breaking_newsअन्य ताजा खबरेंटीवी-तड़कामनोरंजन
Trending

Bigg Boss13: इस स्ट्रेटजी के तहत सिद्धार्थ शुक्ला ने बचाया है पारस छाबड़ा को…

अगर आप भी इस सवाल का जवाब जानना चाहते है तो हम बताते है कि सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा को क्यों बचाया है

मुंबई: Bigg Boss13: Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason – बिग बॉस13 (Bigg Boss13) में अगले हफ्ते ही फिनाले है और शुक्रवार रात के एपिसोड में बिग बॉस फैंस ने देखा कि इम्यूनिटी टास्क (immunity task)में सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) ने अपनी करीबी दोस्त शहनाज कौर गिल और आरती सिंह को छोड़कर पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) को (Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra) बचाया।

बेशक सिद्धार्थ शुक्ला ने इसे अहसान चुकाना (Repay) का नाम दिया हो पर असल गेम कुछ और ही है जोकि सिद्धार्थ शुक्ला ने सिर्फ अपने लिए बहुत ही स्मार्ट तरीके से खेला है।

बिग बॉस13 और शहनाज व आरती के फैंस ये सोचकर परेशान और गुस्सा है कि आखिर सिद्धार्थ शुक्ला ने अपनी दोनों करीबी महिला कंटेस्टेंट्स उर्फ फ्रेंड्स को क्यों नहीं बचाया और पारस छाबड़ा को क्यों बचाया (Bigg Boss13: Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason)?

अगर आप भी इस सवाल का जवाब जानना चाहते है तो हम बताते है कि सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा को क्यों बचाया है।

दरअसल,सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा के लिए कोई रीपे नहीं किया है बल्कि ये पूरी गेम स्ट्रेटजी सिद्धार्थ शुक्ला ने केवल अपना गेम स्ट्रांग करने के लिए और आसिम रियाज़ और रश्मि देसाई को सबक सिखाने के लिए रची है।

चलिए बताते है कैसे?

जैसाकि बिग बॉस 13 के फैंस जानते है कि बिग बॉस ने एलीट क्लब के तीनों सदस्यों आसिम रियाज़ (Asim Riaz),सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) और रश्मि देसाई (Rashmi Desai) को एक आखिरी मौका दिया था

कि वे बाकी बचे नॉमिनेट सदस्यों- पारस छाबड़ा (Paras Chhabra), माहिरा शर्मा (Mahira Sharma), आरती सिंह (Arti Singh) और शहनाज गिल (Shehnaaz Gill) में से किसी को भी इम्यूनिटी देकर फिनाले वीक में ले जा सकते है।

एलिट क्लब के तीनों मेंबर को जेल में बंद बाकी नॉमिनेट चारों सदस्यों के लिए इम्यूनिटी टास्क खेलना था।

नॉमिनेट चारों सदस्य पांच दरवाजों की जेल में बंद थे। जो कंटेस्टेंट सबसे पहले और तेजी से अपने पसंदीदा घरवाले के लिए चाबी उठाकर एक-एक करके सारे दरवाजे खोल देता, वहीं अपने पसंदीदा नॉमिनेट कंटेस्टेंट को फिनाले वीक में ले जाता और इस हफ्ते एविक्ट होने से बचा लेता।

इस टास्क में रश्मि देसाई ने आरती सिंह और शहनाज को सेफ करने के लिए चुना, लेकिन प्रायोरिटी पर आरती सिंह को रखा।

आसिम रियाज़ ने आरती सिंह को सेफ करने के लिए खेला और सिद्धार्थ शुक्ला ने पूरा गेम बदलते हुए इम्यूनिटी पारस छाबड़ा को देने का फैसला लिया।

आसिम रियाज़ और सिद्धार्थ शुक्ला एक बार फिर इस टास्क में भिड़े और हमेशा की तरह बिग बॉस ने आसिम रियाज़ की ही गलती निकाली।

बिग बॉस (Bigg Boss) की वार्निंग के बावजूद भी हमेशा की तरह सिद्धार्थ शुक्ला ने इम्यूनिटी टास्क में भी वाइलेंस किया और पारस छाबड़ा को इस हफ्ते घर से बेघर होने से बचाते हुए फिनाले वीक में पहुंचा दिया।

इस बात पर आसिम रियाज़, रश्मि देसाई की लड़ाई सिद्धार्थ शुक्ला से बहुत हुई कि उन्होंने अपने दोस्तों को छोड़कर पारस छाबड़ा को क्यों बचाया (Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason)

हालांकि सिद्धार्थ शुक्ला हमेशा की तरह छिपकर अपना गेम खेल गए और मुंह से उन्होंने यही बोला कि वे पारस छाबड़ा को रीपे कर रहे है जबकि ऐसा कुछ नहीं है।

BiggBoss13-SidharthShuklagiveimmunitytoParasChhabra,herethereason-2_optimized

सिद्धार्थ शुक्ला ने इन कारणों से बचाया पारस छाबड़ा को:

बिग बॉस13 के फैंस इस सीजन पर हद से ज्यादा पक्षपातपूर्ण होने का आरोप लगाते रहे है और कहीं न कहीं यह बात बिल्कुल सच भी है।

Bigg Boss13 में सिद्धार्थ शुक्ला हमेशा से टीम बनाकर खेलें लेकिन उन्होंने हमेशा यहीं झूठ बोला कि वे अकेले खेल रहे है।

दोस्तों के साथ स्ट्रेटजी प्लान करना, टीम बनाकर गेम खेलना, बिचिंग करना…सबकुछ सिद्धार्थ शुक्ला ने किया लेकिन फिर भी उन्होंने कैमरा पर यहीं दिखाया कि वे इस गेम को अकेले अपने दम पर खेल रहे है।जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है।

बिग बॉस13 को फॉलो करने वाले फैंस अच्छे से जानते है कि सिद्धार्थ शुक्ला खुद अपनी टीम मेंबर शहनाज कौर गिल, पारस छाबड़ा और माहिरा शर्मा से स्ट्रेटजी डिस्कस करते रहे है।

हालांकि इसमें शहनाज गिल ने हमेशा सिद्धार्थ शुक्ला का आखिर में गेम पलटा है लेकिन शहनाज का इस्तेमाल खुद सिद्धार्थ शुक्ला भी अन्य घरवालों की सोच को जानने और उनका गेम प्लान समझने के लिए करते रहे है।

लेकिन वे जानते है कि शहनाज आखिर में हमेशा अपने दिमाग से चलती है और उसके दिमाग का कोई भरोसा नहीं।

आरती सिंह को सिद्धार्थ शुक्ला ने हमेशा अपने गेम के हिसाब से बचाया (Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra,here the reason) है।

जब भी आसिम रियाज़ और रश्मि देसाई की टीम से कोई मेंबर नॉमिनेट हुआ तो सिद्धार्थ शुक्ला ने आरती सिंह को हमेशा बचाकर आसिम की टीम के मेंबर को बिग बॉस13 (Bigg Boss13) से बाहर किया है।

आरती सिंह हमेशा इस गलतफहमी में रही है कि सिद्धार्थ उन्हें बचा रहे है जबकि सच यह है कि सिद्धार्थ शुक्ला ने हमेशा अपने गेम को बचाया है और विरोधी टीम को कमजोर करने के लिए हर चाल चली है।

Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra,here the reason

जैसाकि जिस हफ्ते हिमांशी खुराना (Himanshi Khurana) नॉमिनेट थी उस हफ्ते आरती सिंह को बचाकर सिद्धार्थ शुक्ला ने जानबूझकर स्ट्रेटजी के तहत पारस छाबड़ा को नॉमिनेट किया था

ताकि आसिम की टीम से हिमांशी खुराना बिग बॉस13 से बाहर (Himanshi Khurana evict) हो जाएं और आसिम रियाज़ इमोशनली वीक पड़ जाए।

सिद्धार्थ शुक्ला जानते थे कि हिमांशी खुराना पारस छाबड़ा से कमजोर है। नॉमिनेशन में आने पर उन्हें ही वोट कम मिलते, लेकिन अगर उस हफ्ते वे आरती सिंह को नॉमिनेट कर देते तो आसिम की टीम से कोई मेंबर खासकर हिमांशी खुराना बाहर नहीं हो पाती। बल्कि आरती हो जाती और आसिम की टीम बच जाती।

चूंकि आरती सिंह को हिमांशी खुराना से कम ही वोट मिलते। सिद्धार्थ शुक्ला ने इसलिए उस हफ्ते आरती को बचाकर पारस छाबड़ा को हिमांशी खुराना के साथ नॉमिनेशन में डाल दिया।

वे जानते थे हिमांशी आरती सिंह से स्ट्रांग है लेकिन पारस छाबड़ा से वीक है और शुक्ला की स्ट्रेटजी वर्क कर भी गई थी और हिमांशी बिग बॉस13 से बाहर हो गई थी। इस बात का खुलासा खुद भाऊ से शहनाज गिल ने किया था।

ठीक यही स्ट्रेटजी सिद्धार्थ शुक्ला ने इस बार भी अपनाई। सिद्धार्थ शुक्ला ने गेम के लिए हमेशा पारस छाबड़ा के साथ प्लानिंग की है।

पारस छाबड़ा (Paras Chhabra) के रूप में सिद्धार्थ शुक्ला को एक स्ट्रांग सपोर्ट सिस्टम मिला है। जबकि शहनाज गिल और आरती सिंह सिद्धार्थ शुक्ला के लिए गेम में कोई स्ट्रांग सपोर्ट सिस्टम कभी भी साबित नहीं हो सकी है।

सिद्धार्थ शुक्ला जानते है कि गुस्सा उनकी कमजोरी है और गुस्से में वो खुद अपना गेम कब खराब कर लें, उन्हें नहीं पता चलता।

ऐसे में पारस छाबड़ा के साथ स्ट्रेटजी बनाकर गेम खेलने से सिद्धार्थ शुक्ला को स्ट्रांग सपोर्ट मिल जाता है और घर में बने रहने का हौंसला भी बुलंद हो जाता है।

बिग बॉस13 के फैंस की नजर में सिद्धार्थ शुक्ला दिखाते है कि उन्हें सपोर्ट की जरूरत नहीं बल्कि उनके कथित दोस्तों को सिद्धार्थ के सपोर्ट की जरूरत है।

जबकि सच यही है कि फिनाले वीक में घर में स्ट्रांग बने रहने के लिए सिद्धार्थ शुक्ला को एक स्ट्रांग और शांत और शार्प माइंड सपोर्ट की जरूरत है जो उन्हें समझा सकें कि वे कहां गलत जा रहे है?

शहनाज पर सिद्धार्थ भरोसा कर नहीं सकते चूंकि वो फ्लिपर है और आरती सिंह को वे इस लायक ही नहीं समझते।

फिनाले वीक में बिग बॉस13 के घर में सिद्धार्थ शुक्ला अकेले होकर कमजोर न पड़ जाएं और गेम लूज न कर जाएं इसलिए उन्होंने पारस छाबड़ा को बचाया।

आप कह सकते है कि पारस छाबड़ा को बचाकर सिद्धार्थ शुक्ला ने खुद को बचाया है और खुद का गेम स्ट्रांग किया है

चूंकि अंदर से सिद्धार्थ शुक्ला भी जानते है कि उन्हें एक स्ट्रांग सपोर्ट सिस्टम की बहुत जरूरत है जिसके साथ वे प्लानिंग-प्लूटिंग करते रहे। ये सपोर्ट उन्हें शहनाज गिल और आरती सिंह में कभी नहीं मिल सकता।

इसलिए सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा के लिए कोई रीपे नहीं किया है बल्कि घर में अकेले होकर वे कमजोर न पड़ जाए इसलिए उन्होंने पारस छाबड़ा को बचाया है, ताकि पारस छाबड़ा अंत तक उन्हें गेम में सपोर्ट करते रहे।

Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason

बीते एपिसोड में खुद पारस छाबड़ा ने भी बोला है कि रीपे की कोई बात तो नहीं है हो सकता है कि वो मुझे दोस्त मानता है इसलिए बचाया है।

जबकि सच यह है कि बिग बॉस13 में बहुत स्मार्ट तरीके से सिद्धार्थ शुक्ला ने दोस्ती की आड़ में हमेशा खुद का गेम मजबूत किया है और अपने हर दोस्त को केवल अपना गेम स्ट्रांग करने के लिहाज से बचाया है चूंकि वे भी जानते है कि घर के अंदर टिके रहने के लिए एक स्ट्रांग सपोर्ट सिस्टम की जरूरत अंत तक रहती है।

आसिम रियाज और रश्मि देसाई से घर के अंदर टक्कर लेने के लिए उन्हें पारस छाबड़ा के दिमाग और उनकी स्ट्रेटजी की जरूरत पड़ेगी। चूंकि आरती सिंह को वे किसी लायक समझते नहीं और शहनाज गिल का वे भरोसा कर नहीं सकते।

सिद्धार्थ शुक्ला जानते है कि पारस छाबड़ा के सपोर्ट के साथ वे गेम को बेहतर तरीके से प्लान कर सकते है और अंत तक स्ट्रांग बनकर खेल सकते है।

वर्ना सिद्धार्थ का गुस्सा होकर हमेशा की तरह वाइलेंस करना, उन्हें अंत में गेम में हरा सकता है। उनकी इस कमजोरी को कोई कंट्रोल कर सकता है तो वे है पारस छाबड़ा।

इसलिए सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा को बचाकर गेम में अकेला पड़ने से खुद को बचाया है चूंकि बीते काफी समय से पारस छाबड़ा ही स्ट्रेटजी बना रहे है

और प्यादे की तरह सिद्धार्थ शुक्ला केवल उसे फॉलो कर रहे है और फैंस को दिखा रहे है कि वे बिग बॉस13 अपने दम पर खेल रहे है जबकि यह सरासर झूठ है।

सबसे बड़ा सपोर्ट सिस्टम सिद्धार्थ शुक्ला को बिग बॉस मेकर्स और सलमान खान का है। जितना बिग बॉस13 में पक्षपातपूर्ण रवैया और सिद्धार्थ शुक्ला के लिए फेवरेटिज़्म दिखाया गया है उतना शायद ही किसी और सीजन में किसी भी कंटेस्टटेंट के साथ दिखाया गया हो।

इसलिए सिद्धार्थ शुक्ला अपना गेम चाहे जैसे खेल रहे हो लेकिन अपने दम पर बिल्कुल नहीं खेल रहे और न ही उन्होंने पारस छाबड़ा को बचाकर कोई रीपे किया है बल्कि पारस छाबड़ा को बचाकर खुद को गेम में अकेले पड़ने से बचाया है और अपना सपोर्ट सिस्टम मजबूत किया है।

Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason

बिग बॉस13 के फैंस को सिद्धार्थ शुक्ला के कनेक्शन विकास गुप्ता की वो बात शायद याद होगी जहां गुप्ता शहनाज को समझा रहे थे कि मान लो टॉप 5 में पारस,माहिरा नहीं पहुंचते।

तुम और विशाल आ जाते हो तो तुम्हारे फ्लिपर नेचर के कारण तो सिद्धार्थ शुक्ला गेम में अकेला पड़ जाएगा जबकि उसे भी तो सपोर्ट की जरूरत है।

जब विकास गुप्ता खुद मानते है कि बिग बॉस13 में बने रहने के लिए सिद्धार्थ शुक्ला को सपोर्ट की जरूरत है तो सिद्धार्थ शुक्ला कैसे खुशफहमी में रह सकते है कि वे अपने दम पर गेम खेल रहे है।

सिद्धार्थ शुक्ला का अग्रेसिव नेचर ही बताता है कि वे जानते है कि वे इस गेम में कितना कमजोर है और पूरी जर्नी उन्होंने BB मेकर्स के पक्षपातपूर्ण रवैये और अपनी टीम के सहारे निकाली है।

आपकी नजर में सिद्धार्थ शुक्ला ने पारस छाबड़ा को क्यों बचाया? अपनी राय हमें कॉमेंट बॉक्स में जरूर दीजिएगा।

 

Sidharth Shukla give immunity to Paras Chhabra here the reason

 

बिग बॉस और मनोरंजन जगत से जुड़ी लेटेस्ट खबरों को पाने के लिए फॉलो और लाइक करें समयधारा।

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: