breaking_news Home slider Uncategorized अन्य ताजा खबरें देश देश की अन्य ताजा खबरें

‘क्याजा’है गरीबो की गृहस्थी का “2000”का नया नोट

बांदा, 22 नवंबर बड़े नोट बंद होने से ग्रामीण क्षेत्र के गरीब खासा परेशान हैं। घर में धरी रही गाढ़ी कमाई बैंकों में जमा करने के बाद अब बैंकों में नकदी उपलब्ध न होने पर धन निकासी नहीं हो पा रही है। गांव-देहात में लोग रोजमर्रा की चीजे खरीदने के लिए ‘क्याजा’ का सहारा ले रहे हैं।

सबसे पहले ‘क्याजा’ है क्या? बुंदेलखंड के गांव-देहात में धनाभाव के चलते दुकानदारों के यहां फसली अनाज बेंच साग-सब्जी और नमक-तेल खरीद कर बसर करने की यह पुरानी परंपरा रही है। यहां बेंचे जाने वाले अनाज को ही देहाती भाषा में ‘क्याजा’ कहते हैं। केन्द्र सरकार द्वारा बड़े नोट बंद करने से ग्रामीण अंचल की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। लोगों के घरों में जो भी गाढ़ी कमाई थी, वह बैंकों में जमा हो चुकी है और ग्रामीण अंचल की बैंक शाखाओं में अब तक नकदी न पहुंच पाने से लोगों ने घर-गृहस्थी चलाने के लिए नोट के विकल्प के तौर पर ‘क्याजा’ को चुना है। लोग दैनिक उपयोग का सामान छोटे दुकानदारों के यहां अनाज बेंच कर खरीद रहे हैं।

बांदा के तेन्दुरा गांव में इलाहाबाद बैंक की शाखा है। गांव के छोटे-बड़े किसान और मजदूर एक हजार और पांच सौ रुपये के नोट बंद होने के बाद उसे इस शाखा में जमा कर चुके हैं। गांव में तकरीबन सभी के हालात एक जैसे हैं। घर चलाने के लिए एक पाई नहीं बची। किसान खाद-बीज के लिए तरस रहा है, तो मजदूर साग-भाजी, नमक-तेल के जुगाड़ में परेशान है।

गांव की बुजुर्ग महिला फुलिया ने कहा,”घर में रोज क्याजा से ही सामान खरीदा जा रहा है।” फुलिया ने कहा, “इस समय धान की फसल आ गई है, वह दुकानदार नत्थू राजा से शाम-सबेरे सौदा खरीद कर चूल्हा जलाती है।”

फुलिया के अलावा तकरीबन सभी लोग अपना घर चलाने के लिए क्याजा का सहारा ले रहे हैं। गांव के बड़े किसान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के सगे साढू रामलगन सिंह गहरवार ने कहा, “उनके घर में जो भी बड़े नोट थे, सभी बैंक में जमा हो चुके हैं। गांव की बैंक शाखा में नकदी न होने से जहां खाद-बीज नहीं खरीद पा रहे, वहीं उनकी पत्नी मीना सिंह पड़ोस की दुकान में अनाज बेंच कर रोजमर्रा का सामान खरीद कर घर खर्च पूरा कर रही है।”

विकलांग बंधना रैदास ने कहा, “बैंक से उसके विकलांग पेंशन की निकासी नहीं हो पा रही, कोटेदार राशन सामग्री की कीमत उसी अनाज की कटौती कर वसूल कर लेता है। जो थोड़ा बहुत बचा, वह क्याजा में दुकानदारों के यहां चला जाता है।”

इसी गांव के दुकानदार रमेश सिंह ने कहा,”दुकान में रोजाना ‘क्याजा’ से 20 से 25 किलोग्राम धान आ जाता है, क्याजा में मिले धान को बाजार में बेंच कर उसके बदले परचून का सामान लाते हैं। कुल मिलकर यह कहा जा सकता है कि नोटबंदी से उपजे आर्थिक संकट से उबरने के लिए ‘क्याजा’ बड़ा विकल्प बन चुका है, जिसके जरिए लोग अपनी आवश्यकताएं पूरी कर रहे हैं।”

— आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment