breaking_newsअन्य ताजा खबरेंराज्यों की खबरें
Trending

महाराष्ट्र कोरोना : “गोविंदा आला रे…आला” इसबार नहीं आयेंगे दहीहंडी फोड़ने गोविंदा

आर्थिक स्थिति, आयोजक, सोशल डिस्टेंसिंग के नियम के कारण दहीहंडी उत्सव रद्द करने का निर्णय लिया

corona-impact a-big-decision-on-dahihandi-festival-of-maharashtras 

मुंबई (समयधारा) : देश में कोरोना का कहर कम होने का नाम ही  नहीं ले रहा l

इस बार कोरोना के कारण लगभग सभी  त्यौहार का मजा फीका रहा l

खासकर जो जुलुस निकलते थे  और मिल जुल कर मनाएं जाने वाले  कई त्यौहार पर सड़के मोहल्ले सभी सुनसान रहे l

प्रसिद्द जगन्नाथ यात्रा हो  या फिर कोई अन्य त्यौहार सभी त्यौहार फीके रहे और अब 

महाराष्ट्र में श्रीकृष्ण जन्माष्टी और उसके दूसरे दिन दहीहंडी के उत्सव पर भी कोरोना की गाज गिर गयी है l   

यह त्यौहार महाराष्ट्र में उत्साह और बड़े पैमाने पर मनाया जाता है।  कोरोना के चलते इस उत्सव पर असमंजस की स्थिति बनी हुई थी, 

क्योंकि दही हंडी उत्सव में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की बड़ी चुनौती बनी हुई थी।

इसलिए दहीहंडी समन्वय समिति-महाराष्ट्र ने अबकी बार का दहीहंडी उत्सव रद्द कर देने की घोषणा की है।

समिति ने कहा है कि सर सलामत तो पगड़ी हजार, बचेंगे तो और भी लड़ेंगे और खेलेंगे।

पुलिस ने कोरोना संकट को देखते हुए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी सादे तरीके से मनाने की सूचना दी गई है।

इसके साथ ही मंडल की आर्थिक स्थिति, आयोजक, सोशल डिस्टेंसिंग के नियम के कारण दहीहंडी उत्सव रद्द करने का निर्णय लिया है।

इस संबंध में बुधवार को समिति के पदाधिकारियों की बैठक हुई।

corona-impact a-big-decision-on-dahihandi-festival-of-maharashtras 

पिछले कई सालों से दहीहंडी आयोजन में कई अड़चन आने के बावजूद राज्य भर गोविंदा पथकों और समिति द्वारा बड़े उत्साह से ये आयोजन किया जाता रहा है।

परंतु इस बार कोरोना ने अनिश्चितता बनाये रखी थी। इसकी वजह से सभी गोविंदा पथकों की निगाहें समन्वय समिति की ओर लगी हुई थी।

लेकिन इस साल कोरोना की वजह से राज्य भर में फैले हुए संक्रमण के चलते लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा को देखते हुए

गोविदाओं का जीवन को खतरे में नहीं डालने का निर्णय लिया है। इसलिए समिति ने अबकी बार के दहीहंडी उत्सव आयोजनों को रद्द कर दिया है।

कोरोना संक्रमण टालने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ही एकमात्र उपाय है। दहीहंडी उत्सव सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखते हुए मनाना संभव नहीं है।

इस उत्सव में गोविंदा बिना एक दूसरे छुए दहीहंडी के लिए मानव पिरामिड नहीं बना सकते हैं।

यदि लोगों ने एक-दूसरे को छूते हुए इस आयोजन में भाग लिया तो कोरोना संक्रमण बढ़ने की संभावना है।

जिसकी वजह से सुरक्षा के लिहाज से समिति ने दहीहंडी उत्सव रद्द करने का फैसला किया है।

corona-impact a-big-decision-on-dahihandi-festival-of-maharashtras 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button