breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराज्यों की खबरें
Trending

देर रात फिर भूकंप से दहला दिल्ली-NCR, अलवर रहा केंद्र, भूकंप की तीव्रता 4.2

वर्ष 2020 दिल्ली/एनसीआर में भूकंपों का साल रहा है।दिल्ली में इस वर्ष यह था 15वां भूकंप...

नई दिल्ली:Delhi mein bhukamp-earthquake in Delhi-NCR:दिल्ली की कड़कड़ाती ठंड में गुरुवार को देर रात गए लोगों को अपने-अपने घरों से बाहर भागना पड़ा। गुरुवार देर रात 11:46 बजे दिल्ली और एनसीआर में तेज भूकंप के झटके महसूस किए(Delhi mein bhukamp-earthquake in Delhi-NCR) गए।

इस भूंकप का केंद्र राजस्थान के अलवर में था और रिक्टर पैमाने पर दिल्ली में आएं भूकंप की तीव्रता 4.2 मापी गई।

इसकी जानकारी भारतीय मौसम विभाग के सिस्मोलॉजी डिपार्टमेंट के डॉयरेक्टर (ऑपरेशंस) जे एल गौतम ने दी।

देर रात इस भूंकप से फिलहाल किसी प्रकार के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं आई है।

इस भूंकप के झटके दिल्ली से लेकर नोएडा,गाजियाबाद में महूसस किए गए है।

 

दिल्ली में इस वर्ष यह था 15वां भूकंप-Delhi mein bhukamp-earthquake in Delhi-NCR

वर्ष 2020 दिल्ली/एनसीआर में भूकंपों का साल रहा है। इस साल दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में 14भूंकप बीती रात से पहले तक आएं थे,जोकि निम्न से मध्यम तीव्रता वाले रहे है। अब दिल्ली में 15वां भूकंप 17 दिसंबर की देर रात में आया है।

इससे पहले 12 अप्रैल से लेकर तीन जून तक दिल्ली/NCR में भूकंप(Delhi/NCR earthquake)के झटके दर्ज किए गए है।

 

वैज्ञानिकों ने बताया दिल्ली में क्यों आ रहे है बार-बार भूकंप?

Delhi mein bhukamp-earthquake in Delhi-NCR

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (NCS) में वैज्ञानिक जेएल गौतम ने बताया कि आज तक अभी तक ऐसी कोई टेक्नीक नहीं बनी है जिससे पहले से इसके बारे में बताया जा सके।

हालांकि उन्होंने कहा कि इसके आने के बाद तीव्रता का अंदाजा तो लगाया जा सकता है लेकिन पहले से कुछ नहीं कहा जा सकता है।

उन्होंने भूकंप (earthquake) आने वाले क्षेत्रों को 5 जोन में बांटा है। जिसमें 5वां जोन सर्वाधिक खतरे में है और दिल्ली का इलाका चौथे जोन में आता है।

बकौल जेएल गौतम हिमालय के आसपास के इलाके में बड़े भूकंप आने का खतरा ज्यादा है क्योंकि वहां पर प्लेटें खिसक रही हैं।

इसलिए हिंदुकुश पर्वत से लेकर उत्तर-पूर्व तक भूकंप का एक बड़ा खतरा है और हिमालयी क्षेत्र से दिल्ली(Delhi) की दूरी 250 से 300 किलोमीटर के आसपास है।

इसलिए वहां आए भूकंप का असर इस इलाके में दिख सकता है।

जिस तरह नेपाल में आए भूकंप का असर दिल्ली तक देखा गया था।

 

दिल्ली में भूकंप आने पर इन इलाकों पर है सबसे ज्यादा खतरा

भूकंप के मामले में दिल्‍ली बेहद संवेदनशील है। भूवैज्ञानिकों ने दिल्ली और इसके आसपास के इलाके को जोन-4 में रखा है। यहां 7.9 तीव्रता तक का भूकंप आ सकता है।

दिल्ली में भूकंप(Earthquake in Delhi)की आशंका वाले इलाकों में यमुना तट के करीबी इलाके, पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, मयूर विहार, लक्ष्मी नगर और गुड़गांव, रेवाड़ी तथा नोएडा के नजदीकी इलाके शामिल हैं।

 

Delhi mein bhukamp-earthquake in Delhi-NCR

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × two =

Back to top button