होम > लाइफस्टाइल > फैशन > क्या टैटू बनाते वक्त आपने बरती है सावधानियां..? नहीं..! तो हो सकता है कैंसर..!!
breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनफैशनबीमारियां व इलाजलाइफस्टाइलहेल्थ
Trending

क्या टैटू बनाते वक्त आपने बरती है सावधानियां..? नहीं..! तो हो सकता है कैंसर..!!

do-you-have-to-take-precautions-while-making-tattoo-no-then-maybe-cause-cancer

मुंबई, 30 अप्रैल (समयधारा) : क्या आप भी टैटू बनाना चाहते है..?

क्या आपके दोस्त की तरह आप भी स्टाइलिश देखने के चक्कर में टैटू बनाने की सोच रहे है..? 

करीब दो साल पहले बिग बॉस 10 में आई बानी जे के शरीर पर बने टैटू तो आपने देखे ही होंगे।

एक चैनल ने बताया कि बानी के टैटू देखने के बाद दिल्ली और कई शहरों में टैटू बनाने वाले युवाओं की सख्यां कई गुना बढ़ गई है,

लेकिन हम आज आपको बताना चाह रहे हैं कि अगर आपको भी टैटू बनाने का शौक लग रहा है

तो अपने इस शौक को समय रहते खत्म कर दिजिए,

क्योंकि हाल ही में एक शोध में पता चला है कि टैटू की स्याही में आर्सेनिक होता है, जिससे त्वचा का कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

यही नहीं लंदन की ब्रेडफोर्ड यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर स्किन साइंस के अध्ययन के मुताबिक टैटू इंक में पाए जाने वाले

नैनो पार्टिकल त्वचा से होते हुए खून में चले जाते हैं जिससे त्वचा संबंधी कई बीमारियां हो जाती हैं।

अध्ययन में पाया गया है कि त्वचा में होने वाली यह बीमारियां आम नहीं बल्कि जानलेवा भी होती हैं।

च्वींगम भी खतरनाक

शोध में पाया गया है कि च्वींगम के साथ मिलने वाले वेट एंड प्रेस टैटू के साथ अस्थायी टैटू के कई प्रकार हैं,

जिनमें संयंत्र आधारित सिंथेटिक रंगों का प्रयोग किया जाता है।

कुछ टैटू में मेहंदी और हेयर हाई संघटक पी फिनाइलिनडायमाइन (पीडीपी) का प्रयोग किया जाता है।

यह मिश्रण त्वचा पर प्रयोग के लिए एफडीए द्वारा स्वीकृत नहीं है।

do-you-have-to-take-precautions-while-making-tattoo-no-then-maybe-cause-cancer

स्याही वाले टैटू भी हैं खतरनाक

चिकित्सकों के मुताबिक टैटू बनाने के लिए जो नीली स्याही का इस्तेमाल किया जाता है

उसमें कोबाल्ट और एल्युमिनियम होता है जबकि लाल रंग की स्याही में मरक्युरियल सल्फाइड और दूसरे रंगों की स्याही में शीश,

कैडियम, क्रोमियम, निकिल, टाइटेनियम जैसे तत्व और कई दूसरी धातुएं होती हैं। ये भी त्वचा के लिए हानिकारक साबित होती हैं।

एचआईवी का बढ़ रहा खतरा : टैटू की मशीन में लगे संक्रमित खून से एचआईवी, 

हेपेटाइटिस बी एवं सी और त्वचा कैंसर के विषाणु खून के जरिए फैल सकते हैं।

टैटू की स्याही में आर्सेनिक होता है, जिससे त्वचा का कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

हालांकि डॉक्टर्स का कहना है कि यदि आपको टैटू का कुछ ज्यादा ही शौक है तो टैटू बनवाते वक्त कुछ खास सावधानियां रखनी चाहिए:

1.डाई या इंक की क्वालिटी अच्छी हो, ताकि इससे आपके शरीर पर कोई प्रभाव न पड़े।

2.बनाने वाले ने हाथ में दस्ताने पहने हों, ताकि आपके शरीर पर कोई इंफेक्शन न हो और आप सुरक्षित रहें।

3.टैटू बनाते वक्त डिस्पोजेबल निडिल का प्रयोग किया जाए

4.पहले इंक से टेस्ट पेच करवाएं, दो घंटे बाद कोई एलर्जी हो तो न करवाएं।

do-you-have-to-take-precautions-while-making-tattoo-no-then-maybe-cause-cancer

ध्यान रखें कि कई लोगों को इसके कुछ घंटे बाद नहीं बल्कि कुछ दिन बाद समस्या आने लगती है। ऐसे में डॉक्टर के पास जाकर दिखवा लें।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close