Trending

ISRO द्वारा निर्मित सबसे भारी संचार उपग्रह GSAT-11 कक्षा में स्थापित

चेन्नई, 5 दिसम्बर : ISRO द्वारा निर्मित सबसे भारी संचार उपग्रह GSAT-11 कक्षा में स्थापित L 

भारत का सबसे भारी व अगली पीढ़ी के संचार उपग्रह जीएसएटी-11 को बुधवार को फ्रांसीसी गुयाना के एरियानेस्पेस के एरियाने-5 रॉकेट

द्वारा कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। 5,854 किलोग्राम वजनी जीसैट-11 इसरो द्वारा बनाया गया सबसे भारी उपग्रह है। 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा कि जीसैट-11 उन्नत संचार उपग्रह श्रंखला का

अगली पीढ़ी का उपग्रह है, जिसमें मल्टी-स्पॉट बीम के एंटीना लगे हैं, जो भारतीय भूमि और द्वीपों को कवर कर सकते हैं। 

बुधवार को जारी बयान में इसरो के अध्यक्ष के. सिवन के हवाले से कहा गया है,

“जीएसएटी-11 भारत नेट प्रोजेक्ट के तहत आने वाले देश में ग्रामीण और अभी तक पहुंच से दूर

ग्राम पंचायतों तक ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को बढ़ावा देगा, जो डिजिटल इंडिया प्रोग्राम का हिस्सा है।”

भारत नेट प्रोजेक्ट का लक्ष्य ई-बैंकिंग, ई-हेल्थ, ई-गवर्नेंस जैसे सार्वजनिक कल्याणकारी योजनाओं को बढ़ाना है।

उन्होंने कहा कि जीएसएटी-11 सभी भावी संचार उपग्रहों के अग्रदूत के रूप में कार्य करेगा।

जीएसएटी -11 देश भर में ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

सिवन ने कहा, “आज का सफल मिशन हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाएगा।”

ISRO का एक और धमाका #HysIS उपग्रह और 30 छोटे उपग्रह को स्थापित किया

ISRO spy case: सुप्रीम आदेश- Isro के पूर्व वैज्ञानिक नारायणन को 50 लाख मुआवजा

IRNSS-1I शिपिंग उपग्रह सफलतापूर्वक स्थापित-ISRO

ISRO : 29 मार्च को अंतरिक्ष में भेजे गए सॅटॅलाइट जीसैट-6 ए से संपर्क टूटा

ISRO : साल 2018 का पहला अंतरिक्ष मिशन, काटरेसैट-2 व अन्य 30 उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर रचा इतिहास

आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close