breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेश
Trending

ISRO को मिल गया Chandrayaan 2 विक्रम लैंडर का पता, संपर्क साधने की कोशिश जारी

ऑर्बिटर ने लैंडर विक्रम की थर्मल इमेज भी खींची है..

नई दिल्ली, (समयधारा) : ISRO claim found Chandrayaan 2 Vikram lander- ISRO चीफ के सिवन ने रविवार को जानकारी दी कि चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर (Chandrayaan 2 Vikram lander) का पता लग गया है (ISRO claim found Chandrayaan 2 Vikram lander)।

ऑर्बिटर ने चंद्रयान-2 के लैंडर  की थर्मल इमेज भी खींची है।

लेकिन फिलहाल इसरो वैज्ञानिकों का विक्रम लैंडर से संपर्क नहीं हो सका है चूंकि ऑर्बिटर का उससे संपर्क नहीं हो सका है।

बकौल न्यूज एजेंसी एएनआई (ANI) को इसरो चीफ (ISRO chief) ने इसकी जानकारी दी है।

ISRO प्रमुख के. सीवन ने कहा कि ‘चंद्रमा पर गए ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर का पता लगा लिया है। ऑर्बिटर ने लैंडर विक्रम की थर्मल इमेज भी खींची है लेकिन फिलहाल ऑर्बिटर का उससे संपर्क नहीं हो सका है।

हम सभी संपर्क साधने की जुगत में है और उम्मीद है कि जल्द ही चंद्रयान-2 विक्रम लैंडर (Chandrayaan 2 Vikram lander) से संपर्क स्थापित हो जाएगा।’

Isro claim found Chandrayaan 2 Vikram lander-

ISRO प्रमुख के इस बयान के साथ ही देश और सोशल मीडिया में खुशी की लहर दौड़ गई और ट्विटर पर हैशटैग #VikramLanderFound टॉप पर ट्रेंड करने लगा।

गौरतलब है कि भारत के चंद्रयान-2 मिशन (Chandrayaan 2 mission) को शनिवार तड़के तब गहरा धक्का लगा जब चंद्रमा की सतह से 2.1 किमी. की ऊंचाई रह जाने पर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर का धरती से संपर्क टूट गया।

ISRO के अनुसार, विक्रम लैंडर चंद्रमा के साउथ पोल की ओर बढ़ रहा था लेकिन यकायक उसका संपर्क टूट गया।

इसलिए आधिकारिक तौर पर इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी थी कि चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) कितना सफल रहा।

हालांकि अब कहा जा रहा है कि लैंडर विक्रम की लोकेशन (ISRO claim found Chandrayaan 2 Vikram lander) पता लगने से इतना स्पष्ट है कि यह मिशन 90-95 प्रतिशत सफल रहा है।

चंद्रयान के लैंडर से संपर्क टूटने पर जब इसरो वैज्ञानिकों में निराशा छा गई तब पीएम मोदी (PM Modi) ने इसरो चीफ को गले लगाकर हताश न होने के लिए कहा और देश को उनपर गर्व है…कहकर उत्साहित किया था।

नासा ने भी इसरो के चंद्रयान-2 मिशन को प्रेरणास्रोत करार दिया है और उनके प्रयास की सरहाना की है।

यह भी पढ़े: ISRO का यह जासूस सिर्फ तीन दिन में पता लगा लेगा खोये विक्रम लैंडर का ….!

सिर्फ विक्रम लैंडर ही सफल लैंडिंग करने में सफल नहीं रहा  बल्कि भारत ने एक अन्य बड़ी उपलब्धि भी हासिल की है l

वह है चंद्रमा की कक्षा में अपना जासूस मतलब ऑर्बिटर को पहुंचाना – जिसकी उम्र पहले इसरो ने सिर्फ एक साल बताई थी l

इसरो के एक वरिष्ठ वकील ने यह जानकारी दी कि ऑर्बिटर की उम्र साढ़े 7 सालों से ज्यादा है, न कि 1 साल, जैसा कि पहले बताया गया था।

live-chandrayaan-2-moon-landing-video-from-isro
live-chandrayaan-2-moon-landing-video-from-isro

इसकी वजह है कि उसके पास बहुत ज्यादा ईंधन बचा हुआ है।

ऑर्बिटर पर लगे उपकरणों के जरिए लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है।’  3 दिनों में लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है।

इसकी वजह यह है कि लैंडर से जिस जगह पर संपर्क टूटा था, उसी जगह पर ऑर्बिटर को पहुंचने में 3 दिन लगेंगे। हमें विक्रम के लैंडिंग साइट की जानकारी है।

आखिरी क्षणों में विक्रम अपने रास्ते से भटक गया था, इसलिए हमें ऑर्बिटर के 3 उपकरणों SAR (सिंथेटिक अपर्चर रेडार),

