breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजी
Trending

ISRO ने देश की सुरक्षा के लिए सैटेलाइट Cartosat-3 का किया सफल प्रक्षेपण

पीएम मोदी ने भी इसरो को कार्टोसैट-3 के सफल प्रक्षेपण पर बधाई दी है

श्रीहरिकोटा:ISRO PSLV-C47 Cartosat-3 successfully launch: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (Indian Space Research Organization) उर्फ ISRO ने दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने और देश सुरक्षा व तरक्की के लिए 27 नवंबर की सुबह 9.28 बजे कार्टोसैट-3 (Cartosat-3) सैटेलाइट को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है।

कार्टोसैट-3 (Cartosat-3) का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण करके इसरो ने इतिहास रच दिया है। इस खबर के साथ ही सोशल मीडिया पर हैशटैग #ISRO, #Cartosat3, #PSLVC47 टॉप पर ट्रेंड करने लगे।

पीएम मोदी ने भी इसरो को कार्टोसैट-3 के सफल प्रक्षेपण पर बधाई दी है।

क्या है कार्टोसैट-3 में खास?ISRO PSLV-C47 Cartosat-3 successfully launch

इस सैटेलाइट की मदद से अंतरिक्ष (Space) से दुश्मनों पर नजर रखी जा सकेगी। कार्टोसैट-3 (Cartosat-3) के कारण भारतीय सेना दुश्मन देश पाकिस्तान (Pakistan) की आतंकी गतिविधियों पर चील सी तेजी और बाज से पैनी नजर रखकर मुहंतोड़ जवाब दे सकेगी।

इतना ही नहीं, आवश्यकता पड़ने पर इस सैटेलाइट की मदद से एयर या सर्जिकल स्ट्राइक की जा सकेगी।

पीएसएलवी-सी47 द्वारा कार्टोसैट-3 और 13 अमेरिकी सैटेलाइट्स की सफलतापूर्वक लॉन्चिंग (ISRO PSLV-C47 Cartosat-3 successfully launch) के अवसर पर इसरो (ISRO)चीफ डॉ. के.सिवन ने कहा

कि मैं बहुत खुश हूं। चूंकि यह सबसे पॉवरफुल कैमरे वाला सिटिजन सैटेलाइट है।

अपनी पूरी सैटेलाइट टीम को मैं बधाई देना चाहता हूं। चूंकि यह हमारे देश का अभी तक का सर्वश्रेष्ठ अर्थ ऑब्जरवेशन सैटेलाइट है। मार्च तक हम 13 उपग्रह अब और छोड़ सकेंगे।

यही हमारा लक्ष्य है और हम इसे पूरा करने में कामयाब होकर रहेंगे।

इसरो (ISRO) ने श्रीहरिकोटा द्वीप पर बने सतीश धवन स्पेस सेंटर (SDSC SHAR) के लॉन्चपैड-2 से बुधवार, 27 नवंबर को सुबह 9.28 बजे कार्टोसैट-3 सैटेलाइट को लॉन्च किया (ISRO PSLV-C47 Cartosat-3 successfully launch)

Cartosat-3 सैटेलाइट को PSLV-C47 रॉकेट से इसरो ने छोड़ा है।

कार्टोसैट-3 पृथ्वी से 509 किमी. की ऊंचाई पर चक्कर काटेगा।

पीएसएलवी (PSLV) की ये होगी 74वीं उड़ान

यह पीएसएलवी की 21वीं उड़ान थी जोकि 6 स्ट्रैपऑन्स के साथ थी। लेकिन

पीएसएलवी रॉकेट की यह 74वीं उड़ान थी। कार्टोसैट-3 अपनी सीरीज का 9वां सैटेलाइट है। इसमें दुनिया का सबसे पॉवरफुल कैमरा लगा होगा।

चूंकि कार्टोसैट-3 का कैमरा अंतरिक्ष में 509 किलोमीटर की ऊंचाई से जमीन पर 9.84 इंच की ऊंचाई तक की स्पष्ट तस्वीर ले सकेगा।

आप इसकी स्पष्टता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते है कि कार्टोसैट-3 का कैमरा आपके हाथ की घड़ी का समय तक देख लेगा।

अभी तक कार्टोसैट सीरीज के 8 सैटेलाइट हुए हैं लॉन्च

 कार्टोसैट-1: 5 मई 2005

कार्टोसैट-2: 10 जनवरी 2007

कार्टोसैट-2ए: 28 अप्रैल 2008

कार्टोसैट-2बी: 12 जुलाई 2010

कार्टोसैट-2 सीरीज: 22 जून 2016

कार्टोसैट-2 सीरीज: 15 फरवरी 2017

कार्टोसैट-2 सीरीज: 23 जून 2017

कार्टोसैट-2 सीरीज: 12 जनवरी 2018

पाकिस्तान की नापाक हरकतों और देश में संभावित प्राकृतिक आपदाओं से निपटने में कार्टोसैट-3 सैटेलाइट मदद करेगा।

फिलहाल अभी तक शायद ही किसी देश ने इतनी स्पष्टता से लैस सैटेलाइट कैमरा की लॉन्चिंग की है। इसलिए कार्टोसैट-3 की लॉन्चिंग से इसरो ने हिस्ट्री क्रिएट कर दी है।

ISRO PSLV-C47 Cartosat-3 successfully launch

 

 

 (इनपुट एजेंसी से भी)

 

 

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: