होम > चटपट चुटकले और शायरी > दिल की बात > शायरी ही शायरी : आसमान से ऊँचा कोई नहीं, सागर से गहरा कोई नहीं,
breaking_newsHome sliderचटपट चुटकले और शायरीदिल की बात

शायरी ही शायरी : आसमान से ऊँचा कोई नहीं, सागर से गहरा कोई नहीं,

(1) आसमान से ऊँचा कोई नहीं,
सागर से गहरा कोई नहीं,
यूँ तो मुझको सभी प्यार करते है,
पर आप से प्यारा कोई नहीं…

(2) जिंदगी शुरू होती है रिश्तों से,
रिश्ते शुरू होते है प्यार से,
प्यार शुरू होता है अपनों से,
और अपने शुरू होते है आप से…

(3) ये ” DOSTI ” की धडकन है – –
जब तक DOST सलामत रहेगा,
तब तक ये ” धडकता ” ही रहेगा

(4) लोग कहते है,
जिसे हद से ज्यादा प्यार करो,
वो प्यार की कदर नहीं करता!
पर सच तो यह है की,
प्यार की कदर जो भी करता है,
उसे कोई प्यार की नहीं करता!

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close