breaking_newsHome sliderक्रिकेटखेल

आईपीएल : अब ऑरेंज कैप वार्नर से कोई भी नहीं ले सकता

नई दिल्ली, 21 मई : मौजूदा विजेता सनराइजर्स हैदराबाद की टीम इस बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 10वें संस्करण के फाइनल में भले ही न पहुंच पाई हो लेकिन उसके कप्तान फाइनल के बाद भी मौजूदा संस्करण में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी के तौर पर ऑरैंज कैप अपने पास रखते हुए सीजन का अंत करेंगे। आईपीएल के फाइनल में मुंबई इंडियंस और राइजिंग पुणे सुपरजाएंट की टीमें रविवार को खिताबी मुकाबला खेलेंगी।

वार्नर ने इस आईपीएल में 14 मैचों में 58.27 की औसत से 641 रन बनाए हैं, जिसमें एक शतक और चार अर्धशतक शामिल हैं। इस संस्करण में उनका स्ट्राइक रेट 141.81 का रहा है।

फाइनल में पहुंची टीमों का कोई भी बल्लेबाज वार्नर के स्कोर के करीब नहीं है। लीग के इस संस्करण में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों में पुणे के कप्तान स्टीवन स्मिथ पांचवें स्थान पर हैं।

स्मिथ के अभी तक 14 मैचों में 38.27 की औसत से 421 रन हैं। उन्हें अगर वार्नर की बराबरी भी करनी है तो फाइनल में 220 रन बनाने होंगे, जो टी-20 के लिहाज से नामुमकिन लगता है।

स्मिथ से पहले जो तीन बल्लेबाज हैं उनमें कोलकाता नाइट राइडर्स के गौतम गंभीर (498), हैदराबाद के शिखर धवन (479) और गुजरात लायंस के सुरेश रैना (442) हैं उनकी टीमें फाइनल में नहीं पहुंची हैं।

वहीं मुंबई की तरफ से इस संस्करण में सबसे ज्यादा रन उसके सलामी बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने बनाए हैं। पटेल ने 15 मैचों में 26.06 की औसत से 391 रन बनाए हैं जिसमें दो अर्धशतक शामिल हैं। रनों के लिहाज से पटेल, वार्नर से 250 रन पीछे हैं।

इस स्थिति में वार्नर की बराबरी करने वाला बल्लेबाज दूर-दूर तक नजर नहीं आता, लिहाजा ऑरैंज कप वार्नर के पास ही रहने की पूरी-पूरी संभावना है।

–आईएएनएस

Tags

समयधारा

समयधारा एक तेजी से उभरती हिंदी न्यूज पोर्टल है। जिसका उद्देश्य सटीक, सच्ची और प्रामाणिक खबरों व लेखों को जनता तक पहुंचाना है। समयधारा ने अपने लगभग महज चार साल के सफर में बिना मूल्यों से समझौता किए क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी कंटेंट पर हमेशा ज़ोर दिया है। एक आम मध्मय वर्गीय परिवार से निकली लड़की रीना आर्य के सपनों की साकार डिजिटल मूर्ति है- समयधारा। रीना आर्य समयधारा की फाउंडर, एडिटर-इन-चीफ और डायरेक्टर भी है। उनके साथ समयधारा को संपूर्ण बनाने में अहम भूमिका निभाई है समयधारा के को-फाउंडर-धर्मेश जैन ने। एक आम मध्यमवर्गीय परिवार में जन्में धर्मेश जैन पेशे से बिजनेसमैन रहे है और लेखन में अपने जुनूूून के प्रति उन्होंने समयधारा की नींव रखने में अहम रोल अदा किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: