breaking_newsHome sliderटेक्नोलॉजीहाउ टू

क्या आप भी टॉयलेट में लेकर बैठते है स्मार्टफोन? तो जरूर पढ़े

आपमें से बहुत से लोग अपने स्मार्टफोन के साथ हर पल,हर घड़ी चिपके रहना पसंद करते है, इतना की वह इसे टॉयलेट तक में लेकर जाते है। हालांकि यह बात सुनकर थोड़ी अजीब ही लगती है और विचार कौंधता है कि आखिर कोई टॉयलेट में स्मार्टफोन के साथ करता क्या होगा और फोन टॉयलेट में लेकर ही क्यों जाता है? आखिर इतनी भी क्या इमरजेंसी की टॉयलेट तक में फोन लेकर बैठना पड़े? अगर आप भी ऐसे लोगों की मनोवृति या इस आदत को समझना चाहते है तो चलिए बताते है:

1.काम का प्रेशर- वर्तमान समय में वर्क प्रेशर बहुत है। मिनट-मिनट पर मेल चेक करना और तुरंत रिप्लाई करना। ऐसे में अगर आपके इस फ्रेश होने वाले टाइम में कोई निहायत जरूरी मेल आ जाए और आप टाइम पर रिप्लाई न कर सकें तो बॉस के कहर से कौन बचाएंगा। ये सोचकर भी लोग स्मार्टफोन टॉयलेट में लेकर बैठते है।

2.जबरदस्त आइडिया क्लिक करने के लिए- बहुत से लोगों को लगता है कि टॉयलेट में उन्हें अच्छा-खासा टाइम मिलता है एक सॉलिड आइडिया पाने का। यहां बैठकर अगर स्मार्टफोन का यूज करते है तो दिमाग में जबरदस्त आइडियाज आते है क्योंकि फुर्सत के साथ सोचने का भरपूर टाइम मिल जाता है।

3.बोर न हो- थोड़ा अटपटा जरूर है पर सच है कि कुछ लोग टॉयलेट में स्मार्टफोन इसलिए लेकर बैठते है कि उनकी बोरियत दूर हो सकें। वह अपने रूटीन के इस जरूरी टाइम में भी स्मार्टफोन से चिपके रहना पसंद करते है। हालांकि स्मार्टफोन से पहले लोग न्यूज पेपर और मैग्जीन टॉयलेट में लेकर बैठते थे बस अब इसकी जगह स्मार्टफोन ने ले ली है।

4.स्मार्टफोन फ्रीक है- कुछ लोग स्मार्टफोन को अपनी गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड से भी ज्यादा प्यार करते है। वह इसके बिना एक सेकेंड भी नहीं रह सकते। ऐसे लोग स्मार्टफोन फ्रीक होते है। ऐसे लोगों को टॉयलेट तक में भी अपने स्मार्टफोन से दूरी बर्दाश्त नहीं।

5.गेम खेलते है- बहुत से लोग स्मार्टफोन पर गेम खेलने के इतने शौकीन होते है कि टॉयलेट तक में बैठकर इस पर गेम खेलना पसंद करते है। वह सोचते है कि वह टॉयलेट में गेम खेलकर वह नए-नए रिकॉर्ड बनाएंगे। बस एक ओर वह यहां बैठकर गेम में बिग स्कोर बनाते है और दूसरी ओर वह ‘जरूरी’ काम करते है। उम्मीद हमारे इशारे को समझ गए होंगे आप!

6.वर्सेटाइल लोग- बहुत से लोगों को एक ही टाइम में एक साथ बहुत सारे काम करने की आदत होती है यानि ऐसे लोग वर्सेटाइल होते है यानि बहुमुखी प्रतिभा के स्वामी। इस तरह के लोगों को एक समय में महज एक काम करना समय की बर्बादी लगती है फिर चाहे वह टॉयलेट जाना ही क्यों न हो। इसलिए ऐसे लोग टॉयलेट तक में भी स्मार्टफोन पर और बहुत सारे काम करते है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: