breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराज्यों की खबरें
Trending

बड़ी खबर : वकीलों की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से इंकार किया

खाकी बनाम काले कोट की लड़ाई जारी, अदालतों में 50000 मुकदमों पर सुनवाई नहीं हो पायी

नई दिल्ली: Lawyers Vs Delhi Police:वकीलों और पुलिसकर्मियों (Lawyers Vs Delhi Police) के बीच की लड़ाई थमने का नाम ही नहीं ले रही l

एक तरफ पुलिसकर्मी व उनके घर वाले सड़क पर उतर आये है तो दूसरी तरफ वकीलों ने भी अदालतों में कामकाज ठप्प कर रखा (Lawyers Vs Delhi Police) है l 

एक तरफ पुलिस वाले धरने पर बैठे है तो दूसरी तरफ वकील लोग धरने पर बैठे है l

वही वकीलों की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) का तुरंत सुनवाई से इंकार किया है l 

इन दोनों की लड़ाई अब खुलकर सड़क पर आ गयी है l नाम न छापने की शर्त पर जब एक वकील से हमारे सवांददाता ने बात की,

 उसने कहा कि पुलिस की ज्यादितियाँ ज्याद ही बढ़ गयी थी l हर दिन उनकी सहने की झमता खत्म हो रही थी l

इसलिय इस पर अब एक्शन लेना जरुरी है l कुछ कड़े कानून बनने ही चाहियें l 

इस समय साकेत कोर्ट के बाहर थोड़ी सा तनाव भरा माहौल है l वही आज भी वकीलों ने स्ट्राइक जारी रखी है l 

दिल्ली में वकीलों का गुस्सा शांत होने का नाम नहीं ले रहा है।

गौरतलब है कि 2 नवंबर को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में कार पार्किंग को लेकर पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी।

(Lawyers Vs Delhi Police)

LawyersVsDelhiPolice : LG का आदेश: घायल पुलिसवालों को 25000 मुआवजा,मुफ्त इलाज

मामले ने तूल पकड़ा और कानून के रखवाले एक दूसरे के दुश्मन बन गए।

दोनों के बीच का झगड़ा सड़क पर आ गया। दिल्ली की सड़कों पर वकीलों ने खूब तांडव किया।

वहीं पूरा पुलिस महकमा अपनी मांगों को लेकर पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर ही धरने पर बैठ गया।

करीब 10 घंटे के बाद दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने उनकी ज्यादातर मांगें मानी। तब जाकर पुलिसवाले काम पर लौटे।

लेकिन वकील अभी भी अपनी मांगों पर अड़े हैं। सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट को छोड़कर दिल्ली की सभी निचली अदालतों में काम ठप है,

और प्रदर्शन जारी है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन पुलिस वालों पर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं,

लेकिन दोषी वकीलों के खिलाफ एक्शन की बात भी कह रहे हैं।

पिछले दो दिनों में दिल्ली की अदालतों में करीब 40000 मुकदमों पर सुनवाई नहीं हो पाई l

वही आज भी लगभग 20000 के आसपास मुकदमों पर सुनवाई नहीं हो पाएगी l

इस बात की चिंता किसी भी सरकारी मंत्री या सरकार को नहीं है l कोई भी इसकी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है l 

Lawyers Vs Delhi Police

 

Tags

Radha Kashyap

राधा कश्यप लेखन में अपनी रुचि के चलते काफी समय से विभिन्न पब्लिशिंग हाउसेज में काम करती रही है और अब समयधारा के साथ एक लेखिका के रूप में जुड़ी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: