breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजविभिन्न खबरेंविश्व
Trending

Alibaba के फाउंडर जैक मा आज चेयरमैन पद छोड़ देंगे

जैक मा ने चाइना टीचर्स डे के दिन अपना पद छोड़ा

alibaba-founder-steps-down-as-a-chairman

नई दिल्ली, (समयधारा) : एक शानदार कॉर्पोरेट सफ़र की शुरुआत करने वाले अलीबाबा के संस्थापक(Alibaba Founder) जैक मा ने

आज अलीबाबा के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देंगे l  अलीबाबा के फाउंडर जैक मा आज अध्यक्ष पद को छोड़ देंगे l

उनकी जगह  डैनियल झांग आधिकारिक तौर पर अलीबाबा की बागडोर संभालेंगे और समूह के अध्यक्ष के रूप में काम करेंगे।

जैक मा ने पहले भी एक बार अलीबाबा के अध्यक्ष का पद छोड़ चूके है l

करीब छह साल पहले वर्ष  2013 में अलीबाबा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में उन्होंने इस्तीफा दिया था

और जोनाथन लू ने उनकी जगह ली थी फिर 2015 में, डैनियल झांग ने जोनाथन लू की जगह ली।

जैक मा एक भुतपूर्व अंग्रेजी शिक्षक ने चीनी शिक्षक दिवस (China Teacher Day)  के दिन अपना इस्तीफा दिया l

अपने इस्तीफे  के बाद वह  2020 तक एनुअल शेयरहोल्डर की बैठक तक अलीबाबा के बोर्ड में काम करना जारी रखेंगे।

जैक मा पार्टनर के रूप में लाइफ टाइम तक अलीबाबा की  पार्टनरशिप में रहेंगे जो अलीबाबा का एक ग्रुप  जिसमें 36 सदस्य है का हिस्सा है l 

यह कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर को चुनने का अधिकार रखती है l alibaba-founder-steps-down-as-a-chairman

अपने एक वीडियो में जैक  मा ने कहा : ‘मैं हमेशा आगे देखने वाला व्यक्ति हूं। मैं चीजों को वापस नहीं देखना चाहता।’

55 वर्षीय  जैक मा ने चीनी निर्यातकों (china exporter) को अमेरिकी खुदरा विक्रेताओं (american retailer) से

जोड़ने के लिए 1999 में अलीबाबा की स्थापना की। जैक मा ने पहले कहा था कि वह धीरे-धीरे अलीबाबा से दूर जाने की कोशिश करेंगे।

मा ने आगे कहा था की ‘यह चक्र दर्शाता है कि अलीबाबा ने एक कंपनी से कॉर्पोरेट प्रशासन के अगले स्तर पर कदम रखा है

जो व्यक्तियों पर निर्भर है, जो संगठनात्मक उत्कृष्टता की प्रणालियों और प्रतिभा विकास की संस्कृति पर निर्मित है।’

उन्होंने कहा था: ‘एक बात जो मैं हर किसी से वादा कर सकता हूं, वह यह है:

अलीबाबा जैक मा से नहीं थी, लेकिन जैक मा का संबंध हमेशा अलीबाबा से रहेगा।’

alibaba-founder-steps-down-as-a-chairman

Tags

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन एक स्वतंत्र लेखक है और साथ ही समयधारा के को-फाउंडर व सीईओ है। लेखन के प्रति गहन रुचि ने धर्मेश जैन को बिजनेस के साथ-साथ लेख लिखने की ओर प्रोत्साहित किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: