breaking_newsअन्य ताजा खबरेंब्लॉग्सलाइफस्टाइलविचारों का झरोखा
Trending

कर रहे है शादी का प्लान? तो रखें पार्टनर की इन बातों का ध्यान

जब भी कोई लड़का/लड़की शादी का प्लान करता है तो सबसे पहले उसे ध्यान रखना चाहिए कि आखिर वह शादी कर ही क्यों रहा/रही है...

Important things before making marriage decision

प्यार और शादी दो ऐसे एहसास है जिनकी दरकरार अमूनन सभी को होती है। हमारे भारतीय समाज में तो शादी को हर मर्ज की दवा समझा जाता है।

मसलन- लड़के का बिजनेस या व्यापार अच्छा नहीं चल रहा, नौकरी नहीं मिल रही तो…शादी कर लो…ऐसा कहा जाता है।

लड़की बीमार रहती है…करियर में सफल नहीं हो पा रही या उम्र ज्यादा होती जा रही है…तो इलाज शादी कर लो कहा जाता है।

ऐसा भले ही हम 21वीं सदी में हो लेकिन आज भी बहुसंख्यक भारतीय परिवार और खुद लड़के या लड़कियां भी अपने जीवन की हर परेशानी का इलाज सिर्फ और सिर्फ शादी में ढ़ूंढने लगते है।

नतीजतन, आनन-फानन में रिश्ते या तो लड़का-लड़की खुद जोड़ते है या फिर परिवार उन्हें मिलाता है और बहुत ही कम अरसे में दोनों शादी के बंधन में बंध जाते है। फिर कुछ समय बाद एक-दूसरे की असलियत से होता है सामना।

आएं दिन के झगड़े, ब्लेम-गेम और दी एंड या तो तलाक या फिर दूसरी शादी।

ऐसा नहीं है कि यह सब प्रत्येक शादी (wedding) में होता है लेकिन आज की इस मॉडर्न और कंप्टीशन से भरी जिंदगी में बहुसंख्यक शादियों का यही अंजाम हो रहा है।

सिर्फ शादी ही नहीं बल्कि लव-रिलेशन (Love) या सगाई (Engagement) में भी यह सब देखने को मिलता है और नतीजा-ब्रेकअप।

Engagement or sagai-Are you planning a wedding

अब सवाल उठता है कि ब्रेकअप (Breakup) या तलाक (Divorce) की नौबत ही क्यों आ रही है।वो कौन सी गलतियां है

जो समय रहते आपने सुधार ली होती तो कम से कम आप एक भावनात्मक चोट (emotionally hurt) से बच जाते। आज हम इसी पर बात करने जा रहे है।

Important things before making marriage decision

-जब भी कोई लड़का/लड़की शादी का प्लान करता है तो सबसे पहले उसे ध्यान रखना चाहिए कि आखिर वह शादी कर ही क्यों रहा/रही(Marriage decision)है। आपको सुनकर शायद अजीब लग रहा होगा,लेकिन यह बिल्कुल सच है।

किसी भी काम को सिर्फ इसलिए कर लेना की  पूरी दुनिया उसे करती है, उसके सही और सफल होने का प्रमाण बिल्कुल नहीं है। मसलन- अगर आप शादी केवल समाज और परिवार के दबाव में आकर कर रहे है, तो संभल जाएं।

शादी आज के समय में भले ही जन्मो-ंजन्मों का बंधन न रहा हो लेकिन कम से कम इस एक जन्म में आपकी आगे की जिंदगी की खुशियां और आपका वजूद इस पर निर्भर करता है।

इसलिए किसी भी दबाव में शादी का फैसला कभी न करें।

आपका काम ठीक से नहीं चल रहा या किसी बाबा और पंडित ने बोल दिया कि फलां नंबर या ग्रह की लड़की या लड़के से शादी करने पर आपकी किस्मत बदल जाएगी…

यह बात आपकी शादी करने की वजह कतई नहीं होनी चाहिए। वर्ना आज के समय में जितनी भी कुंडली से शादियां हुई है सब की सब 100 प्रतिशत सफल रहती।

सबसे पहले आप अपने शादी करने की वजह को खुद से पूछे। इसे एक संस्कार समझकर बिल्कुल न करें। सब कर रहे है तो चलो मैं भी कर लेता हूं।

आप खुद से पूछे आपको लाइफ-पार्टनर (Life partner) की जरूरत क्यों है? अगर शादी सिर्फ बच्चे पैदा करने के लिए या खाना बनाने के लिए  कर रहे है तो लड़की में केवल यही गुण देखें। बाकी सभी बातों को नजरअंदाज करें

Important things before making marriage decision

और अगर आप शादी पैसा पाने के लिए कर रहे है तो लड़के का सिर्फ बैंक बैलेंस देखे और ज्यादा उम्मीद न रखें कि वह आपसे प्यार करता है या नहीं। आपके प्रति ईमानदार है या नहीं।

ध्यान रखें ज्यादातर शादियां अधिकतम उम्मीदें लगाने के कारण टूटती है। सर्वगुण संपन्न कोई नहीं होता और आप खुद भी नहीं है।

अगर आपके दिमाग में आपकी शादी करने की मेन वजह क्लियर होगी, तो वक्त के साथ पार्टनर में जब एक-एक करके सारी क्वालिटी जाती चली जाएंगी

लेकिन वही एक क्वालिटी जिसके कारण आपने अपने पार्टनर को पसंद किया था,  बरकरार रहेगी तो भी आपकी शादी सफलतापूर्वक चलती रहेगी।

अंतत: अगर शादी आप खुश रहने के लिए कर रहे है तो नीचे हम उन संकेतों को बता रहे है जो एक सफल और सुखमय शादी के लिए सबसे अहम है:

Important things before making marriage decision:

Good listener

-गुड लिसनर- जब भी लड़के/लड़की से मिलें तो देखें कि वह पहली मुलाकात में आपको सुन कितना रहा है/रही है। याद रखिए एक गुड लिसनर ही एक गुड पार्टनर हो सकता है।

अगर सामने वाला हमेशा से सिर्फ और सिर्फ खुद के बारे में बाते करता रहता है तो समझ लें कि यह इंसान एक आत्मकेंद्रित व्यक्ति है। जिसके लिए अपने पार्टनर की पसंद-नापसंद कोई मायने नहींं रखती।

अगर कुछ मायने रखता है तो अपने जीवन की परेशानियां और अपना परिवार व रिश्ते। जब भी दो लोग प्यार और सगाई के बंधन में बंधते है तो उनमें एक-दूसरे को जानने और समझने की जिज्ञासा बहुत होती है।

अगर आपका पार्टनर आपको यह कहकर बेवकूफ बना रहा है कि मुझे पता है कि तुम्हें कैसा पार्टनर चाहिए या तुम्हें शादी के बाद कैसी जिंदगी चाहिए, इसलिए मैं तुमसे कोई बात नहीं पूछता/पूछती,तो समझ लें कि वह बहुत ही चालाक और केवल बातें बनाने वाले इंसान है।

Important things before making marriage decision:

-ईमानदारी को न बनाएं शादी करने की वजह- पढ़कर आप अचंभित होंगे कि शादी के लिए ईमानदारी तो सबसे अहम क्वालिटी है फिर हम ऐसा क्यों कह रहे है।

दरअसल, ईमानदारी और ईमानदारी के ढोंग में फर्क होता है। अक्सर देखा गया है कि कई लड़के/लड़कियां अपने पास्ट रिलेशन के बारे में ईमानदारी से सबकुछ बता देते है और कई बार तो लड़के अपनी माली हालात के बारे में भी लड़की को सब बता देते है।

कई बार लड़कियां भी अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों के बारे में सबकुछ बता देती है। इस बात पर आपको शादी का फैसला नहीं लेना चाहिए।

मतलब- जब भी कोई लड़का/लड़की शादी से पहले अपने पास्ट के बारे में सबकुछ बता देता है तो पार्टनर को लगता है कि यार….कितना ईमानदार इंसान है। अपने जीवन की कमजोरियों को खुद बता रहा है/बता रही है।

Important things before making marriage decision:

अगर इसे धोखा देना होता तो बताता या बताती थोड़े ही? पर नहीं जनाब, मॉर्डन फ्रॉड्स की यही तो असलियत है। खुद को विक्टिम बताकर, अपनी ईमानदारी का ढोंग करके आपका विश्वास जीतना और आपके दिल व परिवार में अपनी जगह बनाना।

लेकिन यही वो समय है जब आपको सतर्क रहना है। चूंकि यह आपके लिए एक इमोशनल ब्लैकमेलिंग हो सकती है। जी हां, आजकल धोखेबाज पार्टनर इस ट्रिक को सबसे ज्यादा अपनाकर प्यार और शादी के बंधन को बर्बाद कर रहे है।

आपके पार्टनर की बताई या दी गई एक-एक जानकारी को समय रहते वेरिफाई जरूर करें। अगर आप इस स्थिति में नहीं हैै कि आप वेरिफाई खुद कर सकें या करवा सकें तो इस प्रकार के पार्टनर की एक-एक हरकत, एक-एक शब्द और एक्शन पर पूरा गौर करें।

एक धोखेबाज और ड्रामेबाज इंसान अक्सर छोटी-छोटी लेकिन महत्वपूर्ण गलतियां करता है,लेकिन विश्वास और प्यार के सुरूर में आप ध्यान नहीं देते और फिर आपके इमोशन्स के साथ खिलवाड़ शुरू हो जाता है।

Important things before making marriage decision:

Important things before making marriage decision- Priority

-प्रायोरिटी है प्यार- अगर आप जिसके साथ शादी का प्लान कर रहे है। रिश्ते की शुरूआत से लेकर आगे-आगे समय बढ़ने तक पूरा ध्या्न दें कि क्या आप उसकी प्रायोरिटी या प्राथमिकता है?

मसलन- क्या जब भी आप कोई भी फ्यूचर प्लान कर रहे होते है, या साथ समय बिता रहे होते है या काम में आगे बढ़ने का प्लान कर रहे होते है तो उस दौरान भी वो अपने किसी फैमिली मेंबर का अचानक से बार-बार जिक्र करने लगता या लगती है तो संभल जाए।

किसी भी वजह से अगर आपसे दूर होकर , वह आपको पूरा-पूरा दिन फोन कॉल नहीं करता लेकिन जब आप साथ होती है तो वह अपने  फैमिली मेंबर्स से एक दिन भी बिना बात किए नहीं रहता,

तो समझ जाएं कि आप उस व्यक्ति की प्रायोरिटी लिस्ट में नहीं है और वह यह शादी केवल परिवार या समाज में एक स्टेट्स सिंबल के लिए कर रहा है या कर रही है।

Important things before making marriage decision:

दरअसल, प्यार का मतलब ही प्रायोरिटी है। जब आप किसी के जीवन की प्रायोरिटी बनते है तो आपके सुख और दुख उसके लिए सबसे अहम हो जाते है। खासकर जब एक लॉन्ग पीरियड के बाद आप दोनों शादी का प्लान कर रहे हो।

अगर पार्टनर साथ ही रहता है लेकिन साथ रहकर भी आपकी बातों पर उसका ध्यान नहीं। तो आप उसकी प्रायोरिटी बिल्कुल नहीं है। आगे जाकर आप उसके साथ खुश नहींं रहेंगे।

आप अपने पार्टनर के साथ घर से बाहर जा रहे है जैसेकि कि फिल्म देखने या किसी पार्टी में और यह आपका एकदम प्राइवेट टाइम है लेकिन इस समय में भी वह अपने फैमिली मेंबर-मां-बाप,भाई-बहन,भतीजा-भतीजी किसी को भी कॉल करता है। 

और बताता है कि आप एक प्राइवेट इवनिंग के लिए निकल रहे है तो समझ लें कि आप उसकी प्रायोरिटी नहीं है और न ही उसे आपसे प्यार है। इसे कुछ लोग जिम्मेदारी कह सकते है लेकिन अपने पार्टनर के साथ प्राइवेट पलों का ढिंढ़ोरा पीटकर जाना…जिम्मेदारी नहीं बल्कि उसके इंडिपेंडेंट डिसीजन लेने में कमी का परिचायक है।

Important things before making marriage decision:

आपके साथ झगड़ा होने पर भी वह खुश रहता है और परवाह तक नहीं करता की आप डिस्टर्ब होंगी लेकिन परिवार में किसी के साथ झगड़ा होने पर उनका मुंह पूरा दिन उतरा रहता है तो समझ लें कि आपका उनकी जिंदगी में होना न होना एक बराबर है और आपके साथ रिश्ता दिखावटी है।

याद रखिए शादी का मतलब सिर्फ एक-दूसरे के साथ समय बिताना या साथ सोना नहीं है बल्कि शादी एक गहन जिम्मेदारी है और यह जिम्मेदारी है सबसे पहले एक-दूसरे के इमोशन को समझने और उनके अनुसार खुद को ढालने की है।

physical-relationship

 

-शादी से पहले शारीरिक संबंध- वैेसे तो यह हर किसी का निजी निर्णय होता है लेकिन अक्सर देखा गया है कि एक धोखेबाज पार्टनर आपसे शादी से पहले शारीरिक संबंध बनाने पर जोर देता है, हां अगर आपकी सहमति है तो आप उसे धोखेबाज कहने का हक नहीं रखते

लेकिन आपकी असहमति को भी अगर वो नजरअंदाज कर रहा है या रही है तो समझ लें कि वह आपके साथ सिर्फ इसी एक चीज के लिए है। चूंकि प्यार और संबंधों में दोनों पार्टनर की हां या न जरुरी है।

Important things before making marriage decision:

लेकिन अगर आप दोनों के बीच कोई भी शारीरिक संबंध नहीं बना है और न ही पार्टनर ने आपको कभी फोर्स किया तो इसका मतलब भी यह नहीं कि वह आपके प्रति ईमानदार है।

अब आप सोचेंगे कि वह कैसे। दरअसल, आजकल प्यार और शादी जैसे भावनात्मक संबंधों को बहुत ही चालाकी और चतुराई के साथ सामने वाले के दिमाग और सोच को समझकर धोखेबाज लोग उनकी असहमति की रिस्पेक्ट करने का ढ़ोंग करते है

और फिर जब आपके सामने किसी भी वजह से उनकी असलियत आती है तो आपको ब्लैकमेल करते है कि वह उनके साथ रिश्ता तोड़ने की वजह यह झूठ फैलाएंगे कि आपके उनके साथ संबंध थे।

भले ही आप कभी तन से एक न हुए हो लेकिन एक लॉन्ग रिलेशन में होने के कारण समाज और परिवार की सोच बन जाती है कि ऐसा तो हो ही नहीं सकता की आग-फूस साथ रहे

Important things before making marriage decision:

और जले न लेकिन ऐसे लोगों की घटिया सोच पर आपको दुखी होने की जरूरत नहीं चूंकि इंसान के इमोशन और बेजान फूस और ज्वलंत आग में बहुत फर्क होता है।

किसी की मदद को अपनी शादी करने की वजह न बनाएं- महिलाओं के केस में ज्यादातर देखा गया है कि कई लड़के मददगार बनकर लड़की या उसकी फैमिली से मिलते है और फिर धीरे-धीरे अपनी उस मदद की कीमत या तो उसके घर में पैर पसारकर वसूलते है

या फिर वक्त बे वक्त किसी न किसी बहाने पैसा मांगकर या कोई इमोशनल गेम खेलकर लड़की और उसके परिवार से वसूलते है। याद रखिए कि किसी का मदद करना,उसके साथ शादी का करने का आधार कभी नहीं होना चाहिए।

मदद एक पल की लेकिन शादी ताउम्र का फैसला होता है इसलिए एक परिस्थित को कभी भी किसी व्यक्ति के चरित्र का सर्टिफिकेट न समझें।

Important things before making marriage decision:

taking stand a girl for marriage

-स्टैंड लेना- क्या आपका पार्टनर आपके लिए स्टैंड लेता है? इसे एक उदाहरण से समझे। आप अपने पार्टनर के साथ लव रिलेशन में है और उसकी पसंद है।

लेकिन उसके घरवालों की आप पहली पसंद नहीं है और उन्होंने शुरू में इस रिश्ते का बहुत विरोध किया है लेकिन आपके पार्टनर के समझाने-बुझाने पर वह आपके लिए राजी भले ही हो गए हो

लेकिन उनके मन की खट्टास आप किसी न किसी मौके पर महसूस करते जा रहे है और पार्टनर को इस बारे में आगाह करने के बावजूद भी वह इस पर ध्यान नहीं दे रहा तो समझ लें कि वो व्यक्ति जिंदगी में आपके लिए स्टैंड नहीं लेगा।

Important things before making marriage decision:

अब यहां कुछ लोग सोच सकते है कि स्टैंड लिया तो अगर परिवार को राजी कर लिया। जी नहीं, आपके पार्टनर के परिवार ने आपको केवल और केवल अपने बेटे या बेटी की जिद के कारण किया लेकिन मन से आप उनकी पसंद नहीं है और उनका आपके प्रति व्यवहार भावनात्मक रूप से भेदभाव भरा रहा है।

खासकर लड़कियों के मामले में लड़के की मां या बहन या भाई या फिर पिता भावी बहू को दिल से स्वीकार नहीं कर पा रहे, फिर वजह कुछ भी हो और यह बात लड़की मन में महसूस कर रही है और पार्टनर को क्लियर बता भी रही है लेकिन आपका पार्टनर इसे आपकी गलतफहमी समझ कर दरकिनार कर रहा है

तो समझ लें कि ऐसा व्यक्ति विपरीत से विपरीत परिस्थिति में अपने परिवार के सामने आपका स्टैंड नहीं लेगा चूंकि उसकी एक सोच है कि आप ओवररिएक्ट करती है।

कभी भी किसी भी रिलेशन में यह छोटी-छोटी बातें दिखें तो उन्हें नजरअंदाज न करें चूंकि शादी अंतत: जीवन के छोटे-छोटे पलों का एक सुंदर समागम ही है।

Important things before making marriage decision:

इतना ही नहीं, आपने हर परिस्थिति में अपने पार्टनर का अपने घर में स्टैंड लिया। किसी ने भी उनकी किसी भी आदत पर जब उंगली उठाई तो आपने ढ़ाल बनकर उन्हें बचाया और उनकी कमजोरियों को दबाया,

लेकिन जब बात आपकी कमजोरियों या आदतों को छिपाने की आई तो आपके पार्टनर ने न केवल आपके भावी ससुराल और दोस्तों के साथ उन्हें डिस्कस किया बल्कि उनकी सलाह के अनुसार अपने रिश्ते और आपको हैंडल किया

तो यह सबसे बड़ा संकेत है कि वह आपके साथ विश्वासघात कर रहा है और आपके ऊपर उसे विश्वास नहीं है और न ही वह दिल से आपकी इज्जत करता है।

Important things before making marriage decision:

trust-couple

-विश्वास-आपने अपने पार्टनर के ऊपर विश्वास करके अपने बारे में, अपने परिवारवालों के बारे में और अपनी वित्तीय स्थिति के बारे में सबकुछ बता दिया लेकिन आपके पार्टनर ने अपने परिवार और अपनी फाइनेंशियल पॉजिशन की असलियत बताना हमेशा किसी न किसी बहाने से टाला है तो समझ लें कि वह आपका इस्तेमाल कर रहा है या कर रही है।

आपका पार्टनर अपने मां-बाप  या किसी भी अन्य फैमिली मेंबर से टिप्स लेकर आपके साथ अपने रिश्ते को निभा रहे है तो समझ लें कि यह रिश्ता दिल से नहीं बल्कि दिमाग से बनाया गया है और उस पार्टनर को आपके ऊपर बिल्कुल भी भरोसा नहीं।

इनफेक्ट उसे खुद पर भी भरोसा नहीं तभी उसे अपने रिश्ते को संभालने के लिए किसी थर्ड पर्सन की जरूरत पड़ रही है। शादी से पहले यह हाल है तो शादी के बाद तो बहुत ज्यादा उतार-चढ़ाव आते है, ऐसे में आप विश्वास नहीं कर सकते कि वह व्यक्ति आपके साथ खड़ा रहेगा या विपरीत हालातों में आपकी समझ और आपके ऊपर विश्वास करेगा।

सिंपल सी बात है जिसे आपके ऊपर भरोसा होगा वह आपकी खामियों को कभी भी अपने परिवार को नहीं बताएगा और आपके लिए हमेशा स्टैंड लेगा।

चूंकि वह समझेगा या समझेगी की आप उनके परिवार और जीवन में नए हो, जिसको समझने में अभी आपको वक्त लगेगा और आपकी इज्जत उनकी इज्जत है।

आपके ससुराल में शादी से पहले पहुंची आपकी एक कमजोरी ताउम्र एक माइंडसेट तैयार रखेंगी। फिर भले ही आपका पार्टनर आपके साथ अच्छा रहे लेकिन उसका परिवार शादी से पहले बताई गई आपकी कमजोरियों के चलते वक्त-बेवक्त आपको अपमानित करेगा ही करेगा

और तब आपका पार्टनर भी कुछ नहीं कह सकेगा चूंकि उसने अपने रिश्ते की कमजोरियां अपने परिवार को खुद बताई है। यह बात लड़का/लड़की दोनों पर लागू होती है।

इसलिए अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ हो रहा है या हो चुका है तो ऐसे इंसान से शादी न करें चूंकि वह आपके ऊपर विश्वास नहीं करता और बिना विश्वास कोई रिश्ता नहीं निभता। 

 

-रिश्ते को समय दें- अगर आप किसी लव-रिलेशन में है या फिर सगाई कर चुके है तो अपने रिश्ते को शादी के अंजाम तक  पहुंचाने में कम से कम एक साल और ज्यादा से ज्यादा तीन से चार साल तक का समय दें।

जी हां, आज के समय में धोखेबाज लड़के/लड़कियों की असलियत सामने आने में इतना वक्त लगना सामान्य सी बात है। दरअसल, किसी भी रिश्ते का शुरूआती समय उसका हनीमून पीरियड होता है मतलब जब दोनों पार्टनर एक-दूसरे की खाामियों से ज्यादा एक-दूसरे की खुबियों पर फोकस करते है

और बहुत सी बातें जो अहम होती है, उन्हें छोटी सी समझकर नजरअंदाज कर देते है। मसलन- वह आपकी छोटी-छोटी जरूरतों का पहले ध्यान रखता या रखती थी लेकिन अब ऐसा कुछ नहीं है।

पहले आपकी परेशानी उनकी परेशानी होती थी लेकिन अब आपकी परेशानी से ऊपर उनके लिए उनकी नींद, ऑफिस या उनका अपना परिवार हो गया है

तो समझ लें कि चीजें बदल चुकी है और आपको अभी शादी के लिए आगे नहीं बढ़ना ।

अगर लड़का लव रिलेशन या सगाई के बाद से ही लड़की से पैसे मांगने लगा है। तो संभल जाए। कई बार लड़के/लड़कियां भी अपनी आर्थिक मजबूरियों का हवाला देकर, सच्चाई और ईमानदारी का ढ़ोंग करके

पार्टनर को इमोशनल ब्लैकमेल करते है और किसी न किसी बहाने से अपना खर्चा उठवाते रहते है।

अगर आपका पार्टनर भी शुरू से ऐसा ही कर रहा है तो समझ लें कि उसका मकसद आपके साथ शादी करना नहीं बल्कि आपके पैसों पर पलना और आगे बढ़ना है।

कोई भी गैरतमंद लड़का/लड़की अपने भावी पार्टनर से एक-दो बार पैसा मांगने के बाद कभी भी दोबारा हाथ नहीं फैलाएंगा।

हालांकि एक स्वाभिमानी इंसान तो एक-दो बार भी नहीं हाथ फैलाएंगा लेकिन कई ऐसे केसेज भी आएं है जहां पर लड़के ने  बुरे वक्त में साथ देने वाली लड़की का कभी साथ नहीं छोड़ा

और इस बात का हमेशा सम्मान भी किया और सभी के सामने स्वीकार भी किया कि उसकी पार्टनर ही उसका खर्चा चलाती है। लेकिन आप इसे सटीक प्रमाण न समझे। ऐसे केस अपवाद में ही आते है।

Important things before making marriage decision:

fraud- Important things before making marriage decision

-दिखावटी लोगों से बचें- कुछ लोग संस्कारी और अच्छे होने का बेहतरीन दिखावा करते है। ऐसे लोग बाहर वालों के सामने या अपने पार्टनर के परिवार के सामने बहुत ही संस्कारी, मददगार बनते है

लेकिन अकेले में पार्टनर की कोई परवाह नहीं करते। ऐसे दिखावटी लोगों से बचें। कुछ लोग काम कम करते है और बातें बड़ी-बड़ी करते है।

ऐसे ऊंची-ऊंची फेंकने वालों पर कभी भरोसा न करें और बचें। उनकी कथनी और करनी पर हमेशा नजर रखें। आपके सामने सच्चाई आ जाएगी।

 

-मामाज़ बॉय- यह उपनाम उन भारतीय लड़कों को दिया जाता है जो अपनी जिंदगी का हर डिसीजन अपनी मां से पूछकर लेते हैे। प्यार और शादी किसी भी व्यक्ति के पूरी तरह से स्वतंत्र निर्णय होने चाहिए। चूंकि अंतत: दोनों को ही ताउम्र  साथ रहना है।

ऐसे में कुछ लड़के ऐसे होते है जो अपनी पार्टनर के साथ क्या बिहेव करना है, उसे क्या देना है क्या नहीं देना है। लड़की की किन आदतों से वह परेशान है या लड़की के परिवार में क्या परेशानियां है

या फिर दोनों के बीच में कोई निजी टेंशन है तो उसे भी दूर करने के लिए इन्हें केवल अपनी मम्मी की सलाह की जरूरत होती है।

मतलब ऐसे लोग शरीर से भले ही बड़े हो जाते है लेकिन दिमाग से बच्चे ही रहते है और किसी भी लड़की को अपने जीवन और परिवार में वो सम्मान कभी भी नहीं दे सकते जिसकी उसे जरुरत होती है।

दरअसल, जीवन में हर रिश्ते की एक अपनी अहम जगह है और अपनी एक अहम निजता है। किसी भी लड़के को चाहिए कि वह इस बात को समझें और जिस लड़की से शादी करना चाह रहा है, उसके संबंध में निर्णय अपनी मां से पूछ-पूछकर न लें और न ही जिस लड़की से वह शादी करने जा रहा है उसकी तुलना अपनी मां से करें।

सच तो यह है कि दुनिया का कोई भी लड़काअपनी मां जैसी पत्नी और लड़की अपने पिता जैसा पति कभी नहीं पा सकते। चूंकि दोनों रिश्तों में भावनाओं का बहुत अहम फर्क है। इसलिए तुलना से बचें।

इसका सीधा सा मतलब है कि वह न उस लड़की को समझ पा रहा है और न उसमें किसी भी रिश्ते को संभालने की काबिलियत है।

ऐसे नाकाबिल लोगों के साथ शादी के बंधन में न बंधे। इतना ही नहीं, जब भी आप उनकी मम्मी की बात करती है तो वह उनका नाम लेने भर से ही आपके ऊपर चिल्लाने लगते है।

अपनी मां पर आपसे कहीं ज्यादा भरोसा करतेे है और यह बात की कल्पना करने से भी बचते है कि उनकी मां से भी गलती हो सकती है,

तो समझ लें कि आप एक गलत इंसान के साथ रिश्ते में है और इस रिश्ते को बचाएं रखने के लिए हमेशा आपके पार्टनर की मम्मी की जरूरत पड़ेगी। जरूरतों के सहारे शादी के बंधन नहीं बंधते।

Important things before making marriage decision

Confuse in love

-कंफ्यूजन- आपका पार्टनर कभी आपके साथ बहुत अच्छे से प्यार से व्यवहार करता है और कभी काफी समय तक आपकी परवाह तक नहीं करता। वह आपके ऊपर भले ही ध्यान न दें

लेकिन आपके परिवारवालों की इज्जत करता है। इन सब बातो से आप कंफ्यूज है कि वह आपसे प्यार करता है या नहीं तो। इसका जवाब है- बिल्कुल नहीं।

जी हां, किसी भी लड़के-लड़की के लिए शादी के बंधन में बंधने से पहले एक-दूसरे का महत्व सर्वोपरि होना चाहिए। बारिश की बूंदो की तरह आपको उनका प्यार नहीं मिलना चाहिए।

कभी प्यार और कभी रूखा व्यवहार रिश्ते में बार-बार दिख रहा है और आप कंफ्यूज है कि वह आपसे प्यार करता है या नहीं तो आपके लिए यह रिश्ता सही नहीं है।

चुपचाप निकल जाना बेहतर है। प्यार और शादी में जिम्मेदारी सबसे अहम चीज होती है और जो व्यक्ति शादी से पहले ही आपसे ज्यादा बाकी लोगों के प्रति अपनी जिम्मेदारियां समझ रहा है,वह आपसे प्यार नहीं करता और उसके दिमाग में गलतफहमी है कि आपके परिजनों के प्रति उनकी निभाई जिम्मेदारियां प्यार है।

प्यार का मतलब आपके प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझना और निभाना है। न की आपके रिश्तेदारों के प्रति।

Romantic young couple, relationship breakup

-ब्रेकअप और पैचअप- अक्सर देखा गया है कि रिश्ते में ब्रेकअप होता है फिर लड़का या लड़की किसी के समझाने-बुझाने पर वापस पैचअप कर लेते है और रिश्ते को कंटीन्यू करते है।

अगर आपने भी ऐसा ही कुछ किया है तो पहले इस बात को समझ लें कि वक्त के साथ आपके पार्टनर की वो आदत चेंज हुई या नहीं जिसके चलते आपका रिश्ता पहले भी एक बार बुरी तरह टूटते-टूटते बचा है।

अगर साल-दो साल बीत जाने पर भी यह आदत बीच-बीच में आपके दिख रही है और आपके बार-बार चेताने पर वह उसे कंटीन्यू किए हुए है, तो समझ ले कि आप गलत इंसान के साथ गलत रिलेशन में है।

जो भी प्यार करेगा और आपके साथ शादी के बंधन में बंधने की सोच रहा होगा या होगी वह उन बातों को अपने अंदर से सबसे पहले दूर करेंगे जिनके चलते आपका रिश्ता टूटते-टूटते बचा था।

 

-आत्मसम्मान- अगर आपका पार्टनर आपके साथ गाली-गलौच करता है। फिर माफी मांग लेता है और फिर नए झगड़े में दोबारा  से गाली-गलौच और कहीं- कहीं तो हाथ तक उठा देता है।

तो एक सेकेंड भी ऐसे रिश्ते में न रहे। चूंकि आत्मसम्नान (Selfrespect) से समझौता करना मतलब अपने वजूद को मिटा देना है। अपनी ही नजर में गिर जाना है।

ऐसा शख्स कभी भी आपका सम्नान नहीं करेगा या करेगी और आपके लिए यह रिश्ता एक बोझ से ज्यादा कुछ नहीं रह जाएगा।

किसी भी रिश्ते की नींव एक-दूसरे के प्रति सम्नान होती है। सम्नान है तो केयर है और केयर है तो प्यार है और प्यार है तो शादी करना सही है।

Important things before making marriage decision

marriage-love-relation

-प्यार- आप सोच रहे होंगे कि शादी के लिए सबसे अहम प्वॉइंट हमने सबसे अंत में क्यों लिया? चूंकि ऊपर की सारी बातें अगर आपके पार्टनर में है तो मतलब प्यार है। प्यार की कोई परिभाषा नहीं है।

जब आप अपना सर्वस्व, अपनी ओर  केयर, अपना अहम, अपना समय और अपने सुख-दुख किसी भी शख्स को अनकनडीशनल देते है तो यही प्यार है और प्यार है तो शादी के बंधन में बंधा जा सकता है।

प्यार सिर्फ आई लव यू कह देने भर से, आपको स्पेशल फील करा देने भर का नाम नहीं है।प्यार का मतलब है- प्रायोरिटी, विश्वास, समर्पण और केयर।

say no- Important things before making marriage decision

-न कहना सीखें- अपने रिश्ते में जिन भी बातों से आपको दिक्कत है। उनके प्रति विरोध शुरू से जताते रहे। कोई काम या चीज आपको करना पसंद नहीं तो साफ और स्पष्ट शब्दो में उसे न कह दे।

कोई भी काम या चीज आपने तीन साल तक तो की लेकिन फिर अचानक से चौथे साल में आपने कहा कि अब मेरा सब्र टूट रहा है और मैं यह नहीं कर सकता या कर सकती….

तो समझ लें कि आपके लिए आपका रिश्ता एक समझौते से ज्यादा कुछ नहीं रहा है

और समझौते के आधार पर रिश्ते टिकते नहीं है। रिश्तों में थोड़ा बहुत समझौता करना पड़ता है लेकिन ऐसा नैचुरली और आपकी मर्जी से होता है…किसी को खो देने के डर से या खुश रखने के लिए अगर आप वो सब करते आ रहे है

जो आपको पसंद नहीं तो आप खुद को और पार्टनर को धोखा दे रहे है। धोखे से बने रिश्तों में शादी की जगह बर्बादी मिलती है।

Important things before making marriage decision

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: