होम > breaking_news > Wednesday Thoughts : दोस्तों, बहस यह सिद्ध करने के लिये होती है कि “कौन सही है”
breaking_newsअन्य ताजा खबरेंलाइफस्टाइल
Trending

Wednesday Thoughts : दोस्तों, बहस यह सिद्ध करने के लिये होती है कि “कौन सही है”

Wednesday Thought – Daily Thoughts – Motivational Thoughts

दोस्तों, बहस यह सिद्ध करने के लिये होती है कि “कौन सही है”

जब की बातचीत यह तय करती है कि “क्या सही है”।

और बातचीत हमेशा प्यार से होती है।

बड़ा लक्ष्य बड़े त्याग के बिना नहीं मिलता।

कई प्रहार सहने के बाद पत्थर के भीतर छिपा हुआ ईश्वर का रूप प्रगट होता है।

अगर चोटी तक पहुँचना है तो रास्ते के कंकड़ पत्थरों से होने वाले कष्ट को भूलना ही होगा।

आगे बढ़ना है तो बेहरे बन जाओ, कुछ लोगों को छोड़ कर बाकी सब मनोबल गिराने वाले ही होते हैं।

यह भी पढ़े : 

Saturday Thoughts : मन का झुकना बहुत जरूरी है, केवल सर झुकाने से….

Friday Thoughts : बस एक तज़ुर्बा लिया है ज़िन्दगी से.. अपनो के नज़दीक रहना है..

Wednesday Thoughts : डाली से टूटा फूल फिर से लग नहीं सकता है मगर…

Tuesday Thoughts : किसी भी रिश्ते को बनाए रखने के लिए गिड़गिड़ाने की जरुरत नहीं

Sunday Thoughts : असफल होना बुरा है लेकिन प्रयास ही ना करना महाबुरा है

Friday Thoughts : मैं उन लोगों का आभारी हूं जिन्होंने मुझे छोड़ दिया…..

गुरुवार सुविचार : हम आ जाते हैं बहुत जल्दी दुनियां की बातों में गुरु की बातों में

मंगलवार सुविचार : चार आने…साँस बारह आने … तेरा एहसास

Tuesday Thoughts : अपमान करना किसी के “स्वभाव” में हो सकता है

Sunday Thoughts : जिंदगी में सबसे ज्यादा दुःख देता है “बीता हुआ सुख” 

Wednesday Thought – Daily Thoughts – Motivational Thoughts

( इनपुट सोशल मीडिया से )

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close