Trending

रूस,तुर्की,दक्षिण कोरिया,पाकिस्तान आदि देशों की ख़बरें

विश्व के विभिन्न देशों की प्रमुख ख़बरें

ट्रंप ने तुर्की से इस्पात, एल्यूमिनियम पर शुल्क दोगुना करने की घोषणा की

वाशिंगटन :  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने

तुर्की से आने वाले इस्पात और एल्यूमिनियम पर आयात शुल्क दोगुना करने के आदेश दिए हैं।

तुर्की से आने वाले इस्पात पर 50 फीसदी और एल्यूमिनियम पर 20 फीसदी शुल्क लगाया जाएगा।

तुर्की द्वारा एक अमेरिकी पादरी को हिरासत में रखने की घटना के बाद से दोनों देशों के बीच

तनाव बढ़ा है। ट्रंप ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि अमेरिका, तुर्की संबंध फिलहाल अच्छे नहीं हैं।

ट्रंप ने कहा कि तुर्की की मुद्रा लीरा डॉलर के मुकाबले तेजी से लुढ़क रही है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, बीते सप्ताह से लीरा में 10 फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है। 

दक्षिण कोरियाई कंपनियों ने अमेरिकी प्रतिबंधों का उल्लंघन किया

सियोल :  दक्षिण कोरिया की तीन कंपनियों ने अमेरिकी प्रतिबंधों का उल्लंघन कर पिछले साल

उत्तर कोरिया से 55 लाख डॉलर से अधिक मूल्य के कोयला और लौह आयात किया। 

समाचार एजेंसी एफे ने कोरिया कस्टम सर्विस (केसीएस) के हवाले से बताया कि

अप्रैल और अक्टूबर 2017 के बीच तीनों कंपनियों ने 58 लाख डॉलर के सामान आयात किए।

सीमा शुल्क अधिकारियों ने कहा कि कंपनियों ने पारगमन के लिए रूसी बंदरगाह का इस्तेमाल किया। 

केसीएस ने कहा कि कंपनियां उत्तर कोरियाई कोयले का पूंजीकरण करने की कोशिश कर रही थीं, जो बाजार दर से कम है।

संयुक्त राष्ट्र परिषद की प्रस्तावना 2371 के मुताबिक अगस्त 2017 से

उत्तर कोरिया पर उसके खनिजों का निर्यात करने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा हुआ है।

अमेरिका ने पाकिस्तान के साथ सैन्य प्रशिक्षण कार्यक्रम में कटौती की 

वाशिंगटन :  अमेरिकी प्रशासन द्वारा पाकिस्तान को सैन्य प्रशिक्षण के लिए फंड मुहैया नहीं कराए जाने के बाद

अमेरिकी सैन्य संस्थान अगले शैक्षणिक वर्ष के लिए पाकिस्तान के अधिकारियों के लिए निर्धारित 66 स्लॉटों को भरने के लिए जूझ रहा है।

‘डॉन ऑनलाइन’ ने सूत्रों के हवाले से शनिवार को बताया कि

पाकिस्तानी अधिकारियों को प्रशिक्षण देने के लिए फंड अमेरिकी सरकार के

अंतर्राष्ट्रीय सैन्य शिक्षा और प्रशिक्षण कार्यक्रम (आईएमईटी) से जारी होता है

लेकिन अगले शैक्षणिक वर्ष के लिए पाकिस्तान को धन उपलब्ध नहीं कराया गया।

डॉन को पहले अमेरिकी राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (एनडीयू),

वाशिंगटन से फंड रोकने के बारे में पता चला, जो पाकिस्तानी अधिकारियों

के लिए एक दशक से अधिक समय तक कोटा आरक्षित करते आया है। 

एनडीयू कई अमेरिकी सैन्य संस्थानों में से एक है जो पाकिस्तान के अधिकारियों को प्रशिक्षित करता है।

ट्रंप प्रशासन ने इस साल की शुरुआत में घोषणा की थी कि अफगानिस्तान के मुद्दे पर

मतभेदों के चलते वह पाकिस्तान को दी जाने वाली वित्तीय सहायता रोक रहा है

लेकिन संकेत दिया था कि सैन्य अधिकारियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी रहेगा।

पाकिस्तानी अधिकारियों के लिए निर्धारित स्लॉट को रद्द करने से पता चलता है

कि फंड का रोका जाना अब प्रशिक्षण कार्यक्रमों पर भी लागू होता है।

रूस ने अमेरिकी प्रतिबंधों को खारिज किया

मॉस्को : रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने शुक्रवार को अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को बताया कि

स्क्रिपल मामले में रूस की कथित भूमिका को लेकर उस पर लगाए गए प्रतिबंध को स्पष्ट रूप से खारिज करते हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने विदेश मंत्रालय के हवाले से कहा कि लावरोव ने रूस के रुख को दोहराते हुए कहा कि

पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रिपल पर ब्रिटिश शहर सैलिसबरी में कथित रूप से

घातक नर्व एजेंट से हमला करने के पीछे रूस का कोई हाथ नहीं है। 

लावरोव ने जोर देते हुए कहा कि न तो अमेरिका न ब्रिटेन या किसी

और देश ने अपने आरोपों के समर्थन में एक भी सबूत दिए हैं।

स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया पर मार्च में सैलिसबरी में घातक जहरीले पदार्थ से हमला हुआ था। 

अमेरिकी विदेश विभाग न बुधवार को कहा था कि अमेरिका हमले के आरोप में रूस पर नए प्रतिबंध लगाएगा। 

पश्चिमी देशों ने इसके लिए रूस पर आरोप लगाया,

लेकिन रूस लगातार आरोपों का खंडन करता आया है। 

रूस के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने अमेरिका के इस फैसले की आलोचना की है,

जबकि विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जाखरोवा ने कहा कि मॉस्को प्रतिबंधों का जवाब देने पर विचार करेगा। 

लावरोव और पोम्पियो ने सीरिया में हालात सहित अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों और 16 जुलाई को हेलसिंकी में ट्रंप और

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात के दौरान अन्य जिन अन्य विषयों पर विचार किया गया था, उन पर भी चर्चा की। 

बयान में कहा गया कि दोनों शीर्ष राजनयिक आपसी हित के सभी मुद्दों पर संपर्क बनाए रखने पर सहमत हुए हैं

और कहा गया कि फोन पर बातचीत की पहल अमेरिका की ओर से की गई थी। 

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close