breaking_newsअन्य ताजा खबरेंविभिन्न खबरेंविश्व
Trending

भगोड़े विजय माल्या की मुसीबतें और बड़ी,अब लंदन में भी झटके लगने शुरू

लंदन, 26 मई (समयधारा) : विजय माल्या की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही l

लंदन की एक कोर्ट में विजय माल्या 900 करोड़ रुपये का मुकदमा हार गए l 

बैंको का पैसा गबन करके देशे से भागे हुए शराब कारोबारी विजय माल्या की मुश्किलें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। 

विजय माल्या को ब्रिटेन में बड़ा झटका लगा है। ब्रिटेन की शराब कंपनी डियाजियो ने माल्या के खिलाफ 900 करोड़ रुपये का मुकदमा जीत लिया है।

बता दें कि ब्रिटेन की कंपनी डियाजियो ने 13.5 करोड़ का मुकदमा जीता है।

फैसले के तहत 28 दिन में माल्या को 13.5 करोड़ रुपये चुकाने होंगे। माल्या ने ICICI बैंक से कर्ज लिया था।

माल्या के कर्ज को स्टैनचार्ट ने चुकाया था। स्टैनचार्ट के कर्ज को डियाजियो ने चुकाया।

इसमें डियाजियो को पैसे नहीं मिले और शेयर भी नहीं मिले। आखिर माल्या की मुसीबतें ब्रिटेन में भी शुरू हो चुकी है l

भारत ने भी विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए कोशिशें तेज कर दी है l जल्द ही माल्या को देश में लाया जाएगा l 

अब तक क्या-क्या हुआ विजय माल्या के मामले में ….

विजय माल्या के भारत प्रत्यर्पण को ब्रिटिश सरकार की मंजूरी,प्रत्यर्पण के खिलाफ करेगा अपील

फरार कारोबारी विजय माल्या अपराधी कानून 2018 के तहत भगोड़े घोषित 

भगोड़े विजय माल्या का नया पैतरा, कहा मैं सभी कर्ज बिना ब्याज के लौटने को तैयार हूँ

भाजपा ललित मोदी विजय माल्या और नीरव मोदी जैसे बड़े उद्योगपतियों व जालसाजों को लाभ पहुंचा रही है : आप

भगोड़े शराब व्यापारी विजय माल्या और 18 अन्य के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

विजय माल्या को एक अदालत ने फेरा के मामले में भगोड़ा घोषित कर दिया

Breaking न्यूज़: एक बार फिर विजय माल्या को मिली जमानत 

Tags

समयधारा

समयधारा एक तेजी से उभरती हिंदी न्यूज पोर्टल है। जिसका उद्देश्य सटीक, सच्ची और प्रामाणिक खबरों व लेखों को जनता तक पहुंचाना है। समयधारा ने अपने लगभग महज चार साल के सफर में बिना मूल्यों से समझौता किए क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी कंटेंट पर हमेशा ज़ोर दिया है। एक आम मध्मय वर्गीय परिवार से निकली लड़की रीना आर्य के सपनों की साकार डिजिटल मूर्ति है- समयधारा। रीना आर्य समयधारा की फाउंडर, एडिटर-इन-चीफ और डायरेक्टर भी है। उनके साथ समयधारा को संपूर्ण बनाने में अहम भूमिका निभाई है समयधारा के को-फाउंडर-धर्मेश जैन ने। एक आम मध्यमवर्गीय परिवार में जन्में धर्मेश जैन पेशे से बिजनेसमैन रहे है और लेखन में अपने जुनूूून के प्रति उन्होंने समयधारा की नींव रखने में अहम रोल अदा किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: