breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटेक न्यूजटेक्नोलॉजीदेशदेश की अन्य ताजा खबरें
Trending

चंद्रग्रहण 10 जनवरी को रात 10.37 से शुरू होगा, भूल कर भी न करें यह 20 काम…!

गर्भवती महिलाओं को रखना होगा विशेष ध्यान, बचें इन चीजों से नहीं तो हो सकता है, होने वाले बच्चों पर यह बुरा असर

10th January 2020 chandragrahan date-time-sutak first-lunar-eclipse-2020

नई दिल्ली, (समयधारा) : साल 2020 का पहला चंद्रग्रहण 10 जनवरी 2020 शुक्रवार को होगा l

यह ग्रहण 10 जनवरी को रात 10.37pm मीनट से शुरू होकर 11 जनवरी रात 2.42am तक रहेगा l 

इस तरह से यह चंद्रग्रहण 4 घंटे 5 मीनट तक रहेगा l 

हमारा भारत देश हमेशा से ग्रहों को अपने दैनिक जीवन में आने वाले प्रभाव से जुड़कर देखतें है l 

 इसमें सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण की अपनी अलग ही मान्यता है l

सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण के दौरान पूजन ध्यान करने के लिए कहा जाता है l 

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूतक काल में कोई भी शुभ काम करना की मनाही है l यह अशुभ माना जाता है l

कई लोग अपने घरों से कहीं बाहर नहीं जाते हैं, और ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचने का प्रयास करने की कोशिश करते हैं l 

इस दौरान खाना खाने की तो विशेष मनाही होती है l कई लोग ग्रहण लगने से पहले ही खाना खा लेती है l 

10th January 2020 chandragrahan date-time-sutak first-lunar-eclipse-2020

 माना जाता है कि खाद्य वस्तुएं ग्रहण की वजह से अपवित्र हो जाती हैं l इसलिय ऐसा लोग करते है l 

खासतौर पर अन्न के विषय में ऐसी मान्यता है l  वहीं प्रेग्नेंट महिलाओं को ग्रहण के वक्त भूख लगे तो वह फलाहार कर सकती हैं l 

पाना हो कई जन्मों का पुण्य, धन-धान्य, सुख-शांति तो करें ‘एकादशी व्रत’ 

कहा जाता हैं कि प्रेग्नेंट महिलाओं को ग्रहण के दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है l जैसे की.. 

  1. खाली आंखों से चंद्रग्रहण को न देखें. काली एनर्जी नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं l 
  2. गर्भवती महिलाओं को खास सुरक्षा का ध्यान रखना चाहिए ताकि मां के साथ ही होने वाला बच्चा भी ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचा रहे l 
  3. चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर के बाहर निकलने से भी बचना चाहिए l 
  4. ऐसा माना जाता है कि गर्भवती महिला अगर ग्रहण देख लेती है तो उसका सीधा असर उसके होने वाले बच्चे की शारीरिक और मानसिक सेहत पर पड़ता है l  इसके चलते बच्चा गंदे लाल चिन्हों के साथ भी पैदा हो सकता है l 
  5. मान्यता है कि ग्रहण पर गर्भवती मां के बाहर निकलने से जन्म के बाद बच्चे के शरीर पर कोई न कोई दाग जरूर रहता है l 10th January 2020 chandragrahan date-time-sutak first-lunar-eclipse-2020
  6. प्रेग्नेंट महिला को ग्रहण के दौरान घर से  बाहर नहीं निकलना चाहिए इससे बच्चें पर ग्रहण का असर कम होता है l 
  7. ग्रहण के दौरान अगर नींद नहीं आ रही है तो सोए नहीं बल्कि अपने भगवान/आराध्य/गुरु  का ध्यान करें या अपना कोई मनपसंद काम करें l
  8. गर्भ में पल रहे बच्चे को भी त्वचा से जुड़ी किसी तरह की परेशानी हो सकती हैl 
  9. ग्रहण के बाद गर्भवती महिलाओं को स्नान कर लेना चाहिए, इससे उनपर ग्रहण का असर कम हो जाता है l
  10. ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंट महिलाओं को नुकीली चीजों जैसे चाकू, कैंची, सूई का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए l 
  11. मान्यता है कि इस नियम का पालन न करने पर होने वाले शिशु के किसी भी अंग को हानि पहुंच सकती है l 
  12. भगवान अपने आराध्य के सामने धूप-दीप करें और कुछ एनर्जी देने वाली चीजें खाएं l 10th January 2020 chandragrahan date-time-sutak first-lunar-eclipse-2020
  13. गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान बना हुआ खाना बिल्कुल नहीं खाना चाहिए. कहा जाता है कि इस समय में पड़ने वाली हानिकारक किरणें खाने को दूषित कर देती हैं l
  14. अगर घर पर खाना बना हो तो उसमें तुरंत तुलसी के पत्ते डाल दें. वहीं ग्रहण खत्म होने के बाद उन्हें निकाल दें. ऐसा करने से ग्रहण के बाद भी खाना शुद्ध रहता है. 
  15. हो सकें तो ग्रहण के समय भोजन न करें l 
  16. उर्जा की प्राप्ति के लिए ग्रहण के बाद स्नान कर भगवान को याद करें उनकी पूजा करें और उनसे कहे की है भगवान हमारे परिवार पर हमारे दोस्तों सगे-संबंधियों पर ग्रहण का असर न होने दे l
  17. ग्रहण काल के दौरान पति-पत्नी को शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए l 
  18. मान्यता है कि ग्रहण काल किसी भी तरह के संबंध बनाने के लिए सही नहीं होता l 
  19. चंद्र ग्रहण के दौरान सोने से, किसी दवा का सेवन करने से और भगवान की मूर्तियों को स्पर्श करने से भी बचना चाहिए l 
  20. अगर ज्यादा जरूरत न हो तो ग्रहण के समय किसी भी प्रकार की दवाई या इंजेक्शन का प्रयोग न करें l
    10th January 2020 chandragrahan date-time-sutak first-lunar-eclipse-2020

नोट : यहाँ बताई गयी सभी बाते भारत की पुरानी प्राचीन प्रथाओं से ली गई है l इसकी सत्यता समयधारा या उसके लेखक प्रमाणित नहीं करते है l आप अपने विवेक के अनुसार इन पर अमल करें l 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 14 =

Back to top button