Saturday Thoughts :’जरुरत’-‘शोहरत’- ‘विश्वास’ और ‘रिश्ते’ ,सभी एक कागज़ के एक गुलाम है, जिसे हम पैसा कहते है

saturday thoughts in hindi good morning images in hindi suvichar suprabhat in hindi ‘जरुरत’–‘शोहरत’  ‘विश्वास’ और ‘रिश्ते’  सभी एक कागज़ के एक गुलाम है  जिसे हम पैसा कहते है ना बादशाह चलता है  ना इक्का चलता है …. यह खेल है कर्मो का  यहाँ कर्मो का सिक्का चलता है…. सोचने से कहाँ मिलते हैं तमन्नाओं … Continue reading Saturday Thoughts :’जरुरत’-‘शोहरत’- ‘विश्वास’ और ‘रिश्ते’ ,सभी एक कागज़ के एक गुलाम है, जिसे हम पैसा कहते है