breaking_news Home slider अन्य ताजा खबरें

अगुस्ता वेस्टलैंड: पूर्व वायु सेना प्रमुख एस.पी.त्यागी 30 दिसंबर तक के लिए गए जेल,जमानत याचिका दायर

पूर्व वायुसेना प्रमुख एस पी त्यागी(Photo: IANS)

नई दिल्ली, 18 दिसम्बर:  राष्ट्रीय राजधानी की एक अदालत ने अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले में भारतीय वायु सेना के पूर्व प्रमुख एस.पी.त्यागी तथा दो अन्य को 30 दिसंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। खुद को निर्दोष होने का दावा करते हुए त्यागी ने पटियाला हाउस न्यायालय में एक जमानत याचिका दाखिल की है, जिस पर 21 दिसंबर को सुनवाई होगी।

जांच एजेंसी ने अदालत से कहा कि आरोपियों से अब पूछताछ की जरूरत नहीं है, जिसके बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने त्यागी, उनके रिश्तेदार संजीव त्यागी तथा दिल्ली के वकील गौतम खेतान को न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया।

सुरक्षा पहलू को ध्यान में रखते हुए जेल के अधिकारियों को त्यागी की सुरक्षा का खयाल रखने का निर्देश दिया है और हवालात से एक अलग वाहन से जेल ले जाया गया।

त्यागी तथा अन्य लोगों पर ब्रिटेन की अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से 12 एडब्ल्यू-101 वीवीआईपी हेलीकॉप्टर की खरीद में हुई अनियमितता में संलिप्तता का आरोप है।

कानूनी लड़ाई में पूर्व वायुसेना प्रमुख के साथ एकजुटता दर्शाने के लिए 12 पूर्व एयर मार्शल सहित कम से कम 20 पूर्व सैनिक सुनवाई के दौरान अदालत कक्ष में मौजूद थे।

त्यागी के एक नजदीकी सहयोगी ने आईएएनएस से कहा कि पूर्व वायुसेना प्रमुख को सैनिकों का पूरा समर्थन है।

मामले के दो अन्य आरोपियों ने भी जमानत की याचिका दाखिल की है। अदालत ने जांच एजेंसी को इन याचिकाओं पर जवाब दाखिल करने को कहा गया है।

पूर्व वायु सेना प्रमुख ने जांच में सहयोग का आधार देते हुए जमानत की मांग की है।

त्यागी की वकील मेनका गुरुस्वामी ने कहा कि वह युद्धवीर रह चुके हैं और न्याय से भाग नहीं रहे हैं तथा अदालत की शर्तो का पालन करेंगे।

पूर्व वायु सेना प्रमुख ने कहा कि मामला दस्तावेजी सबूतों पर आधारित है, इसलिए अगर उन्हें जमानत दी जाती है, तो वह न तो सबूतों को प्रभावित करेंगे और न ही सबूतों के साथ छेड़छाड़ करेंगे।

वहीं खेतान के वकील प्रमोद कुमार दूबे ने भी जमानत के लिए यही तर्क दिया।

अपनी याचिका को मजबूती प्रदान करने के लिए दूबे के वकील ने अदालत से कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा एक अलग मामले की जांच के दौरान खेतान को मिली जमानत का उन्होंने कभी दुरुपयोग नहीं किया।

–आईएएनएस

 

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment