breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंलाइफस्टाइल
Trending

Sawan2022: आज है सावन का पहला सोमवार,शिव की कृपा के लिए इस विधि से करें पूजा-व्रत

आज के दिन मंदिरों और शिवालयों में भक्तगण शिव बाबा की असीम कृपा पाने के लिए उन्हें बेल-पत्र और जल अर्पित करते है।

Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-puaj-vidhi-shubh-muhurat 

नई दिल्ली:भगवान शिव को समर्पित माह सावन (Shravan/Sawan) का आज पहला सोमवार है। सावन के महीने में सोमवार व्रत का सर्वाधिक महत्व है। 

माना जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव-शंकर(Shiv)की पूजा और व्रत रखने से ताउम्र आपके ऊपर भगवान शिव का आशीर्वाद बना रहता है और आपकी सभी मनवांछित इच्छाएं पूर्ण होती है।

आज,18 जुलाई 2022 सावन का पहला सोमवार व्रत(Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat) है।

आज के दिन मंदिरों और शिवालयों में भक्तगण शिव बाबा की असीम कृपा पाने के लिए उन्हें बेल-पत्र और जल अर्पित करते है।

इन्हीं दिनों कांवड़ यात्रा भी निकलती है।सभी सावन की धूम और भोले बाबा की भक्ति विराजमान रहती है। हिंदू धर्म में सावन का विशेष महत्व है चूंकि भगवान शिव को समर्पित यह महीना अत्यंत पवित्र माना गया है।

सावन की शुरुआत आषाढ़ पूर्णिमा (Ashadh Purnima) से हो जाती है।सावन के सोमवार का विशेष महत्व होता है।

सावन का सोमवार व्रत (Sawan Somvar Vrat 2022)अगर कुंवारी कन्याएं रखती है तो मनवांछित वर की प्राप्ति होती है और यदि शादीशुदा स्त्री-पुरुष रखते है तो उनका दांपत्य जीवन सुखमय बना रहता है।

यही नहीं,अगर आपने संतान प्राप्ति के लिए भी यह व्रत रखा है तो आपकी इच्छा जल्द ही पूर्ण होती है।

सावन का सोमवार व्रत(Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat)रखने से मनुष्य को जीवन में सुख,संपत्ति,समृद्धि,सम्मान और प्यार प्राप्त होता है।

अब सवाल उठता है कि आखिर सावन सोमवार व्रत की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त क्या है(Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-vidhi-shubh-muhurat)?

आपके इन्हीं सब सवालों के जवाब आज हम इस लेख में दे रहे है।

इस वर्ष श्रावण या सावन मास 14 जुलाई 2022, गुरुवार से शुरू हो गया है और 12 अगस्त, शुक्रवार को समाप्त होगा।

 

Guru Purnima 2022:जानें कब है गुरु पूर्णिमा,क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व

 

 

 

 

 

 

सावन का पहला सोमवार व्रत 2022 पूजा विधि । Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-vidhi-shubh-muhurat 

सावन के महीने में सोमवार व्रत(Sawan Somvar Vrat 2022) का विशेष महत्व होता है चूंकि हिंदू धर्म में सोमवार का दिन विशेष रूप से भगवान शंकर को समर्पित होता है और सावन का पूरा महीना ही भोले बाबा को समर्पित होता है।

इसमें शिवजी की विशेष पूजा-आराधना और व्रत रखने का विधान है। सावन का सोमवार व्रत(Sawan Somvar Vrat 2022)स्त्री-पुरुष दोनों ही रखते है।

ऐसी मान्यता है कि जो सावन मास के प्रत्येक सोमवार को व्रत धारण करते हैं उन्हें भगवान शिव का आशीर्वाद मिलता है और उनके जीवन में सुख, समृद्धि आती है।

 

हिंदू पंचागानुसार, सावन का पहला सोमवार आज, 18 जुलाई 2022 को(Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-puaj-vidhi-shubh-muhurat)है। सावन महीने का आखिरी सोमवार व्रत,25 जुलाई 2022 को होगा।

12 अगस्त 2022 को सावन महीने की समाप्ति हो जाएगी। 

फिर इसके बाद ही भाद्रपद माह की शुरुआत हो जाएगी।

 

Sawan 2022 kab se shuru hai-sawan ka pehla somvar vrat kab hai-Sawan somvar vrat 2022-puja-shubh-muhurat-2
सावन सोमवार व्रत पूजा विधि-शुभ मुहूर्त

 

 

चलिए अब बताते है कि सावन सोमवार व्रत की पूजा विधि,शुभ मुहूर्त-Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-puaj-vidhi-shubh-muhurat

सबसे पहले आप जान लें कि सावन सोमवार की तिथियां कौन-कौन सी है?

 

सावन सोमवार की तिथियां

-14 जुलाई गुरुवार – श्रावण मास शुरू

 

-18 जुलाई सोमवार – सावन सोमवार व्रत

 

-25 जुलाई सोमवार – सावन सोमवार व्रत

 

 

 

Mahashivratri 2022:आज महाशिवरात्रि पर भूल से भी न चढ़ाना ये चीजें,हो जाएंगा अनर्थ!

 

 

सावन सोमवार व्रत-पूजा विधि-Sawan-somvar-vrat-2022-puja-vidhi

 

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत होकर साफ वस्त्र धारण करें।

 

 

  • अब अपने दाहिने हाथ में जल लेकर सावन सोमवार व्रत और पूजा का संकल्प लें।

 

 

  • सभी देवी-देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।

 

 

  • ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव का जलाभिषेक करें।

 

 

  • भगवान को अक्षत, सफेद फूल, सफेद चंदन, भांग, धतूरा, गाय का दूध, धूप पंचामृत, सुपारी और बेलपत्र आदि चढ़ाएं।

 

 

  • सभी सामग्री चढ़ाते हुए ओम नमः शिवाय मंत्र का उच्चारण करते हुए चंदन का तिलक लगाएं।

 

 

  • इसके बाद उनके 108 नाम या ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करें और भगवान शिव का ध्यान करें।

 

 

  • सावन सोमवार व्रत के दिन सोमवार व्रत कथा को अवश्य पढ़ें। और अंत में उनकी आरती करें।

 

 

  • प्रसाद के रूप में भगवान शिव को घी शक्कर का भोग लगाएं। उस प्रसाद को सब में बांटे और स्वयं खाएं।

 

 

Shanti Jayanti 2022:शनि जयंती पर साढ़ेसाती और शनि ढैय्या से मुक्ति पाएं,करें ये 5अचूक उपाय

 

सावन माह पूजा शुभ मुहूर्त । Sawan-2022-Pehla-Somvar-Vrat-puaj-vidhi-shubh-muhurat 

सावन शिवरात्रि व्रत(Shivratri)तिथि 26 जुलाई 2022 मंगलवार।

निशिता काल पूजा मुहूर्त 26 जुलाई मंगलवार शाम 06:46 से 27 जुलाई 2022 की रात 09:11 तक।

पूजा अवधि मात्र 43 मिनट तक

शिवरात्रि व्रत पारण मुहूर्त 27 जुलाई 2022 की सुबह 05:41 से दोपहर 03:52 तक।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button