IR स्पेक्ट्रोमीटर और कैमरे की मदद से 10 x 10 किलोमीटर के इलाके को छानना होगा।

विक्रम का पता लगाने के लिए हमें उस इलाके की हाई रेजॉलूशन तस्वीरें लेनी होंगी।’

तो  दोस्तों हिम्मत नहीं हारना इसरो अपने खोये विक्रम लैंडर को किसी भी तरह से खोज लेगा l

बस वह पूरी तरह से चकनाचूर न हुआ हो l अगर सॉफ्ट लैंडिंग के समय वह थोड़ा बहुत क्षतिग्रस्त हो गया हो,

तो उसकी जानकारी पाना मुश्किल नहीं होगा l इसरों के सभी वैज्ञानिक इस काम में जी जान से जुटे है l 

गौरतलब है कि सात तारीख की तडके सुबह विक्रम लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया था l 

इससे पहले क्या-क्या हुआ चंद्रयान 2 के साथ जानियें l 

Communication lost with #VikramLander at 2.1 km from Lunar surface.
Communication lost with #VikramLander at 2.1 km from Lunar surface.

detective-of-isro-will-find-out-lost-vikram-lander-in-3-days

चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर (#Chandrayaan2 #VikramLander) की चांद की सतह (Lunar Surface) पर सफल लैंडिंग का शनिवार,

7 सितंबर 2019 देश और दुनिया को बेसब्री से इंतजार था लेकिन ऐन वक्त पर लैंडर विक्रम के साथ संपर्क टूट (communication lost from Vikram Lander) गया।

अभी थोड़ी देर पूर्व इसरो (Isro) प्रवक्ता ने बताया है कि “चांद की सतह से  2.1 किमी तक Chandrayaan2 के लैंडर विक्रम से संपर्क था लेकिन उसके बाद में संपर्क टूट गया (communication lost from Vikram lander confirms ISRO)।” 

live-chandrayaan-2-moon-landing-news-updates-in-hindi, Moon Chandrayaan 2 : जानियें भारत के नए आशियाने 'चाँदघर' के बारे में
Moon Chandrayaan 2 : जानियें भारत के नए आशियाने ‘चाँदघर’ के बारे में

इसके कारण डाटा मिल नहीं सकें है। Isro ने कहा है कि डाटा का अध्ययन किया जा रही है। इसलिए प्रस्तावित प्रेस कॉन्फ्रेंस भी अब रद्द हो गई है।

detective-of-isro-will-find-out-lost-vikram-lander-in-3-days

गौरतलब है कि चंद्रयान-2 (Chandrayaan2) के लैंडर का चांद की सतह पर लैंडिंग मिशन (Chandrayaan2 landing latest update) शुरू हो गया था लेकिन लैंडर विक्रम से संपर्क टूटने से इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है कि चंद्रयान-2 मिशन सफल रहा या नहीं।

इसरो के अध्यक्ष के. सिवन (Isro chief Dr K Sivan) ने कहा है कि लैंडर विक्रम (#VikramLander) से संपर्क तब टूटा जब लैंडर विक्रम चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाली जगह से 2.1 किमी. दूर था।

mission-chandrayaan-2-success-all-news-updates-in-hindi
mission-chandrayaan-2-success-all-news-updates-in-hindi

हालांकि इसरो के चीफ सिवन ने कहा है कि फिलहाल अभी आंकड़ो का इंतजार किया जा रहा है।

चंद्रयान-2 के मिशन (Chandrayaan2 landing mission) के इस हश्र से जहां एक ओर वैज्ञानिकों में निराशा थी तो वहीं पीएम मोदी (PM Modi) ने इसरो वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि आपने काम अच्छा किया है। जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते है। यह सफर जारी रहेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “जब मिशन बड़ा होता है तो निराशा से पार पाने का हौंसला होना चाहिए। मेरी तरफ से आप सभी को बहुत बधाई है। देश को आप पर गर्व है।”

detective-of-isro-will-find-out-lost-vikram-lander-in-3-days

कांग्रेस ने भी इसरो वैज्ञानिकों और चंद्रयान-2 (#Chandrayaan2) लैडिंग मिशन पर गर्व जताया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा है कि “प्रत्येक भारतीय को इसरो टीम पर गर्व है। आपका जुनून और दृढ़ता प्रत्येक भारतीय के लिए प्रेरणा है।”

यह भी पढ़े: Breaking news : विक्रम लैंडर से संपर्क टूटा 

यह भी पढ़े: Moon Chandrayaan 2 : जानियें भारत के नए आशियाने ‘चाँदघर’ के बारे में

यह भी पढ़े: चंद्रयान-2 : 15 मिनट का संघर्ष और बन जाएगा ‘चंद्र-इतिहास’

detective-of-isro-will-find-out-lost-vikram-lander-in-3-days

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: