breaking_newsये क्या
Trending

इस देश में मिलेगा मकान भत्ता, अगर होंगी आपकी दो पत्नियां

यदि आपकी दो पत्नियां है तो सरकार आपको न केवल तरह-तरह की फैसिलिटी देगी बल्कि अलग से मकान भत्ता भी देगी

नई दिल्ली,7अगस्त:Benefits of two wives house allowances-भले ही भारत में दो पत्नियां रखने पर आप कानून के शिकंजे में फंस सकते है लेकिन एक ऐसा देश भी है जहां दो पत्नियां रखने पर सरकार आपको मकान भत्ता देगी।

जी हां, दरअसल, संयुक्त अरब अमीरात ने एक बेहद ही दिलचस्प कानून शुरू किया है।

इसके अंतर्गत यदि आपकी दो पत्नियां है तो सरकार आपको न केवल तरह-तरह की फैसिलिटी देगी

बल्कि अलग से मकान भत्ता (house allowances) भी देगी।

गौरतलब है कि संयुक्त अरब अमीरात में कुंवारी लड़कियों की संख्या बढ़ती ही जा रह है।

इसलिए सरकार ने जनता को दूसरी शादी करने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु ये अजीबोगरीब स्कीम लांच की है।

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के बुनियादी ढांचा विकास मंत्री डॉक्टर अब्दुल्ला बेलहैफ अल

नुईमी ने एफएनसी (FNC) अर्थात फेडरल नेशनल कौंसिल के सेशन के समय इस घोषणा को किया।

बकौल नुईमी उनकी मिनिस्ट्री ने यह डिसिजन लिया है कि शेख जायद हाउसिंग प्रोग्राम के अंतर्गत

दो पत्नियां रखने वाले सभी लोगों को मकान भत्ता मुहैया कराया (Benefits of two wives house allowances) जाएगा।

इसके पीछे उनका तर्क है कि दरअसल, मकान भत्ता दूसरी पत्नी के लिए दिया जाएगा।

यह भत्ता एक पत्नी वाले घर को पहले से मिल रहे मकान भत्ते से एक्स्ट्रा होगा।

मिनिस्टर महोदय ने कहा कि दूसरी पत्नी के लिए भी उसी प्रकार का रहन-सहन होना चाहिए जैसाकि पहली पत्नी के लिए होता है।

मंत्री महोदय ने कहा कि दूसरी शादी करने को लोग प्रोत्साहित तभी होंगे जब मकान भत्ता दिया (Benefits of two wives house allowances) जाएगा

और संयुक्त अरब अमीरात में कुंवारी लड़कियों की संख्या थोड़ी घटेगी। इसलिए सरकार चाहती है कि दूसरी बीवी को भी पहली बीवी की ही तरह मकान की सुविधा मिले।

 

यह भी पढ़े: जो चाहोगे वो मिलेगा…रात के इस समय मांगी…आपकी हर इच्छा होगी पूरी!

यह भी पढ़े: अजब-गजब : भारत के विश्व प्रसिद्द विचित्र 12 अनोखें गावं, देखियें फोटो में

यह भी पढ़े: इस Video को देखकर आप शायद कभी नींबू जूस नहीं पियेंगे..!

Tags

Radha Kashyap

राधा कश्यप लेखन में अपनी रुचि के चलते काफी समय से विभिन्न पब्लिशिंग हाउसेज में काम करती रही है और अब समयधारा के साथ एक लेखिका के रूप में जुड़ी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: