breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजराज्यों की खबरें

उद्योगपति बिड़ला ने कहा 2021 में भारत की GDP में बड़ी गिरावट संभव,कोरोना का दिया हवाला

सदी में एक बार आने वाली कोरोना जैसी महामारी और उसके चलते देशभर में लागू लॉकडाउन के कारण वित्तवर्ष 2021 में भारत की GDP में गिरावट आ सकती है

kumar-mangalam-birla-economy-may-shrink-in-fy21

मुंबई (समयधारा) : विश्व सहित देशभर  में कोरोना का कहर जारी है l  इस बीच भारत की अर्थव्यवस्था की हालात खस्ताहाल है l

कई बड़े अर्थव्यवस्था के जानकार ने भारतीय इकोनोमिक के गिरावट की बात की है l

अब इसी कड़ी में देश के बड़े उद्योगपति में से एक व Hindalco Industries के चेयरमैन Kumar Mangalam Birla ने कहा है कि,

किसी सदी में एक बार आने वाली कोरोना जैसी महामारी और उसके चलते देशभर में लागू लॉकडाउन के कारण वित्तवर्ष 2021 में भारत की GDP में गिरावट आ सकती है।

ऐसा चार दशकों में पहली बार होगा। उन्होंने आगे कहा कि भारत में कोविड-19 ऐसे समय आया है,

जब वैश्विक अनिश्चितता तथा घरेलू वित्तीय प्रणाली पर दबाव की वजह से आर्थिक परिस्थितियां पहले से सुस्त थीं।

एक अनुमान के अनुसार देश का 80 फीसदी सकल घरेलू उत्पाद उन जिलों से आता है जिन्हें लॉकडाउन के दौरान रेड और ऑरेंज क्षेत्रों  में बांटा गया

kumar-mangalam-birla-economy-may-shrink-in-fy21

और इन क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित रहीं। दिग्गज उद्योगपति ने कहा कि इसका सकारात्मक पहलू यह है कि,

यदि महामारी का दूसरा दौर शुरू नहीं होता है, तो यह मंदी सबसे कम अवधि के लिए होगी।

उन्होंनें आगे कहा कि अनिश्चितता के बादल को देखते इस समय कुछ कहना आसान नहीं है।

बता दें कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए वित्त वर्ष 2020 के आखिरी हफ्ते से देश भर में लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया गया

जो वित्त वर्ष की पहली तिमाही तक देश भर के तमाम हिस्सों में किसी न किसी रूप में लागू रहा।

कुमार मंगलम बिड़ला ने शेयरधारकों को लिखे इस पत्र में आगे कहा कि इस स्थिति में भी इस बात पर संदेह नहीं कि,

कोरोना के बाद की नई वैश्विक स्थिति में वही कंपनियां विजेता के तौर पर उभरेंगी जिनका नेतृत्व मजबूत होगा, बिजनेस फंडामेंटल्स बेहतर होंगे

और जो चुनौतियों से निपटने  की क्षमता का प्रदर्शन करेंगी। इस साल हमें इकोनॉमी में मंदी देखने को मिलेगी।kumar-mangalam-birla-economy-may-shrink-in-fy21

लेकिन 2020 की मंदी पहले की मंदियों से काफी अलग रहने वाली है। कोरोना जनित ये मंदी बड़ी तेजी से फैली

और इसने इकोनॉमी के लगभग सभी सेक्टोरों को अपनी जकड़ में ले लिया। लोगों के रोजगार पर इसका अभूतपूर्व असर देखने को मिला।

लेकिन इसका सकारात्मक पहलू यह है कि यदि महामारी का दूसरा दौर शुरू नहीं होता है, तो यह मंदी सबसे कम अवधि के लिए होगी।

उन्होंनें आगे कहा कि  दुनिया भर में लागू लॉकडाउन के उठने और कारोबारी गतिविधियों के गति पकड़ते ही  इकोनॉमी में तेज रिकवरी देखने को मिलेगी।

दुनिया भर के तमाम देशों में अब तक करीब 9 ट्रिलियन डॉलर के राहत पैकेज का एलान किया जा चुका है,

इसके साथ तमाम केंद्रीय बैंकों ने अपनी मौद्रिक नीतियों से भी इस महामारी से निपटने उपाय किए हैं। इस सबसे इकोनॉमी में तेज रिकवरी देखने को मिलेगी।

(इनपुट मनीकण्ट्रोल हिंदी से भी)

kumar-mangalam-birla-economy-may-shrink-in-fy21

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − fifteen =

Back to top button