breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेशराजनीति
Trending

क्या आपके प्रिय नेता की वेबसाइट ‘https’ से युक्त है…? नहीं तो है ख़तरा..!!

Does your favorite leader’s website contain ‘https’ Otherwise danger alert

नई दिल्ली, 9 मार्च : क्या आपके प्रिय नेता की वेबसाइट HTTPS से युक्त है…? नहीं तो है ख़तरा..!! 

ऐसे वक्त में जब देश की सत्ताधारी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की वेबसाइट लगातार दूसरे दिन बुधवार को भी नहीं खोली जा सकी,

एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि भारत की 84 फीसदी राजनीतिक वेबसाइटें असुरक्षित हैं।

ब्रिटेन की कस्टमर टेक रिव्यू कंपनी कंपेरीटेक के शोध के अनुसार,

जहां एक-चौथाई राजनेताओं की खुद की वेबसाइटें हैं, उनमें से 83.87 प्रतिशत असुरक्षित हैं।

बड़े राजनीतिक दलों में से एक शिव सेना (89 प्रतिशत) का प्रदर्शन सबसे खराब है,

वहीं भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (74 प्रतिशत) का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ है।

आंकड़ों के अनुसार, भाजपा सदस्य अपनी 84.62 प्रतिशत वेबसाइटों को सुरक्षित करने में असफल रहे हैं।

अध्ययन के लिए, कंपेरीटेक ने दुनियाभर के 37 देशों के 7,500 से ज्यादा राजनेताओं की वेबसाइटें एसेस कीं।

इन वेबसाइटों में प्रति पांच नेताओं में से तीन वेबसाइटों में मूल एचटीटीपीएस (हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल सिक्योर) एनक्रिप्शन की कमी थी।

शोधकर्ताओं ने पाया कि विकासशील देश (74.98 प्रतिशत) के नेताओं की वेबसाइटों के

एचटीटीपीएस के बिना होने की संभावना विकसित देशों (64.46 प्रतिशत) की अपेक्षा ज्यादा होती है।

जहां अमेरिका में 26.22 प्रतिशत नेताओं की वेबसाइटें असुरक्षित हैं वहीं ब्रिटेन में 30.65 प्रतिशत नेताओं की वेबसाइटें असुरक्षित हैं। 

दुनिया में असुरक्षित वेबसाइटों वाले सर्वाधिक 92 प्रतिशत नेताओं वाला देश दक्षिण कोरिया है।

इसके बाद पोलैंड (91.16 प्रतिशत), हंगरी (90.91 प्रतिशत), कनाडा (86.25 प्रतिशत) और माल्टा (86.21 प्रतिशत) व अन्य देश हैं।

Does your favorite leader’s website contain ‘https’ Otherwise danger alert

आईएएनएस

Tags

समयधारा

समयधारा एक तेजी से उभरती हिंदी न्यूज पोर्टल है। जिसका उद्देश्य सटीक, सच्ची और प्रामाणिक खबरों व लेखों को जनता तक पहुंचाना है। समयधारा ने अपने लगभग महज चार साल के सफर में बिना मूल्यों से समझौता किए क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी कंटेंट पर हमेशा ज़ोर दिया है। एक आम मध्मय वर्गीय परिवार से निकली लड़की रीना आर्य के सपनों की साकार डिजिटल मूर्ति है- समयधारा। रीना आर्य समयधारा की फाउंडर, एडिटर-इन-चीफ और डायरेक्टर भी है। उनके साथ समयधारा को संपूर्ण बनाने में अहम भूमिका निभाई है समयधारा के को-फाउंडर-धर्मेश जैन ने। एक आम मध्यमवर्गीय परिवार में जन्में धर्मेश जैन पेशे से बिजनेसमैन रहे है और लेखन में अपने जुनूूून के प्रति उन्होंने समयधारा की नींव रखने में अहम रोल अदा किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: