breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेशराजनीति
Trending

WhatsApp ने प्रियंका गांधी को फोन हैकिंग के लिए किया था सतर्क: कांग्रेस

व्हाट्सएप सर्वर से जिन लोगों के फोन की जासूसी (Whatsapp spyware) की गई थी उनमें भारत के पत्रकार, मानव अधिकार कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ शामिल थे।

नयी दिल्ली: WhatsApp warns Priyanka Gandhi phone hacking: व्हाट्सएप जासूसी विवाद (WhatsApp Spyware) पूरी तरह सियासी रंग ले चुका है।

रविवार को कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने दावा किया कि प्रियंका गांधी समेत तीन विपक्षी नेताओं को व्हाट्सएप (Whatsapp) पर सरकार दवारा उनके फोन हैक (WhatsApp phone hacking) किए जाने के लिए सतर्क किया गया (WhatsApp warns Priyanka Gandhi phone hacking) था।

कांग्रेस (Congress) ने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) सहित पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता प्रफुल्ल पटेल (Praful Patel) को भी व्हाट्सएप पर एक सतर्कता मैसेज के द्वारा अलर्ट किया गया था कि उनके फोन हैक हो (WhatsApp warns Priyanka Gandhi phone hacking) सकते है। 

कांग्रेस के इस दावे से व्हाट्सएप जासूसी विवाद (WhatsApp Spyware) और ज्यादा गहरा गया है और सियासी आरोप-प्रत्यारोप तेज हो गए है।

कांग्रेस ने रविवार को दावा किया कि पार्टी की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी को व्हाट्सएप से एक संदेश प्राप्त हुआ था, जिसमें उन्हें बताया गया था कि उनके फोन के हैक होने की आशंका (WhatsApp warns Priyanka Gandhi phone hacking) है।

हालांकि, पार्टी ने यह नहीं बताया कि प्रियंका को यह संदेश कब प्राप्त हुआ था।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने फेसबुक (FaceBook) के मालिकाना हक वाले मैसेजिंग एप (WhatsApp) से राकांपा (NCP) नेता प्रफुल्ल पटेल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को संदेश मिलने के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘मैं आपसे कहना चाहता हूं कि प्रियंका गांधी को भी लगभग उसी वक्त व्हाट्सएप (WhatsApp) से इसी तरह का एक संदेश प्राप्त हुआ था।’’

सुरजेवाला ने कहा कि प्रियंका को लगभग उसी वक्त संदेश प्राप्त हुआ था, जब व्हाट्सएप इस तरह के संदेश उन लोगों को भेज रहा था जिनके मोबाइल फोन कथित तौर पर हैक हुए थे।

गौरतलब है कि बीते हफ्ते राजनीतिक हलकों समेत देश में उस समय हड़कंप मच गई जब खबर आई कि फेसबुक अधिकृत व्हाट्सएप (WhatsApp) ने आरोप लगाया

कि इजरायल की साइबर सुरक्षा (Israeli cyber security)  कंपनी एनएसओ (NSO) ने स्पायवेयर पेगासस (Pegasus spyware) को फैलाने के लिए व्हाट्सएप के सर्वर का प्रयोग किया था।

इसके लिए 20 देशों के तकरीबन 1,400 यूजर्स को टारगेट किया गया था और उनके फोन को हैक किया गया था। इतना ही नहीं, भारत में भी लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अप्रैल में दो हफ्ते तक तकरीबन 2 दर्जन से ज्यादा लोगों के फोन की जासूसी की गई थी।

व्हाट्सएप सर्वर से जिन लोगों के फोन की जासूसी (Whatsapp spyware) की गई थी उनमें भारत के पत्रकार, वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, मानव अधिकार कार्यकर्ता, वकील और राजनीतिज्ञ शामिल थे।

इसलिए फेसबुक (Facebook) ने (NSO) एनएसओ पर मुकदमा भी दायर कर दिया है। दूसरी ओर, एनएसओ (NSO) का दावा है कि वह अपने प्रॉडक्ट्स का लाइसेंस केवल ”वैध सरकारी एजेंसियों” को ही देती है।

भाजपा (BJP) सरकार को “बेनकाब” करने का दावा करते हुए, कांग्रेस ने सवालों की एक श्रृंखला बनाई, जिसमें मांग की गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  (Narendra Modi) उनके सवालों के जवाब दें।

भाजपा को “भारतीय जासूसी पार्टी” कहते हुए, श्री सुरजेवाला ने कहा, सरकार “इस बारे में जानने के बावजूद” इस मुद्दे पर चुप थी।

उन्होंने आगे कहा कि, “12 सितंबर को, IT मंत्री रविशंकर प्रसाद फेसबुक (Facebook) के वाइस प्रेसिडेंट से मिले, लेकिन उन्होंने हैकिंग के मुद्दे को नहीं उठाया … वहां एक रहस्यमयी चुप्पी थी.”

सुरजेवाला ने सरकार पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि व्हाट्सएप (WhatsApp) ने भाजपा सरकार को मई में अलर्ट किया था।

इसलिए, सरकार का दावा कि उन्हें 31 अक्टूबर को इस मुद्दे से अवगत कराया गया, सच नहीं है।

WhatsApp warns Priyanka Gandhi phone hacking

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: