breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिराज्यों की खबरें
Trending

Live: मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार, पार्थिव शरीर पंचत्तव में विलीन,नम आंखों से विदाई

नई दिल्ली 18 मार्च: #GoaCMManohar Parrikar funeral- गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर पंचतत्व में विलीन हो गए।उनके पार्थिव शरीर को बड़े बेटे अभिजात ने मुखाग्नि दी। गोवा के मीरामार पर हुआ अंतिम संस्कार।

उन्हें राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई।

मनोहर का पार्थिव शरीर पणजी में रखा गया ताकि श्रद्धांजलि दी जा सकें। मनोहर पर्रिकर के पार्थिव शरीर को सेना के जवान अपने कंधों पर लेकर गए।

एयरफोर्स की ओर से बंदूक चालकर दिवंगत आत्मा को सलामी दी गई। उनके पुत्र अभिजात और उत्पल मनोहर पर्रिकर के पार्थिव शरीर को हिंदू रीति-रिवाज से सलामी दी। अभिजात बड़े है। इसलिए वे ही पिता को मुखाग्नि उन्होंने ही दी। मनोहर पर्रिकर को उनके बेटे ने वैदिक रीति-रिवाज के साथ मुखाग्नि दी।

प्रधानमंत्री मोदी, रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने भी मनोहर पर्रिकर को अंतिम श्रद्धांजलि दी।

 

इससे पहले सोमवार सुबह 9.30 से 10.30 बजे तक गोवा के मुख्यमंत्री का पार्थिव शरीर भाजपा के पणजी स्थित मुख्यालय में रखा जाएगा। इसके बाद दिवंगत आत्मा के शरीर को कला एकैडमी पणजी ले जाया जाएगा।

फिर सुबह 10.30 से शाम 4 बजे तक आम जनता और राजनीतिक हस्तियों के द्वारा मनोहर पर्रिकर के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन किए जाएंगे।

इसके पश्चात मीरामार में शाम 5 बजे मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार किया जाएगा। इसकी सूचना गोवा मुख्यमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल द्वारा दी गई है।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर एक साफ-सुथरी छवि वाले नेता थे। जिन्हें सादगी से जीवन जीना पसंद था। उनके निधन से भाजपा और देश की राजनीति में एक और कद्दावर नेता कम हो गया।

मनोहर पर्रिकर आईआईटी मुंबई से पढ़े हुए थे। वे किसी भी राज्य के पहले सीएम थे जिन्होंने आईआईटी ग्रेजुएशन किया था।

हालांकि आम अवधारणा है कि राजनीति में ज्यादा पढ़े-लिखे लोग नहीं आते और आ भी जाए तो सफल नहीं हो पाते,लेकिन इस लिहाज से मनोहर पर्रिकर एक अपवाद साबित होते है।

उन्हें राजनीति में मिस्टर क्लीन कहा जाता है चूंकि वे साफ,पारदर्शी जीवन जीने में विश्वास रखते थे और जनता से जुड़े नेता थे।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन (#GoaCMManoharParrikardies) की पुष्टि सबसे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने ट्विटर हैंडल से की और उनके निधन पर गहरा शोक जताया। कोविंद ने ट्वीट किया कि ‘देश और गोवा के लिए मनोहर पर्रिकर के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।‘

इसके पश्चात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मनोहर पर्रिकर के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया कि ‘गोवा के मुख्यमंत्री के निधन से बहुत दुखी हूं। वे बीते एक साल से अपनी बीमारी से पूरी जीवंतता के साथ जूझ रहे थे। पार्टी लाइन से इतर वे एक सम्मानित नेता थे और गोवा के सबसे अच्छे लोगों में से थे। इस दुख के समय में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार वालों के साथ है।‘

गोवा के सिंपल और सोबर नेता मनोहर पर्रिकर के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी गहन शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करके लिखा कि ‘मनोहर पर्रिकर एक अद्वितीय नेता थे। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक, वह सभी की प्रशंसा करते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी सेवा को पीढ़ियों द्वारा याद किया जाएगा. उनके निधन से गहरा दुख हुआ। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना…ओउम् शांति।‘

मनोहर पर्रिकर के निधन पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, सड़क-परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और सभी विपक्षियों ने अपनी शोक संवेदनाएं ट्वीट के माध्यम से अर्पित की है। इतना ही नहीं, बॉलिवुड से भी मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक व्यक्त किया गया है।

गौरतलब है कि मनोहर पर्रिकर पिछले साल फरवरी 2018 से अग्नाश्य कैंसर से ग्रसित थे। अपनी बीमारी की हालत में भी नाक में ड्रिप लगाएं वे अपने कर्तव्यों का वहन करते रहें। बीमारी की हालत में काम करने की उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया और मुख्यधारा के मीडिया से भी सामने आई।

पहली बार गोवा के मुख्यमंत्री (2000) बनने की शपथ लेने से एक महीना पूर्व ही उनकी पत्नी का देहांत हो गया था वे भी कैंसर से पीड़ित थी।

मनोहर पर्रिकर के परिवार में उनके दो बेटे है। दोनों ही राजनीति से दूर है। एक बेटा उत्पल इंजीनियर है और दूसरा बेटा अभिजीत खुद का बिजनेस करते है।

मनोहर पर्रिकर आरएसएस से बहुत ही छोटी उम्र में जुड़ गए थे। उनके निधन पर श्रद्धांजलि हेतु सोमवार को सुबह ग्यारह बजे केंद्रीय कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है।साथ ही सोमवार को होने वाली बीजेपी सेंट्रल इलेक्शन कमेटी की मीटिंग को भी मनोहर पर्रिकर के निधन पर श्रद्धांजलि देने के लिए रद्द कर दिया गया है।

मनोहर पर्रिकर का जीवन

मनोहर पर्रिकर का जन्म 13 दिसंबर 1955 के मापुसा में हुआ था। मनोहर पर्रिकर का पूरा नाम मनोहर गोपालकृष्णन प्रभु पर्रिकर (Manohar Gopalkrishna Prabhu Parrikar) है।

भारतीय राजनीति में ज्यादा पढ़े-लिखे लोगों की श्रेणी से आने वाले राजनेता थे मनोहर पर्रिकर। 1978 में उन्होंने आईआईटी मुंबई से स्नातक किया था।

#ManoharParrikar CM of Goa died funeral at 5 pm in Miramar- national mourning today March 18
मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया (तस्वीर,साभार-गूगल सर्च)

फरवरी 2018 में पर्रिकर को अग्नाश्य यानि पैंक्रियाटिक कैंसर का पता चला। इसके इलाज के लिए वे गोवा,मुंबई,दिल्ली और न्यूयॉर्क के अस्पतालों में भी गए।

पिछले कुछ समय से उनका स्वास्थ्य लगातार गिरता जा रहा था। अपनी गंभीर बीमारी की अवस्था में भी मनोहर पर्रिकर ने राज्य विधानसभा में वर्ष 2019-20 का बजट पेश किया था। इस बजट सत्र में उन्होंने कहा था कि ‘हाउज जोश…मैं जोश में भी हूं और होश में भी हूं’

मनोहर पर्रिकर चार बार गोवा के मुख्यमंत्री बने। वर्ष 2017 में मनोहर पर्रिकर ने रक्षामंत्री का पद छोड़कर वापस गोवा का मुख्यमंत्री बनना पसंद किया। गोवा विधानसभा अक्सर उन्हें साइकिल से आता देखा जा सकता था। वे सरल और सादगीपूर्ण जीवन जीने में विश्वास रखते थे।

वे एक स्पष्ट वक्ता थे इसलिए कुछ लोगों को वे नापसंद थे तो कुछ को इसी कारण बहुत पसंद भी थे। राजनीति में मनोहर पर्रिकर को पीएम नरेंद्र मोदी का करीबी बताया जाता है।

उनका जाना न केवल भाजपा बल्कि भारतीय राजनीति के लिए भी एक अपूर्णीय क्षति है।

 

 

 

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: