होम > खेल > आईपीएल 12 > #HappyBirthdaySachin-भारत रत्न सचिन तेंदुलकर हुए आज 46 के, ये लम्हा है दिल के करीब
breaking_newsअन्य ताजा खबरेंआईपीएल 12क्रिकेटखेल
Trending

#HappyBirthdaySachin-भारत रत्न सचिन तेंदुलकर हुए आज 46 के, ये लम्हा है दिल के करीब

वर्तमान में आईपीएल 12 (IPL 12)  में सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस टीम के मेंटर का रोल निभा रहे है

नई दिल्ली, 24 अप्रैल: #HappyBirthdaySachinTendulkarभारत रत्न (4 फरवरी 2014) से सम्मानित और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक जड़ने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का आज 46वां जन्मदिन (bharat Ratna Sachin Tendulkar 46th birthday today) हैसचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को हुआ था और आज देश इस महान खिलाड़ी का जन्मदिन पूरे धूमधाम से मना रहा है। सचिन तेंदुलकर भारतीय इतिहास के सबसे पहले और जवां खिलाड़ी है जिन्हें महज 40 साल की उम्र में पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न ((bharat Ratna Sachin Tendulkar) से 4 फरवरी 2014 को सम्मानित किया गया।

मुंबई में जन्मे सचिन रमेश तेंदुलकर ने वर्ल्ड क्रिकेट में 24 साल तक अपनी बल्लेबाजी का जादू दिखाया और दुनिया को बताया कि कैसे किसी भी प्रकार की गेंद को खेला जा सकता है। सचिन तेंदुलकर के जन्मदिन (Sachin Tendulkar  Birthday) पर फैंस ने टॉप पर हैशटैग #HappyBirthdaySachin ट्रेंड किया है।

सचिन तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट का वो ध्रुवतारा है जो सदियों तक जगमगाता रहता है और उसकी चमक से पूरा आकाश-मंडल रोशन रहता है। आज सचिन तेंदुलकर के बर्थ डे पर फैंस इस दिन को किसी फेस्टिवल से कम नहीं मान रहे और उनके देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी करोड़ों फैंस है।

सचिन तेंदुलकर अपने गुरू रमाकांत आचरेकर को क्रिकेट की दुनिया का भगवान मानते रहे है। भले ही सचिन के कोच रमाकांत आचरेकर अब इस दुनिया को अलविदा कहकर चले गए है लेकिन अपने शिष्य के रूप में सचिन तेंदुलकर को भारतीय क्रिकेट को देकर देश को गौरवांवित कर गए है।

गौरतलब है कि वर्तमान में आईपीएल 12 (IPL 12)  में सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस टीम के मेंटर का रोल निभा रहे है। क्रिकेट मैदान पर यंग क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए सचिन तेंदुलकर की मौदूगी ही प्रेरणा का काम करती है और क्रिकेट की बारीकियां सीखने का अवसर प्रदान करती है।

अपने क्रिकेट सफर में सचिन तेंदुलकर ने कई नायाब पारियां खेली और कई यादगार और शानदार लम्हें देश को दिए। ऐसे में यह जानना खासा दिलचस्प होगा कि खुद सचिन तेंदुलकर को कौना सा लम्हा (पारी) सबसे ज्यादा पसंद है।

सचिन तेंदुलकर के दिल के करीब है ये लम्हा

यूं तो भारत रत्न सचिन तेंदुलकर (bharat Ratna Sachin Tendulkar 46th birthday)  ने क्रिकेट की कई शानदार पारियां खेली है। शायद ही कोई देश रहा हो जहां उन्होंने खेलकर अपने बल्ले की अमिट छाप न छोड़ी हो लेकिन क्रिकेट के सैकड़ों लम्हों में एक लम्हा यानि पारी ऐसी भी रही है जो आजतक सचिन तेंदुलकर को सबसे ज्यादा पसंद है और उनके दिल को छू लेती है। ये लम्हा था- सचिन तेंदुलकर का ऑस्ट्रेलिया में (1992) के खिलाफ सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेली गई नाबाद 148 रनों की पारी। सचिन के लिए ये पारी इसलिए खास थी चूंकि ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सेंचुरी लगाने वाले सचिन तेंदुलकर उस समय सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए थे।

इतना ही नहीं, सचिन ने अपने जादुई बल्ले का करिश्मा उस समय दिखाया जब उनके समक्ष मैकडरमॉट, ब्रूस रीड, मर्व ह्यूज और शेन वॉर्न सरीखे तेजतर्रार गेंदबाज उपलब्ध थे।

ऐसे बेमिसाल गेंदबाजों और स्पिनर्स के साथ सिडनी क पिच पर सचिन तेंदुलकर वो खिलाड़ी थे जिनके पास महज तीन साल के इंटरनेशनल क्रिकेट का एक्सपीरियंस था और तब उनके खात में केवल 666 रन थे। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम ने पहले बल्लेबाजी की थी और डेविड बून (नाबाद 129) की सेंचुरी के दम पर एक बड़ा स्कोर 313 रनों का खड़ा किया था। जब ऑस्ट्रेलियाई टीम को जवाब देने भारतीय टीम मैदान में उतरी तो उसके दिग्गज खिलाड़ी एक-एक करके आउट हो गए। नवजोत सिंह सिद्धू 7 रन पर आउट हो गए और रवि शास्त्री (206) ने डबल सेंचुरी मारकर इस पारी को संभाल लिया। इस पारी में सचिन तेंदुलकर छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने मैदान में उतरे। उस पारी में तेंदुलकर ने हुए 213 गेंदों में नाबाद 148 रनों की विशाल पारी खेली जिसमें 14 चौक्के शामिल है। ये रिकॉर्ड सचिन ने 298 मिनट में बनाया।

ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज उस पारी में केवल मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को आउट नहीं कर सके थे। भारत ने उनके ही दम पर ऑलआउट होने से पहले एक विशाल स्कोर 483 रनों का खड़ा किया था।

ऑस्ट्रेलिया ने लास्ट डे में दूसरी पारी 173 रन 8 विकेट पर बनाए और तब भारत ने इस मैच को ड्रॉ कर लिया। रोचक बात यह है कि सचिन तेंदुलकर ने अपने बल्ले का कमाल पर्थ में इस श्रृंखला के पांचवें और लास्ट मैच में भी दिखाया और वर्ल्ड की सबसे डेंजर्स कही जाने वाली पिच (वाका पिच) पर 114 रनों की दिलचस्प पारी खेली। गौरतलब है कि इस पारी में भारतीय क्रिकेट के दिग्गज कपिल देव, अजहरुद्दीन, वेंगसरकर और श्रीकांत इत्यादि की बल्लेबाजी भी खास कमाल नहीं दिखा सकी थी।

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close