breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराजनीतिक खबरेंविश्व
Trending

अरुणाचल LAC पर चीन शांत,क्या तूफान के आने के है संकेत?भारत सतर्क,बढ़ाई तैनाती

भारत की सेना ने एहतियातन पूरी LAC सहित पर भी तैनाती बढ़ा दी है। चालबाज चीन की धोखेबाजियों से भारतीय सेना अच्छी तरह वाकिफ है...

Arunachal Lac china quiet Indian army alert deployment increased

नई दिल्ली: कहते है अगर आपका शक्तिशाली दुश्मन अचानक से शांत हो जाएं तो समझ लेना चाहिए कोई तूफान आने वाला है।संभवत: इसी बात के भाव को समझते हुए भारतीय सेना (Indian army) ने अरुणाचल प्रदेश की सीमा (Arunachal Pradesh)पर भी अब अपनी तैनाती बढ़ा दी है।

चूंकि अरुणाचल प्रदेश से लगती एलएसी (LAC) पर चीन (China) की ओर से फिलहाल शंति है,जबकि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच काफी तनाव है।

तनावपूर्ण माहौल में चीन (China) के इस व्यवहार पर भारत (India)और ज्यादा सतर्क हो (India army alert) गया है और इसलिए अरुणाचल प्रदेश से लगती एलएसी पर चीन के सैनिकों की कोई तैनाती न होने पर भी भारत ने अपने सैनिकों की तैनाती को बढ़ा दिया (Arunachal Lac china quiet Indian army alert deployment increased)है।

चीन ने इस एलएसी (LAC) पर न कोई तैनाती बढ़ाई और न ही सामान्य पेट्रोलिंग में कोई बदलाव किया है। दोनों देशों के सैनिकों के बीच पेट्रोलिंग के दौरान सामान्य व्यवहार किया जा रहा है।

बातचीत भी दोनों के बीच सामान्य है। फिर भी भारत की सेना ने एहतियातन पूरी LAC सहित पर भी तैनाती बढ़ा दी है। चालबाज चीन की धोखेबाजियों से भारतीय सेना अच्छी तरह वाकिफ है।

दरअसल, एलएसी का यह भाग पहले से ही संवेदनशील माना जाता है। 15 जून  की रात गलवान घाटी (Galwan valley) में हिंसक झड़प में 20भारतीय जवानों की शहादत से पहले वर्ष 1975 में भी एलएसी में भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे।

चूंकि तब चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तुलुंग ला में भारतीय पैट्रोलिंग पार्टी पर घात लगाकर हमला किया था।

 

 

LAC पर भारतीय सेना सतर्कArunachal Lac china quiet Indian army alert deployment increased

सूत्रों के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच तनाव (India-China border tension) बढ़ने के बाद हर जगह भारतीय सेना सतर्क है। तैनाती बढ़ा दी गई है और संवेदनशील इलाकों में भी पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है।

आशंका है कि चीन अरुणाचल प्रदेश में भी कोई हरकत को अंजाम दे सकता है क्योंकि यह क्षेत्र पहले से ही संवेदनशील रहा है और चीन के सैनिकों संग यहां पहले भी कई बार झड़पें हो चुकी है। हालांकि फिलहाल स्थिति दिखने में सामान्य लग रही है।

बकौल एक अधिकारी इस इलाके में भारत-चीन की ओर से की जा रही पेट्रोलिंग सामान्य दिनों की तरह ही जारी है। पहले भी पैट्रोलिंग के दौरान जब दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने आ जाते थे, तो बात हो जाती थी और हाथ मिला लेते थे।

हालांकि बीते कुछ समय से COVID-19 की वजह से हाथ मिलाने से परहेज किया गया, लेकिन अब फिर वहां सामान्य प्रैक्टिस ही जारी है।

एक-दूसरे अधिकारी ने कहा कि अभी वहां हालात सामान्य लग रहे हैं, लेकिन हम चीन को कोई गलत हरकत करने का अवसर भी नहीं देंगे।

Arunachal Lac china quiet Indian army alert deployment increased

उन्होंने बताया कि हमें शंका थी कि चीन यहां भी कुछ कर सकता है लेकिन अभी तो फिलहाल स्थिति सामान्य लग रही है। फिर भी भारतीय सेना सतर्क (Indian army alert) है और हर स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह मुस्तैद है।

इस इलाके में काफी वक्त तक तैनात रहे एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश की स्थितियां अलग भी हैं।

अरुणाचल प्रदेश में जहां हर जगह पहले से ही सैनिक तैनात हैं, तो वहीं लद्दाख (Laddakh) में कई ऐसे इलाके हैं जहां पर स्थाई तैनाती नहीं थी और वहां दोनों देशों के सैनिक ही पेट्रोलिंग के लिए आते थे और वापस चले जाते थे।

जैसेकि पैंगोंग एरिया का फिंगर-4 का इलाका, वहां चीनी सैनिकों ने पहले भारतीय सैनिकों की पैट्रोलिंग रोकने की कोशिश की और फिर उस इलाके में आकर ही डट गए।

Arunachal Lac china quiet Indian army alert deployment increased

(इनपुट एजेंसी से भी)

 

 

Tags

Radha Kashyap

राधा कश्यप लेखन में अपनी रुचि के चलते काफी समय से विभिन्न पब्लिशिंग हाउसेज में काम करती रही है और अब समयधारा के साथ एक लेखिका के रूप में जुड़ी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: