breaking_newsHome sliderफैशनलाइफस्टाइल

क्या पार्टनर के साथ रिलेशनशिप में आती जा रही है दूरियां? तो करें ये काम

नई दिल्ली ,9 नवंबर: एक रिलेशनशिप में उतार-चढ़ाव आना स्वाभाविक है। बहुत बार ऐसा मौका आता है जब आपको एहसास होता है कि आपकी च्वॉइस गलत है और आप उस इंसान के साथ एक सेकेंड भी नहीं रह सकते। खासकर आजकल के मॉर्डन समय में जब लड़कियां भी आत्मनिर्भर हो चुकी है तो वह किसी भी कीमत पर कॉम्प्रोमाइज़ करना नहीं चाहती और करना चाहिए भी नहीं क्योंकि समझौते की बुनियाद पर बने रिश्ते आपको दिल से खुश नहीं रख सकते,लेकिन ये भी उतना ही बड़ा सच है कि एक रिलेशनशिप को बनाएं रखने के लिए कॉम्प्रोमाइज़ बहुत जरूरी है,बस यहां ध्यान रहें कि कॉम्प्रोमाइज़ दोनों ओर से होना चाहिए न की केवल लड़की ही करती रहे।

पुराने जमाने में हमारे माता-पिता की शादियां इतने लंबे समय तक इसलिए टिक सकीं क्योंकि तब महिलाएं ज्यादा कॉम्प्रोमाइज़ करती थी,लेकिन तब उनकी दुनिया अधिकांशत: घर का चूला-चौका होती थी, मगर बदलते वक्त,महंगाई और दैनिक जरूरतों ने आज दोनों कपल को वर्किंग बना दिया है यानि महिलाएं आज घर और बाहर दोनों प्लेटफॉर्म पर अपनी ड्यूटी निभा रही है और ऐसे में केवल उनसे कॉम्प्रोमाइज़ की उम्मीद करना सरासर अन्याय ही होगा। तब क्या करें जब रिश्ते में दोनों ओर से दूरियां बढ़ती ही जा रही हो। कैसे इन्हें कम करें। तो चलिए बताते है इसके लिए ये टिप्स:

1.आज के टाइम में सहनशीलता और कॉम्प्रोमाइज शब्दों को कपल भूल चुके है। इसलिए सिंपल सा फंडा है जो पसंद नहीं आ रहा उसे बदल दें,लेकिन अगर हम ऐसा ही करते रहे तो कभी किसी के साथ रिलेशनशिप में स्थिरता नहीं पा सकेंगे तो जरूरी है कि दोनों इस मुद्दे पर खुलकर बातचीत करें।अक्सर दोनों कपल बातचीत बंद कर देते है और नतीजतन जो मुद्दा आपसी बातचीत से सुलझ सकता था वो और उलझ जाता है।

2.वर्तमान में कॉम्प्रोमाइज का मतलब लूजर या हारने वाला मान लिया जाता है जबकि सच तो यह है कि रिश्ते में न तो कोई जीतता है और न ही कोई हारता है। इसलिए सबसे पहले इस सोच को मिटाएं कि पहले मैं क्यों झुकूं।

3.अगर एक पार्टनर गुस्से में है तो बिना गलती के भी उससे माफी मांग लें, इससे कम से कम बातचीत का रास्ता तो खुलेगा। जब उनका गुस्सा शांत हो जाएं तो शांति से अपनी सिचुएशन समझाएं और उनकी परेशानियां भी सुन और समझे।

4.अपने रिलेशनशिप से आप क्या चाहते है और वो कौनसी क्वालिटी थी,जिसने आप दोनों को एक-दूसरे के साथ रिश्ता बनाने के लिए मजबूर किया,इस बात पर गौर करें। फिर ध्यान दें कि क्या आज भी आप अपने उस बेसिक गुण या क्वालिटी को मेंटेन रख पाएं है। अगर जवाब न है तो समझ लें कि बीमारी की जड़ यही है और कोशिश करें वही स्पार्क अपने रिश्ते में वापिस लाने के लिए।

5.न सुनने की आदत रिश्तों को बर्बाद कर देती है। अक्सर कपल में देखा गया है कि एक अगर शिकायतें कर रहा है तो दूसरा इसे उसकी आदत समझकर इग्नोर करता जा रहा है और इसका नतीजा ये होता है कि एक दिन शिकायतें भी बंद और आपका रिश्ता भी खत्म हो जाता है क्योंकि वक्त रहते आपने परेशनियों को हल्के में लिया और जब दूसरे पार्टनर को समझ आ गया कि आप इस रिश्ते के लिए सीरियस नहीं हो तो वह आपके साथ क्यों रहेगा। इसलिए गलती से भी पार्टनर की शिकायतों को अनदेखा न करें और उन्हें समझकर दूर करने का प्रयास करें।

6.अगर बहुत लंबे समय से आप बाहर नहीं गए है तो अपने रिश्ते को थोड़ा सा समय दें। बिना किसी खास अवसर के भी उन्हें बाहर डिनर के लिए लेकर जाएं और उनकी सभी तकलीफों और गलतफहमियों को जानें।

7.याद रखें कि परेशनियों से भागने या फिर बातचीत अवॉइड करने से वह कभी खत्म नहीं होती इसलिए कम्युनिकेशन बहुत जरूरी है।

8.अगर आपके बार-बार परेशानियों को बताने पर भी पार्टनर नहीं सुन रहा तो कुछ समय के लिए उनसे दूरी बना लें। कई बार छोटी सी दूरी हमेशा के साथ का कारण बन जाती है। हो सकता है उन्हें लगता हो कि आप हमेशा बस ऐसे ही शिकायत करती रहती है और इसलिए वह खुद को बदल ही नहीं रहे तो ऐसे में जरूरी है कि आप एक हल्का ‘झटका’ जरूर दें उन्हें, पर ध्यान रहें कि ये दूरी ज्यादा दिनों तक की नहीं होनी चाहिए।

 

इन टिप्स को अपनाकर आप अपने रिश्ते को पहले की ही तरह इंजॉय करने लगेंगे और एक-दूसरे के सपने व इच्छाओं का सम्मान करते हुए एक-दूसरे के साथ हमेशा रहेंगे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: