breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Devshayani Ekadashi 2022:आज शाम से शुरु हो रही है देवशयनी एकादशी,कल इस मुहूर्त में रखें व्रत,जानें पारण का समय

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी (Devshayani Ekadashi)कहा जाता है। इस एकादशी को देवशयनी एकादशी इसलिए कहते है चूंकि इस दिन से भगवान विष्णु(Lord Vishnu)का शयनकाल आरंभ हो जाता है। 

Devshayani-Ekadashi-2022-start-and-end-time-devshayani-vrat-parana-time

एकादशी(Ekadashi)का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। श्री हरि विष्णु को समर्पित एकादशी व्रत(Ekadashi Vrat) मोक्ष प्राप्ति और पाप कर्मों से छुटकारे के लिए विशिष्ट माना जाता है। प्रत्येक महीने में दो एकादशी आती है।

एक शुक्ल पक्ष एकादशी और दूसरी कृष्ण पक्ष एकादशी।

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी (Devshayani Ekadashi)कहा जाता है। इस एकादशी को देवशयनी एकादशी इसलिए कहते है चूंकि इस दिन से भगवान विष्णु(Lord Vishnu)का शयनकाल आरंभ हो जाता है। 

देवशयनी एकादशी(Devshayani-Ekadashi)के चार माह के बाद भगवान् विष्णु प्रबोधिनी एकादशी (Prabodhini Ekadashi)के दिन नींद से जागते हैं।

अब आप जानना चाहेंगे कि देवशयनी एकादशी कब(Devshayani-Ekadashi-2022-kab-hai)है?

इस वर्ष देवशयनी एकादशी का व्रत 10 जुलाई 2022,रविवार को है। देवशयनी एकादशी पर भक्तगण श्रीहरि विष्णु की पूजा-अर्चना करते है और व्रत रखते है।

भगवान विष्णु के मंत्रोच्चारण और भजन गाकर भक्तगण अपना दिन व्यतीत करते है।

देवशयनी एकादशी के दिन से ही चतुर्मास(Chaturmas)भी शुरू हो जाता है।

ऐसा माना जाता है कि देवशयनी एकादशी के अवसर पर, भगवान विष्णु अपने नींद चक्र में प्रवेश करते हैं जो 4 महीने तक रहता है।

Devshayani-Ekadashi-2022-kab-hai-Devshayani-Ekadashi-2022-start-end-time- parana-muhurat
देवशयनी एकादशी2022 कब है

 

इस अवधि के दौरान, घर खरीदने, जनेऊ, नामकरण सहित अन्य सभी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं।

ऐसी मान्यता है कि देवशयनी एकादशी से शुरू होने वाली इस अवधि के दौरान, भगवान विष्णु क्षीर सागर में विश्राम करते हैं। इस काल को चतुर्मास के नाम से भी जाना जाता है। जिसमें कोई भी शुभ काम नहीं किए जाते।

चलिए अब आपको बताते है देवशयनी एकादशी शुरू होने और समाप्त होने का समय और व्रत का पारण करने का मुहूर्त क्या(Devshayani-Ekadashi-2022-start-and-end-time-devshayani-vrat-parana-time)है।

http://samaydhara.com/lifestyle/nirjala-ekadashi-2022-kab-hai-nirjala-ekadashi-vrat-kab-rakha-jayega-time-vrat-niyam/amp/

 

 

 

 

देवशयनी एकादशी कब है?शुरु और खत्म होने का समय (Devshayani-Ekadashi-2022-kab-hai-Devshayani-Ekadashi-2022-start-end-time)

 

देवशयनी एकादशी रविवार, जुलाई 10, 2022 को है।

देवशयनी एकादशी तिथि आरंभ – 09 जुलाई, 2022,शनिवार को 04:39 शाम बजे

एकादशी तिथि समाप्त – जुलाई 10, 2022 रविवार को 02:13 दोपहर बजे

11 जुलाई को, पारण (व्रत तोड़ने का) समय – सोमवार को 05:31 सुबह से 08:17 सुबह तक

पारण तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय – 11:13 सुबह

 

Mohini Ekadashi 2022:मोहिनी एकादशी आज शाम से शुरू,जानें व्रत का पारण समय,नियम और कथा

 

देवशयनी एकादशी पूजा विधि (Devshayani Ekadashi Puja Vidhi)

 

-देवशयनी एकादशी के दिन भक्त जल्दी उठें।

 

-अपनी नियमित दिनचर्या पूर्ण करें और भगवान विष्णु की पूजा करने के लिए स्वच्छ कपड़े पहनकर तैयार हो जाएं।

 

-इस दिन गंगा सहित पवित्र नदियों में स्नान करना शुभ माना जाता है और यदि ऐसा संभव न तो लोग स्नान करने के पानी में गंगाजल मिला कर घर पर ही स्नान कर सकते हैं।

 

-भगवान विष्णु की विशेष पूजा करें।

 

 

-पीले वस्त्र, पीले फूल, पीला प्रसाद, पीला चंदन अर्पित करें।

 

 

-पान, सुपारी चढ़ाएं, दीप जलाएं।

 

 

-भक्त इस दिन उपवास भी रखें।

 

 

-भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए मंत्रों और भजनों का जाप करें।

 

Devshayani-Ekadashi-2022-start-and-end-time-devshayani-vrat-parana-time

 

देवशयनी एकादशी मंत्र (Devshayani Ekadashi Mantra)

‘सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जमत्सुप्तं भवेदिदम्.

विबुद्धे त्वयि बुद्धं च जगत्सर्व चराचरम्…

आज है देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाह,जानें पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

 

देवशयनी एकादशी का महत्व (Devshayani Ekadashi Importance)

देवशयनी एकादशी को आषाढ़ी एकादशी, पद्मा एकादशी और हरिशयनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

इन कुल लगभग 4 महीने के दौरान, भगवान विष्णु अपने शयन चक्र में चले जाते हैं और इस समय अवधि के दौरान घर खरीदना, जनेऊ धारण करना और अन्य शुभ काम रुक जाते हैं।

 

Sawan 2022:सावन कब से शुरु है?सावन का पहला सोमवार व्रत कब है,पूजा का शुभ मुहूर्त,विधि क्या है?

 

Devshayani-Ekadashi-2022-start-and-end-time-devshayani-vrat-parana-time

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button