत करने के साथ ही गरीबों की मदद,

समाज में सामाजिक सद्भाव तथा सह-अस्तित्व की भावना को भी बढ़ाएगा। 

 “आज के नेक दिन पर हम देश को सर्वोपरि मानते हुए कुर्बानी के जज्बे

और कौमी एकता के जरिए राष्ट्र निर्माण का संकल्प लें।”

“ईद-उल-अज्हा हमें नेक राह पर चलने की नसीहत देता है।

प्रदेशवासियों से गुजारिश है कि वे अमन-चैन और भाईचारे के साथ रहें और प्रदेश में सामाजिक समरसता का माहौल बनाएं,

 सद्भाव व अमन की ताकत ही हमें वह मुकम्मल जमीन देती है,

जिस पर मुल्क की कामयाबी की इबारत लिखी जा सकती है।

 “आइए हम सब विश्वास, त्याग और सेवा की भावना में खुद को समर्पित कर दें,

जो इस त्योहार का मूल तत्व है और अपनी खुशी उन लोगों के साथ बांटें जो जरूरतमंद हैं।

हमारी यही कामना है कि यह अनूठा त्योहार हमारी मिली-जुली संस्कृति को समृद्ध करे,

हमारी एकता और अखंडता को मजबूत करे तथा हम सभी को मानवता की भलाई के लिए कार्य करने के लिए प्रेरित करे।”

समयधारा इस  “त्याग और बलिदान की प्रेरणा देनेवालें त्योहार हमारे जीवन में सहनशीलता,सद्भावना और प्रेम की भावना लगाता है।” 

इस अवसर पर सबलोग समाज में सद्भावना और भाईचारा की मजबूती के लिए संकल्पित हों,

जिससे देश अमन और तरक्की के रास्ते पर लगातार तेजी से आगे बढ़ता रहे। 

(समयधारा) 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: