breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल

LifeStyle : जी हाँ शायद हम ही वो आखरी पीढ़ी हैं… जिन्होंने…

कई-कई बार मिटटी के घरों में बैठ कर परियों और राजाओं की कहानियां सुनीं....

Life-Style We-are-the-Last Generation

LifeStyle : जी हाँ शायद हम ही वो आखरी पीढ़ी हैं… जिन्होंने…

 कई-कई बार मिटटी के घरों में बैठ कर परियों और राजाओं की कहानियां सुनीं,

जमीन पर बैठ कर खाना खाया है, प्लेट में चाय पी है।

हम वो आखरी लोग हैं, जिन्होंने बचपन में मोहल्ले के मैदानों में अपने दोस्तों के साथ पम्परागत खेल,

गिल्ली-डंडा, छुपा-छिपी, खो-खो, कबड्डी, कंचे जैसे खेल खेले हैं।

● हम वो आखरी पीढ़ी के लोग हैं, जिन्होंने कम या बल्ब की पीली रोशनी में होम वर्क किया है और नावेल पढ़े हैं।

● हम वही पीढ़ी के लोग हैं, जिन्होंने अपनों के लिए अपने जज़्बात, खतों में आदान प्रदान किये हैं।

● हम वो आखरी पीढ़ी के लोग हैं, जिन्होंने कूलर, एसी या हीटर के बिना ही बचपन गुज़ारा है।

● हम वो आखरी लोग हैं, जो अक्सर अपने छोटे बालों में, सरसों का ज्यादा तेल लगा कर, स्कूल और शादियों में जाया करते थे।

● हम वो आखरी पीढ़ी के लोग हैं, जिन्होंने स्याही वाली दावात या पेन से कॉपी, किताबें, कपडे और हाथ काले, नीले किये है।

● हम वो आखरी लोग हैं, जिन्होंने टीचर्स से मार खाई है।

Life-Style We-are-the-Last Generation

● हम वो आखरी लोग हैं, जो मोहल्ले के बुज़ुर्गों को दूर से देख कर, नुक्कड़ से भाग कर, घर आ जाया करते थे।

● हम वो आखरी लोग हैं, जिन्होंने अपने स्कूल के सफ़ेद केनवास शूज़ पर, खड़िया का पेस्ट लगा कर चमकाया हैं।

● हम वो आखरी लोग हैं, जिन्होंने गोदरेज सोप की गोल डिबिया से साबुन लगाकर शेव बनाई है।

जिन्होंने गुड़ की चाय पी है। काफी समय तक सुबह काला या लाल दंत मंजन या सफेद टूथ पाउडर इस्तेमाल किया है।

● हम निश्चित ही वो आखिर लोग हैं, जिन्होंने चांदनी रातों में, रेडियो पर BBC की ख़बरें, विविध भारती, आल इंडिया रेडियो और बिनाका जैसे प्रोग्राम सुने हैं।

● हम ही वो आखिर लोग हैं, जब हम सब शाम होते ही छत पर पानी का छिड़काव किया करते थे। उसके बाद सफ़ेद चादरें बिछा कर सोते थे।

एक स्टैंड वाला पंखा सब को हवा के लिए हुआ करता था। सुबह सूरज निकलने के बाद भी ढीठ बने सोते रहते थे। वो सब दौर बीत गया।

Life-Style We-are-the-Last Generation

चादरें अब नहीं बिछा करतीं। डब्बों जैसे कमरों में कूलर, एसी के सामने रात होती है, दिन गुज़रते हैं।

● हम वो आखरी पीढ़ी के लोग हैं, जिन्होने वो खूबसूरत रिश्ते और उनकी मिठास बांटने वाले लोग देखे हैं,

जो लगातार कम होते चले गए। अब तो लोग जितना पढ़ लिख रहे हैं, उतना ही खुदगर्ज़ी, बेमुरव्वती,

अनिश्चितता, अकेलेपन, व निराशा में खोते जा रहे हैं। हम ही वो खुशनसीब लोग हैं, जिन्होंने रिश्तों की मिठास महसूस की है…!!

हम एक मात्र वह पीढी है जिसने अपने माँ-बाप की बात भी मानी और बच्चों की भी मान रहे है l

(इनपुट सोशल मीडिया से )

Life-Style We-are-the-Last Generation

यह शायरी भी पढ़े : शायरी : मांगी हुई खुशियों से, किसका भला होता है, किस्मत में जो लिखा होता है…

शायरी : नफरतों में क्या रखा हैं .., मोहब्बत से जीना सीखो..,

दिल की बात : तेरा ख्याल भी हैं….क्या गजब….ना आए तो आफत….जो आ जाए तो कयामत…..

शायरी : जाने कौन सी शौहरत पर आदमी को नाज़ है….! जो खुद, आखरी सफर के लिए भी औरों का मोहताज़ है…!!

यह जोक्स भी पढ़े : 

मोदी जोक्स : मोदी जी की नीयत पर कोई संदेह न करें, उनकी नीयत “पाक-साफ” 

पाकिस्तानी डॉक्टर जोक्स : यूएई में एक शेख डॉक्टर के पास गया,डॉक्टर पाकिस्तानी था

कश्मीर-महबूबा-जोक्स : जम्मू कश्मीर में सभी देशभक्त DJ वाले गाना बजा रहे हैं..!

जोक्स : पाकिस्तान के व्यापार संबंध खत्म करने पर वायरल मजेदार चुटकुले 

कश्मीर जोक्स : रिक्शेवाला-बाबू जी ! कश्मीर की समस्या एक दिन में हल हो सकती है 

जोक्स : निर्मल बाबा की जय हो…निर्मंल बाबा की जय हो …

मोदी के वायरल जोक्स : लड़की बड़ी देर से ट्रेन में मोदी जी के गुण गाए जा रही थी…

Life-Style We-are-the-Last Generation

पेट्रोल-डीजल जोक्स : तेल के भाव तो मोदीजी के उम्र…..

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − four =

Back to top button