मोदी का एक और ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ का संकेत

वडोदरा, 22 अक्टूबर :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को आय घोषणा योजना (आईडीएस) के तहत 30 सितंबर की समय सीमा के भीतर काले धन की घोषणा करने में नाकाम रहने वाले लोगों के खिलाफ ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ का संकेत दिया। वडोदरा में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान मोदी ने कहा, “आईडीएस के तहत 65,000 करोड़ रुपये से अधिक की बेहिसाब संपत्ति की घोषणा हुई है, वह भी बिना किसी सर्जिकल स्ट्राइक के। सोचिए, अगर हम सर्जिकल स्ट्राइक करें, तो क्या होगा।”

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने आईडीएस के तहत धन एकत्रित करने के अलावा, जन धन योजना के तहत आधार नंबर को सीधे लिंक कराकर बिचौलियों को हटाते हुए पैसे का स्थानांतरण सीधे तौर पर करके 36,000 करोड़ रुपये बचाए हैं।

मोदी ने कहा, “तो, हम लगभग एक लाख करोड़ रुपये एकत्रित करने में सक्षम हुए हैं।”

यहां 1 लाख से अधिक दिव्यांगों के बीच कृत्रिम पैर, हाथ रिक्शा तथा अन्य सहायक उपकरणों के वितरण को लेकर एक कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने ये बातें कहीं।

उन्होंने कहा कि मई 2014 से लेकर अब तक देश भर में इस तरह के 4,500 से भी अधिक कार्यक्रम हो चुके हैं, जबकि सन् 1992 से लेकर 2014 के बीच ऐसे केवल 56 कार्यक्रम हुए थे।

बीते तीन महीनों के दौरान मोदी का गुजरात का यह चौथा दौरा है, लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद बडोदरा का यह पहला दौरा है। उन्होंने वडोदरा तथा वाराणसी दोनों जगहों से लोकसभा चुनाव जीता था। गुजरात में दिसंबर 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं।

एक दिवसीय दौरे के दौरान मोदी ने वडोदरा के हारनी हवाईअड्डे पर 160 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित एक इंटीग्रेटेड टर्मिनल इमारत का उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि देश की पहली रेलवे यूनिवर्सिटी वडोदरा में स्थापित होगी, जिससे रेलवे क्षेत्र को बड़ा प्रौद्योगिकी सहयोग मिलेगा।

उन्होंने कहा, “हमारी रेलवे लगातार पुरानी संरचनाओं के आधार पर संचालित हो रही है। प्रौद्योगिकी तथा नवाचार के साथ हम भारत में रेलवे की तस्वीर बदल सकते हैं। नवाचार को उत्साहित करने में यह यूनिवर्सिटी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।”

हवाईअड्डे के बाहर विरोध कर रहे कुछ दलित स्वयंसेवकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

कुछ दलित नेताओं ने मांग की है कि हवाईअड्डे का नाम बाबा साहेब अंबेडकर हवाईअड्डा रखा जाए।

एक तर्क यह भी है कि चूंकि वडोदरा शहर का विकास दिवंगत राजा सायाजीराव गायकवाड़ ने किया था, इसलिए हवाईअड्डे का नाम उनके ही नाम पर रखा जाए। वहीं कांग्रेस के एक धड़े ने दावा किया कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हवाईअड्डे का नाम पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर रखने का प्रयास करेगी।

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close