breaking_newsटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेश
Trending

Happy Republic Day 2019: Google ने भारत के 70 वें गणतंत्र दिवस पर बनाया ये खास Doodle

आज भारतीय गणतंत्र दिवस को पूरे 70 वर्ष हो गए है और केवल भारतीय ही नहीं बल्कि गूगल भी हमारे देश के गणतंत्र दिवस को खास डूडल बनाकर बधाईयां दे रहा है।

#Google Doodle celebrating India 70th Republic Day 2019– गूगल (Google)ने भारत के 70वें गणतंत्र दिवस (India 70th Republic Day) पर खासतौर से डूडल (Doodle) बनाया है। आज भारतीय गणतंत्र दिवस को पूरे 70 वर्ष हो गए है और केवल भारतीय ही नहीं बल्कि गूगल भी हमारे देश के गणतंत्र दिवस को खास डूडल बनाकर बधाईयां दे रहा है।

नई दिल्ली, 26 जनवरी: #Google Doodle celebrating India Republic Day 2019- आज भारत का 70वां गणतंत्र दिवस है और पूरा देश धूमधाम से गणतंत्र दिवस (Republic Day)मना रहा है। इस अवसर पर वैश्विक सर्च इंजन गूगल (Google)  ने भारतीय गणतंत्र को विशेष रूप से बधाई देने के लिए खास डूडल (Doodle)  बनाया है और प्रत्येक भारतीय को ये नायाब तोहफा दिया है।

Google Doodle ने गणतंत्र दिवस को India Republic Day 2019 नाम दिया है। गूगल का रिपब्लिक डे पर बनाया डूडल बेहद ही खास है जोकि पूरी तरह भारतीय संस्कृति को समाहित करता है।

Google Doodle celebrating India 70th Republic Day 2019

गूगल ने अपने डूडल को रंगबिरंगी छटा से सजाया है। ठीक वैसे ही जैसे हमारे देश में विभिन्न भाषाएं,बोलियां,संस्कृति और धर्म है लेकिन जब सभी साथ मिल जाते है तो अनेकता में एकता का पाठ पढ़ाते है। हमारे संविधान में भी जो सार्वभौमिकता है वहीं गूगल ने अपने डूडल में विशेष रूप से दिखाई है।

प्रत्येक भारतीय के लिए आज गणतंत्र दिवस (Republic Day) का दिन बेहद ही खास है और इसलिए ही गूगल ने सभी देशवासियों को बधाई देने हेतु ये सतरंगी डूडल बनाया है। भारत के गणतंत्र दिवस पर बनाएं गूगल के डूडल में पीछे की ओर भारतीय संविधान को बनाने वाला संसद भवन है तो एकदम आगे की ओर देश की सबसे ऊंची मीनार कुतुब मीनार है। कुतुब मीनार को Google के L की जगह स्थापित किया गया है। इस गूगल डूडल की विशेषता यह है कि इसमें देश की सतरंगी सभ्यता और संस्कृति झलक रही है। भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर भी गणतंत्र दिवस के डूडल में दिख रहा है और पशु हाथी भी Google के जी में दिख रहा है।

पंद्रह अगस्त के बाद गणतंत्र दिवस एक ऐसा राष्ट्रीय पर्व है जिसे पूरा देश एकसाथ धूमधाम से बिना किसी भेदभाव के मनाता है। गणतंत्र दिवस किसी एक प्रांत,एक धर्म या एक जात का नहीं बल्कि पूरे भारतवर्ष का है।

26 जनवरी 1950 को देश के संविधान को लागू किया गया था। इसी संविधान के कारण है भारत में न्याय,नागरिकता और कानून का पालन होता है। संविधान ही किसी देश की मूल आत्मा होता है और देश की इस मूल आत्मा को भारत को संविधान निर्माता बाबा भीमराव अंबेडर ने रचकर देश को दिया था।

भारत के एक ऐसा देश है जहां विभिन्न धर्म,जात,वर्ग व प्रांत के लोग हमेशा अपने-अपने त्यौहार हर्षोउल्लास से मनाते रहते है लेकिन गणतंत्र दिवस स्वतंत्रता दिवस के बाद एक ऐसा राष्ट्रीय पर्व है जो देश की माला के विभिन्न मोतियों को एकसाथ संविधान रूपी माला में पिरोता है। हमारे देश के संविधान की बदौलत ही भारत एक लोकतांत्रिक देश बन सका है।

आज गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर देश के राष्ट्रपति हमारी सुरक्षा में चाक-चौबंद रहने वाली तीनों सेनाओं वायु,थल,जल से 21 तोपों की सलामी लेते है। रिप्ब्लिक डे की परेड (Republic Day Parade) देश की राजधानी दिल्ली के राजपथ पर आयोजित होती है और इस परेड में हमारी तीनों सेनाओं के जाबांज जवान अपने हैरतअंगेज करतब दिखाते है।

भारत के 70वें गणतंत्र दिवस पर विशेष गेस्ट के रूप में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा (cyril ramaphosa) को निमंत्रण दिया गया है। आज के दिन देश के सभी राज्य अपने-अपने प्रांत की सभ्यता और संस्कृति की छटा झांकियों के रूप में निकालते है और पूरे विश्व को दिखाते है कि हम भारतीय भले ही बहुल व विभिन्न दिखते हो लेकिन हमारी आत्मा और देश की संस्कृति एक ही है।

26 जनवरी पर निकाली जाने वाली परेड में न केवल संस्कृति की झलक दिखती है बल्कि देश के भविष्य की योजनाओं को साकार करती हुई झांकियां भी निकाली जाती है। सेना विशेष रूप से अपना पराक्रम दिखाती है। आज के दिन प्रत्येक भारतीय में एक अलग ही जोश और देशभक्ति की भावना से लबरेज दिखता है।

इस बार देश के 70वें गणतंत्र दिवस पर तीनों सेनाओं के सेनापति यानि हमारे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President RamNath Kovind) विशेष रूप से शहीदों को सम्मानित करेंगे और उन्हें परमवीर चक्र,अशोक चक्र सरीखे वीरतापूर्ण अलंकारों से सम्मानित करेंगे।

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति कोविंद ने देश के नाम अपना संबोधन दिया और कहा कि भारत की बहुलता ही हमारी सच्ची ताकत है। राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे आज के निर्णय ही 21वीं सदी के भारत का स्वरूप तैयार करेंगे।

राष्ट्रपति ने देशवासियों को उनकी जिम्मेदारियों का अहसास कराते हुए स्मरण करवाया कि इस बार देश अपनी 17वीं लोकसभा के चुनाव के लिए मतदान करने की जिम्मेदारी निभाएं और अपने मताधिकार का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि देशवासियों को अपने देश के लोकतांत्रिक मूल्यों और मान्यताओं पर पूरी निष्ठा रखनी चाहिए।

यह भी पढ़े: Google’s 20th Birthday: आज Google मना रहा अपना 20वां जन्मदिन,Doodle वीडियो ने याद दिलाई ये लोकप्रिय सर्चेस

यह भी पढ़े: Google का Doodle भारत के गणतंत्र दिवस (Republic Day) को समर्पित

यह भी पढ़े: Google ने अपना Doodle समर्पित किया ब्रिटेन में पहला भारतीय रेस्टोरेंट खोलने वाले शेक दीन मोहम्मद को

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: