breaking_newsअन्य ताजा खबरेंचटपट चुटकले और शायरीदिल की बात

शायरी : जितना हीं मेरा मिज़ाज है सादा, उतने हीं मुझे उलझे हुए लोग मिले..

ख्वाब सा था साथ तुम्हारा, ख्वाब बन के रह गया....

shayris  hindi-shayari  latest-trending-shayri dard-e-dil-shayari

(1)जितना हीं मेरा मिज़ाज है सादा,
उतने हीं मुझे उलझे हुए लोग मिले..

– – – – – – – –   – – – – – – – –  – – –  — 

(2) ख्वाब सा था साथ तुम्हारा,
ख्वाब बन के रह गया..

– – – – – – – – – – – –  – – – –  – – – – – – 

(3)हमारे दिल में अंदर आने का रास्ता तो होता है,

लेकिन् बाहर निकालने का रास्ता नहीँ होता.

इसीलिए जब भी कोई दिल से जाता है

तो दिल तोड़कर जाता है…..

– – – – – — – – – – – – – – – – – – – – – –

यह शायरी भी पढ़े :

हिंदी शायरी : कितना था नादान मैं हकीकत से अनजान था….

Happy Mother’s Day 2018: सब कुछ मिल जाता है लेकिन “माँ” नहीं मिलती…

शायरी : न चादर बड़ी कीजिये, न ख्वाहिशे दफन कीजिये…!

शायरी : नफरतों में क्या रखा हैं .., मोहब्बत से जीना सीखो.., 

दिलवालों की शायरी : नजरअंदाजी शौक बडा़ था उनको हमने भी तोहफे में उनको..

मोहब्बत शायरी : ऐ मोहब्बत… तुम्हारे मुस्कुराने का असर मेरी सेहत

जिंदगी-शायरी : मिलो किसी से ऐसे कि ज़िन्दगी भर की पहचान बन जाये…..

शायरी : कल शीशा था, सब देख-देख कर जाते थे….

मोहब्बत-शायरी : कुछ इस अदा से निभाना है किरदार मेरा मुझको….

शायरी : जाने कौन सी शौहरत पर आदमी को नाज़ है….! जो खुद, आखरी सफर के लिए भी औरों का मोहताज़ है…!!

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: