breaking_newsअन्य ताजा खबरेंएप्सटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेश
Trending

Chinese Apps- सरकार ने और 47 चाइनीज एप्स को किया बैन, 59 पहले से ब्लॉक

इससे पहले भारत सरकार जून में ही 59 चाइनीज एप्स को देश में बैन कर चुकी है...

नई दिल्ली: India banned 47 more Chinese Apps again- भारत चीन के और 47एप्स को बैन कर दिया है। इससे पहले भारत सरकार जून में ही 59 चाइनीज एप्स (59 Chinese apps ban in India) को देश में बैन कर चुकी है।

अब इस एक्शन के तकरीबन एक महीने बाद भारत सरकार ने फिर से 47 चाइनीज एप्स के इस्तेमाल को देश में प्रतिबंधित कर दिया है,जोकि पहले बैन हुए एप्स के क्लोन थे।

सरकार ने अब जिन 47 एप्स को बैन किया है, उनकी लिस्ट जल्दी ही प्रकाशित की जाएगी।

हालांकि सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि अब जिन 47चाइनीज एप्स को बैन(India banned 47 more Chinese Apps again) किया गया है वे पहले बैन किए गए 59 चाइनीज एप्स के क्लोन के रूप में पाये गए थे।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा 59 बैन एप्स के आदेशों का सख्ती से पालन करने या उल्लंघन के मामले में गंभीर कार्रवाई के रूप में ये नए 47एप्स पर बैन की बात निकल कर आई है।

टेलीकॉम मिनिस्ट्री ने संबंधित सभी कंपनियों को एक लैटर लिखकर कहा है कि डायरेक्ट और इनडायरेक्ट तरीके से एप उपलब्ध कराना IT अधिनियम और अन्य कानूनों का उल्लंघन है।

गौरतलब है कि भारत-चीन सीमा विवाद (India-China border tension) के चलते लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 20 भारतीय जवानों ने शहादत दी

इसके बाद से ही देश के नागरिकों का गुस्सा समझते हुए सरकार ने चीन पर आर्थिक दबाव डालने की रणनीति अख्तियार करते हुए चीन के लोकप्रिय टिकटॉक(TikTok)और हेलो (Helo) एप सहित 59चाइनीज एप्स के इस्तेमाल को भारत में बैन कर दिया था।

भारत सरकार ने 29 जून को यूसी ब्राउजर (UC Browser), शेयर इट, हैलो, लाइक, कैम स्कैनर (Cam scammer), शीन क्वाई आदि सहित 59 चीनी एप ब्लॉक किए थे।

भारत सरकार ने इन 59चाइनीज एप्स को यह कहकर बैन किया था कि  वह भारतीय नागरिकों का डाटा सुरक्षित नहीं करते।

हालांकि इन कंपनियों ने सरकार के इस दावे को सिरे से नकारा और कहा कि वह जल्द ही सरकार से इस बाबत बात करेंगे।

 

India banned 47 more Chinese Apps again

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: