23,000 जिहादियों में से 3,000 जिहादी से देश को खतरा : ब्रिटेन खुफिया विभाग

लंदन, 30 मई : ब्रिटेन के खुफिया विभाग ने देश में रह रहे 23,000 जिहादी चरमपंथियों की पहचान की है, जो संभावित आतंकवादी हमलों को अंजाम दे सकते हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मैनचेस्टर एरेना मे 22 मई को हुए आत्मघात हमले को रोकने के लिए मिले कई अवसरों का लाभ उठाने से चूक जाने पर आलोचना होने के बाद व्हाइटहॉल के सूत्रों ने पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों का खुलासा किया है।

अमेरिकी पॉप गायिका एरियाना ग्रांडे के संगीत कार्यक्रम के दौरान हुए आत्मघाती हमले में 22 लोगों की मौत हो गई थी और 59 अन्य घायल हुए थे।

रिपोर्ट में कहा गया कि 23,000 जिहादयिों में से करीब 3,000 जिहादी देश को खतरा पहुंचा सकते हैं।

इन 3,000 जिहादियों के संबंध में जांच की जा रही है। पुलिस और खुफिया सेवाओं द्वारा संचालित 500 अभियानों के द्वारा सक्रिय रूप से इनकी निगरानी की जा रही है।

बाकी जिहादियों की बीते मौकों पर जांच हो चुकी है और इनसे खतरे को कम बताया गया है।

रिपोर्ट में बताया गया कि ब्रिटेन के मैनचेस्टर में हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर सलमान आबिदी और दो महीने पहले वेस्टमिंस्टर पर हमला करने वाले खालिद मसूद की पहले निगरानी की जाती थी, लेकिन बाद में उनकी निगरानी करना बंद कर दिया गया।

प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने शनिवार सुबह आतंकवादी हमले के खतरे को अत्यधिक गंभीर से घटाकर गंभीर स्तर का कर दिया लेकिन कहा था कि पुलिसकर्मी सोमवार तक सड़कों पर तैनात रहेंगे।

ब्रिटेन के आतंकवाद-रोधी मामले के शीर्ष पुलिस अधिकारी ने कहा कि अभी तक 11 पुरुष गिरफ्तार किए गए हैं। और लोगों की गिरफ्तारी भी हो सकती है।

लंदन मेट्रोपोलिटन पुलिस के सहायक आयुक्त मार्क रॉली ने कहा कि महत्वपूर्ण गिरफ्तारी का मतलब है कि आत्मघाती हमलावर आबिदी के आसपास के आतंकी नेटवर्क को नुकसान पहुंचा है।

उन्होंने कहा, “तेजी से जांच करने की प्रक्रिया अभी जारी है, रात में तीन और गिरफ्तारियां हुईं और अब 11 लोग हमारी पकड़ में हैं।”

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close