breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें
Trending

प्याज ने फिर रुलाया,दामों में नवंबर तक राहत नहीं,दिल्ली में 80-100 रुपये किलो

केन्द्रीय मंत्री का बयान, बारिश और बाढ़ से प्याज के उत्पादन में कमी आई है, इस महीने के अंत में प्याज की कीमते नियंत्रित हो जायेगी l

ramvilas-paswan-on-onion-price-reason-behind-rising-prices-is-demand-and-supply-gap

नई दिल्ली, (समयधारा) : एक तरफ प्रदूषण की मार तो दूसरी तरफ प्याज के दाम कम होने का नाम नहीं ले रहे है l

पिछले 2 – 3 महीनों से प्याज के दाम 50 रुपये किलो से लेकर 80-90 रूपये किलो तक बिक रहे है l

कही-कही पर तो यह 100 रुपये किलो तक भी बिके l इसी पर केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान का बयान आया है l

उनका कहना है कि बारिश और बाढ़ से प्याज के उत्पादन में कमी आई है l इस महीने के अंत में प्याज की कीमते नियंत्रित हो जायेगी l

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने ट्वीट किया

और कहा कि प्याज की बढ़ती कीमतों के पीछे मुख्य कारण मांग और आपूर्ति का अंतर है।

बारिश और बाढ़ के कारण फसल नष्ट हो गई, नवंबर अंत तक राहत मिलेगी।

ramvilas-paswan-on-onion-price-reason-behind-rising-prices-is-demand-and-supply-gap

पासवान ने यह भी कहा कि तुर्की, अफगानिस्तान से प्याज आयात के लिए भी विदेश मंत्रालय से बातचीत की जा रही है।

इस समय दिल्ली-एनसीआर में प्याज 80 से 100 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। दिल्लीवासियों को इस बार मौसम की मार ज्यादा पड़ी है l 

प्रदूषण ने राजधानी दिल्ली के हालात ख़राब करके रखे है, तो दूसरी तरफ प्याज-अदरक आदि के दामों ने दिल्लीवासियों की मुसीबते और बड़ा दी है l 

केन्द्रीय मंत्री ने आगे कहा हमने प्याज निर्यात को पूरी तरह से बंद कर दी है। 

इसके साथ ही 57,000 टन प्याज का बफर स्टॉक भी तैयार किया। अभी भी उसमें से 1500 टन रह गया है,

लेकिन इसकी कुछ सीमाएं होती हैं। कुछ ही महीनों में प्याज खराब होने लगता है।’ 

ramvilas-paswan-on-onion-price-reason-behind-rising-prices-is-demand-and-supply-gap

अब सरकार चाहें कुछ भी कहें पर जनता को परेशानीयों तो करना ही पड़ रहा है l

बस में महिलाओं को  फ्री में  सफ़र से घर का बजट थोड़ा सुधर गया था पर प्याज ने उसे फिर बिगाड़  दिया l   

अब आगे देखना है की दिल्लीवासियों को किन-किन मुसीबतों का सामना करना पडेगा l 

Tags

Radha Kashyap

राधा कश्यप लेखन में अपनी रुचि के चलते काफी समय से विभिन्न पब्लिशिंग हाउसेज में काम करती रही है और अब समयधारा के साथ एक लेखिका के रूप में जुड़ी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: