breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक्नोलॉजीदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंलाइफस्टाइलसोशल मीडिया
Trending

Alert..! सोशल मीडिया पर लड़कियों के नाम से हो सकते है FAKE अकाउंट

सावधान! फेसबुक पर लड़की समझकर जिससे कर रहे है बात...कहीं वो ये ठग लड़का तो नहीं…

नई दिल्ली, 8 जून (समयधारा) : सोशल मीडिया में फेसबुक का स्थान काफी महत्वपूर्ण है।

यहां आप आसानी से अनजान लोगों के साथ पहचान बनाकर दोस्त बना सकते है।

आप घर बैठे ही देश और दुनिया से संपर्क साध सकते है। एक ओर जहां इसके फायदे है

वहीं फेसबुक पर अनजान से दोस्ती आपके जी का जंजाल भी बन सकती है। ऐसा ही एक वाक्या हाल में हुआ है।

दरअसल, भिवंडी के दिवेगांव में रहने वाले विश्वनाथ पाटिल ने फेसबुक पर जया पाटिल नाम से एक फेक आईडी बनाया।

24 वर्षीय विश्वनाथ पाटिल उर्फ जया ने ठगी का जाल बिछाकर अब तक 14 लड़कियों को ठगा।

विश्वनाथ ने जया बनकर उन लड़कियों को निशाना बनाया जो नौकरी की तलाश में जुटी थी।

वह उनसे मोबाइल नंबर्स लेता और व्हाट्सएप पर नजदीकियां बढ़ाकर भरोसा जीतता और बातचीत करता था।

विश्वनाथ लड़कियों को नौकरी का ख्वाब दिखाकर उनसे उनका रुपैया ऐंठता था।

इसके लिए वह लड़कियों को जया नामक लड़की बनकर कहता कि नौकरी के लिए वह उसके भाई से मिले और खुद को बैंकर बताता था।

इसके बाद जब लड़कियां उसके झांसे में आ जाती तो उनका धन और कीमती सामान लेकर चंपत हो जाता।

 यह मामला पुलिस के सामने तब आया जब दो लड़कियों ने भयंदर पुलिस के पास जाकर मदद की दरख्वास्त की।

जया नामक लड़की की आईडी की जांच क्राइम ब्रांच कश्मीरा को दी गई

और जांच करने पर सामने आया कि जया कोई लड़की नहीं बल्कि विश्वनाथ नामक लड़का है।

बस इस सुराग से पुलिस ने जया का अकाउंट खंगाला और उसमें

उन तमाम लड़कियों से हुई बातचीत का रिकॉर्ड मिला,जिन्हें नौकरी और शादी का झांसा दिया गया था।

कल्याण में रहने वाली लड़की को जब विश्वनाथ ठीक इसी तरह ठगने वाला था

तो पुलिस ने विश्वानाथ के ही अंदाज में उसे कल्याण स्टेशन पर उसे धर-दबोचा।

इसके लिए पुलिस ने एक नाटक रचा और उसे गिरफ्तार कर लिया।

विश्वनाथ रेलवे स्टेशन्स पर अपनी शिकार लड़कियों से मिला करता था और ऐफिडेविट बनवाने के बहाने

उनसे ढ़ेर सारा कैश व बहुमूल्य जेवर लेकर गायब हो जाता था। पुलिस अब जया की प्रोफाइल में लगी महिला के बारे में भी खोजबीन कर रही है। 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: