Trending

ईरान,अमेरिका,कोरिया,नाइजीरिया,सीरिया.लीबिया,सऊदी अरब की प्रमुख ख़बरें

विश्व की 7 देशों की प्रमुख ख़बरें जानियें बस एक क्लिक में

विश्व की सभी प्रमुख ख़बरें जानियें बस एक क्लिक में

ईरान,अमेरिका,कोरिया,नाइजीरिया,सीरिया.लीबिया,सऊदी अरब की प्रमुख ख़बरें

  1. अमेरिका प्रतिबंध के खिलाफ EU अन्य हस्ताक्षरकर्ताओं  को  जरुरी कदम उठाने चाहियें 
  2. अमेरिका : फ्लोरेंस तूफ़ान से मरनेवालों की संख्या 13 हुई 
  3. दक्षिण कोरिया के 93 अधिकारियों का समूह उत्तर कोरिया के लिए प्योंगयांग रवाना 
  4. नाइजीरिया में बाढ़ के प्रकोप से 35 से अधिक समुदायों के 30,000 लोगों को विस्थापित करना पड़ा 
  5. सीरिया की वायुसेना ने दमिश्क हवाईअड्डे के पास कई इजरायली मिसाइलें मार गिराई 
  6. लीबिया में चुनाव के लिए जर्मनी 23.3 लाख डॉलर देगा : संयुक्त राष्ट्र
  7. सऊदी अरब ने जजान की ओर दागी गई हौती विद्रोहियों की मिसाइल नष्ट की 
  1. अमेरिका प्रतिबंध के खिलाफ EU अन्य हस्ताक्षरकर्ताओं  को  जरुरी कदम उठाने चाहियें

तेहरान, 16 सितंबर : ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ ने शनिवार को कहा कि ईरान के ऐतिहासिक परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने के बाद अगर यूरोपीय संघ (ईयू) अपने दायित्वों का निर्वहन करने में विफल रहता है तो देश यूरेनियम संवर्धन करेगा। प्रेस टीवी ने जरीफ के हवाले से कहा, “अमेरिकी प्रतिबंधों के प्रभावों की भरपाई करने के लिए यूरोपीय संघ और अन्य हस्ताक्षरकर्ताओं को जरूर कदम उठाना चाहिए।”

उन्होंने परमाणु समझौते से ईरान के अलग होने की संभावना से इनकार किया, लेकिन यूरोपीय सहयोगियों को आगाह किया कि अगर वे समझौते में ईरान के हितों की सुरक्षा करने में विफल रहते हैं तो फिर ईरान कोई कदम उठा सकता है। 

उन्होंने कहा, ‘तेल और बैंक’ ‘लिटमस टेस्ट’ हैं और इस बात का जिक्र किया कि अमेरिका द्वारा ईरान के तेल निर्यात और बैंकिंग लेनदेन पर प्रतिबंधों को फिर से लागू करने के हालात में यूरोपीय संघ ईरान की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। 

ईरान और छह देशों रूस, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, अमेरिका और जर्मनी ने 2015 में ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर एक ऐतिहासिक समझौता किया था। हालांकि डोनाल्ड ट्रंप ने आठ मई को इस समझौते से अलग होने और फिर से ईरान पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया। 

2) अमेरिका : फ्लोरेंस तूफ़ान से मरनेवालों की संख्या 13 हुई 

वाशिंगटन :  अमेरिका के पूर्वी तट पर दस्तक दे चुके उष्णकटिबंधीय तूफान ‘फ्लोरेंस’ से हुए विभिन्न हादसों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। अधिकारियों ने बारिश जारी रहने और बाढ़ की स्थिति बने रहने की चेतावनी दी है। 

अधिकारियों के मुताबिक, 13 मृतकों में से नौ की मौत शुक्रवार रात को हुई, जबकि बाकी की मौत शनिवार को हुई। 

सीएनएन के अनुसार, फ्लोरेंस ने उत्तरी कैरोलिना में श्रेणी-1 तूफान के रूप में शुक्रवार सुबह दस्तक दी। इसके चलते राज्य में और दक्षिण कैरोलिना में 796,000 ग्राहकों को बिजली गुल होने से परेशानी का सामना करना पड़ा। 

अधिकारियों ने कहा कि बाढ़ की स्थिति बस शुरू ही हुई है। 

नॉर्थ कैरोलिना के गवर्नर रॉय कूपर ने शनिवार को कहा, “बाढ़ से खतरे की स्थिति 24 घंटे पहले इसके आने से पहले से कहीं ज्यादा है।”

उन्होंने  कहा कि तटों, नदियों, खेतों, शहरों और कस्बों हर जगह पानी ही पानी है। 

अधिकारियों ने नार्थ व साउथ कैरोलिना, जॉर्जिया, वर्जीनिया और मैरीलैंड समेत कई राज्यों में आपात स्थिति घोषित की है।

3) दक्षिण कोरिया के 93 अधिकारियों का समूह उत्तर कोरिया के लिए प्योंगयांग रवाना

सियोल : दक्षिण कोरिया के 93 अधिकारियों का समूह रविवार को उत्तर कोरिया के लिए रवाना हो गया। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन और उत्तर कोरिया के किम जोंग उन के बीच आगामी बैठक की तैयारियों के मद्देनजर यह दौरा किया जा रहा है।

समाचार एजेंसी योनहाप के मुताबिक, राष्ट्रपति मून मंगलवार से गुरुवार तक प्योंगयांग के दौरे पर रहेंगे। यह उनकी किम जोंग उन के साथ तीसरी वार्ता होगी।

दक्षिण कोरिया के 93 सरकारी अधिकारियों की टीम ने 19 बसों में सवार होकर सीमा पार की। इसमें प्रौद्योगिकी संबद्ध स्टाफ और संवाददाता भी हैं।

सियोल की एकीकरण नीति के लिए राष्ट्रपति के सचिव सुह हो ने रवाना होने से पहले संवाददाताओं को बताया, “उत्तर एवं दक्षिण कोरिया वार्ता में सिर्फ तीन दिन बाकी हैं। हमारी टीम वहां लेकर तैयारियों का जायजा लेगी।”

उत्तर कोरिया में इस आगामी बैठक को लेकर अखबारों में काफी रिपोर्ट्स प्रकाशित हो रही हैं।

4) नाइजीरिया में बाढ़ के प्रकोप से 35 से अधिक समुदायों के 30,000 लोगों को विस्थापित करना पड़ा

लागोस : नाइजीरिया के दक्षिणी राज्य एडो के स्थानीय प्रशासन का कहना है कि बाढ़ से राज्य के पूर्वी और मध्य भाग के 35 से अधिक समुदायों के 30,000 लोगों को विस्थापित करना पड़ा है। एटसाको पूर्व के चेयरमैन एरेमिया मोमोह ने बेनिन में संवाददाताओं को बताया कि इस आपदा का प्रकोप बढ़ता जा रहा है।

एटसाको मध्य के चेयरमैन जॉन अखिगबे ने स्थिति को देखते हुए दोनों राज्यों और संघीय सरकारों से तुरंत आवश्यक कदम उठाने को कहा है।

विस्थापितों के लिए बड़ी संख्या में शिविर बनाए गए हैं।

भारी बारिश के बाद बाढ़ की वजह से खेतों सहित लगभग 700 घर प्रभावित हुए हैं। 

राष्ट्रीय आपात प्रबंधन एजेंसी (एनईएमए) के समन्वयक मार्टिन्स इजीके ने पॉर्ट हारकोर्ट में संवाददाताओं को बताया कि अगस्त से ही बाढ़ ने तबाही मचाई हुई है।

इजीके ने प्रभावित क्षेत्रों में रह रहे लोगों से अस्थाई प्रवास के लिए ऊंचे स्थानों पर जाने की हिदायत दी है। पीड़ितों के लिए 28 शिविर बनाए गए हैं। 

एनईएमए ने कहा कि बुधवार को मध्य कोगी में जलस्तर 2012 के 10.66 मीटर के स्तर के लगभग पास पहुंच गया था, जिसे देखते हुए स्थानीय लोगों को सचेत रहने की सलाह दी गई।

साल 2012 में आई बाढ़ में 363 लोगों की मौत हो गई थी और 21 लाख से अधिक लोगों को विस्थापित करना पड़ा था।

5) सीरिया की वायुसेना ने दमिश्क हवाईअड्डे के पास कई इजरायली मिसाइलें मार गिराई

दमिश्क : सीरिया की राजधानी दमिश्क में अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास इजरायली हमले का शनिवार शाम को सीरिया की वायुसेना ने माकूल जवाब दिया। सैन्य बयान के मुताबिक, वायुसेना ने दमिश्क हवाईअड्डे को निशाना बनाकर दागी गई कई मिसाइलों को मार गिराया।

सीरिया के सैन्यअड्डों को निशाना बनाकर इजरायल लगातार मिसाइलें दाग रहा है।

6) लीबिया में चुनाव के लिए जर्मनी 23.3 लाख डॉलर देगा : संयुक्त राष्ट्र

त्रिपोली :  लीबिया में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने शनिवार को कहा कि त्रिपोली में चुनाव कार्यक्रमों के लिए जर्मनी 20 लाख यूरो (23.3 लाख डॉलर) मुहैया कराएगा। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने यूएनडीपी के बयान के हवाले से बताया कि लीबिया में जर्मनी के राजदूत ओलिवर ओकजा ने कहा कि इसका उद्देश्य 2018 से 2020 के बीच लीबिया में नगर पालिका चुनावों के संचालन में नगर पालिका चुनावों के लिए केंद्रीय समिति (सीसीएमसीई) की मदद करना है।

सीसीएमसीई ने गुरुवार को बताया कि दक्षिणपश्चिमी लीबिया के शहरों बानी वालिद और देर्ज शहरों में नगरपालिका चुनावों की घोषणा की।

7) सऊदी अरब ने जजान की ओर दागी गई हौती विद्रोहियों की मिसाइल नष्ट की

रियाद :  सऊदी अरब के नेतृत्व में गठबंधन सेना ने शनिवार को हौती विद्रोहियों द्वारा दागी गई मिसाइल नष्ट कर दी। यह मिसाइल सीमावर्ती शहर जजान की ओर दागी गई थी।

गठबंधन सेना के प्रवक्ता तुर्की अल मलीकी ने जारी बयान में कहा कि सऊदी अरब की वायुसेना ने मिसाइल को रोककर नष्ट कर दिया गया। इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ।

इस ताजा हमले के साथ यमन की ओर से सऊदी अरब के शहरों की ओर दागी गई मिसाइलों की संख्या बढ़कर 196 हो गई है, जिनमें से अधिकतर को नष्ट कर दिया गया.

साल 2015 से यमन के हौती विद्रोहियों के निशाने पर सऊदी अरब रहा है। हौती विद्रोहियों का कहना है कि उनके मिसाइल हमलें यमन में हौती के नियंत्रण वाले क्षेत्रों में गठबंधन सेना के हवाई हमलों के मद्देनजर प्रतिक्रियास्वरूप किए जा रहे हैं।

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close