breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

PoK हमारा है और एक न एक दिन हमारे पास होगा: विदेश मंत्री एस जयशंकर

पाकिस्तान के साथ परेशानी यह भी है कि वो बातें तो बहुत करता है लेकिन आतंकवाद पर कार्रवाई नहीं करता

नई दिल्ली: PoK part of India says External Affairs Minister S. Jaishankar- पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) भी भारत का हिस्सा है और एक न एक दिन यह हमारे पास होगा। यह कहना है भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर का (External Affairs Minister S. Jaishankar)।

हाल के वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी विदेश मंत्री ने पीओके (PoK) का भौतिक अधिकार (Physical possession) लेने की बात कही है – और यह जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के 1994 के संसद प्रस्ताव से बहुत आगे निकल गया है (PoK part of India says External Affairs Minister S. Jaishankar)

गौरतलब है कि भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S. Jaishankar) मोदी सरकार (Modi government) के 100 दिन (100 days) पूरे होने पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।

यहां उन्होंने वर्तमान सरकार की उपलब्धियों को गिनाया। इस मौके पर जयशंकर से कश्मीर,पाकिस्तान,अमेरिका को लेकर कई सवाल पूछे गए।

अमेरिका के साथ तनाव के संदर्भ में विदेश मंत्री ने कहा कि भारत-अमेरिका (India-US) के मध्य पिछले बीस सालों में व्यापार,सुरक्षा और लोगों के आने-जाने का रिश्ता रहा है।

सभी सरकारों के अंतर्गत रिश्ते बेहतर ही हुए है। भारत-अमेरिका का रिश्ता लंबा रहा है। रिश्ते बढ़िया है और संतोषजनक है और बेहतर ही होंगे।

अब जहां तक बात व्यापार के इशू को लेकर तनाव की है तो तनाव बिल्कुल नहीं तभी होगा जब  व्यापार ही नहीं होगा लेकिन जब व्यापार कर रहे है तो थोड़ा बहुत तो तनाव होगा ही।

बीते 10 दिनों में भी हम अमेरिका से बात करते रहे हैं और आशा ये है कि ऐसा हल निकालेंगे जो दोनों देशों के लिए कारगर हो।

विदेश मंत्री जयशंकर (External Affairs Minister S. Jaishankar) ने कहा कि वो गिलास खाली के स्थान पर 90 फीसदी भरा देखते है।

मोदी के ह्यूस्टन जन समारोह के बारे में उन्होंने कहा कि ऐसा तीसरी बार है कि पीएम मोदी (PM Modi) का अमेरिका में इतना बड़ा कार्यक्रम हो रहा है।

दरअसल,यह भारत और भारतीय अमेरिकियों की उपलब्धियों का असर है।

इस प्रोग्राम का राष्ट्रपति ट्रंप (Trump) का पीएम मोदी (PM Modi) के साथ शिरकत करना सम्मानजनक है।

पूरा विश्व इस पर नजर रखेगा। इससे पता चलता है कि भारतीय अमेरिकियों और भारत ने क्या अचीव किया है। हालांकि पाकिस्तान जो चाहे वो समझ सकता है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पाकिस्तान और जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के संदर्भ में कहा कि कश्मीर भारत का आतंरिक मामला है।

धारा 370 अस्थायी था। जो भी हम 30 सालों से कर रहे थे वो कारगर नहीं हो रहा था। अब यह नया करके देखते है।

बतौर विदेश मंत्री पहली बार जयशंकर ने कहा कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भी भारत का है और एक न एक दिन यह हमारे पास होगा (PoK part of India says External Affairs Minister S. Jaishankar)।

जम्मू-कश्मीर में तथाकथित मानवाधिकार उल्लंघन के मुद्दे पर अमेरिकी सांसदों की चिट्ठी को लेकर उन्होंने कहा कि बहुत बार लोग उनके पास जाकर भी कुछ लिखने को कहते है, ऐसा जरूरी नहीं है कि उन्हें विषय के बारे में पूरी तरह से पता हो।

वे आगे बताते है कि अमेरिका में कोई अगर मुझसे कश्मीर के बारे में पूछेगा तो मैं कहूंगा कि आपके देश ने भी आतंक का सामना किया है, अलगावाद का सामना है, तब आपने क्या किया?

धारा 370 पाकिस्तान के साथ मुद्दा है ही नहीं। विश्व को इस बात को समझना ही होगा कि पाकिस्तान (Pakistan) का मुद्दा आतंकवाद (Terrorism) का मुद्दा है।

इसलिए पहले आतंकवाद पर बात हो। ऐसा कौन सा देश है जो पड़ोसी देश के साथ आतंक को विदेश नीति के तौर पर इस्तेमाल करता हो?

पाकिस्तान के साथ परेशानी यह भी है कि वो बातें तो बहुत करता है लेकिन आतंकवाद पर कार्रवाई नहीं करता।

सार्क के भी कारगर होने में समस्या कौन सा देश है सभी को पता है। पाकिस्तान में अगर आप अल्पसंखयको की स्थिति देखें तो न सिर्फ सिंध (जहां पिछले दिनों मंदिर तोड़े गए हैं),

सिख लड़की का अपहरण हुआ है और 70 सालों में संख्या ऐसी घटी है कि वो अब उनकी खबरें तक नहीं छापते।

कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के संदर्भ में विदेश मंत्री ने बताया कि तीन बातें थीं-पहली- पता करना कि वो किस हाल में हैं, दूसरी- ICJ का फैसला लागू हो और तीसरी – उन्हें वापस लाने की प्रक्रिया शुरू हो।

तब हमनें इसमे कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav)की हालत को तरजीह दी और आखिर मुलाकात की गई।

PoK part of India says External Affairs Minister S. Jaishankar

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: