Trending

International women’s day 2023:जानें 8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, क्या है इस बार की थीम,महत्व

चूंकि इस साल भारत में रंगों वाली होली 2023(Holi 2023)का पर्व 8 मार्च,बुधवार को है और अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस भी 8 मार्च(International-women's-day-2023)को मनाया जाता है।

International-women’s-day-2023-when-and-why-celebrate-Importance-women’s-day-2023-theme

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International-women’s-day)प्रतिवर्ष 8 मार्च को मनाया जाता है।इस वर्ष इंटरनेशनल महिला दिवस(IWD)सिर्फ विश्व में ही नहीं बल्कि भारत(India)में खासतौर पर विशेष होने जा रहा है।

चूंकि इस साल भारत में रंगों वाली होली 2023(Holi 2023)का पर्व 8 मार्च,बुधवार को है और अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस भी 8 मार्च(International-women’s-day-2023)को मनाया जाता है।

इस लिहाज से इस साल अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस और होली दोनों एक ही दिन पड़ गए है और भारत में महिला दिवस और भी खास हो गया है।

भारतीय सभ्यता में वैसे भी महिलाओं को शक्ति,संपन्नता और सुख-वैभव की मूर्ति दुर्गा व लक्ष्मी के रूप में पूजा जाता है। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस इस वर्ष भारत में होली के दिन पड़ने से बेहद खास हो गया है।

यह पूरी दुनिया में महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक उपलब्धियों का सम्मान करने के लिए व्यापक रूप से मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को वैश्विक अवकाश के रूप में मनाया जाता है और यह हर साल एक निश्चित तिथि पर मनाया जाता है, जोकि 8 मार्च है।

यह दिन महत्वपूर्ण मुद्दों जैसे लैंगिक समानता, प्रजनन अधिकार, महिलाओं के खिलाफ हिंसा और दुर्व्यवहार, महिलाओं के लिए समान अधिकार आदि पर केंद्रित है।

यह दिन सभी महिलाओं को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

महिलाओं(women)के विषय में कहा जाता है कि वह सबकुछ कर सकती है। अगर किसी घर में एक लड़की पढ़ गई तो समझों पूरी पीढ़ी पढ़ गई।

एक औरत हर रूप,हर काम को जितनी परफेक्शन के साथ कर सकती है,उतना कोई नहीं,फिर चाहे वो गृहिणी हो,मां,बहन,बेटी हो या फिर बिजनेस वुमन,अध्यापिका,डॉक्टर,पुलिस और इंजीनियर।

अपने हर रूप,हर काम को एक महिला पूरी शिद्दत और ईमानदारी के साथ निभाती है। महिलाओं के इसी हिम्मत,हौंसले को सलाम करने की एवज में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस(International Women’s Day)मनाया जाता है।

इस खास दिन पर इंटरनेशनल लेवल पर महिलाओं के संघर्ष,उनकी सफलता,सशक्तिकरण,दृढ़ता और उपलब्धियों को नमन करके उनका सेलिब्रेशन किया जाता है।

इस दिन न केवल महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने के जज़्बे को सलाम किया जाता है बल्कि उनके सशक्तिकरण पर पूरा जोर दिया जाता है।

हर साल की तरह इस वर्ष भी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2023(International Women’s Day 2023,8 March), 8 मार्च 2023,बुधवार को मनाया जाएगा।

प्रतिवर्ष 8 मार्च को ही इंटरनेशनल वुमन डे मनाया जाता है। लेकिन अगर आप जानना चाहते है कि 8 मार्च को ही क्यों अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनया जाता(why-celebrate-women’s-day)है, तो इसके पीछे एक दिलचस्प इतिहास है।

तो चलिए बताते है आपको इस बार अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2023 कब है।इसका महत्व क्या है और इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की थीम क्या(International-women’s-day-2023-when-and-why-celebrate-Importance-women’s-day-2023-theme)है।

Women’s Day Editorial : नारी-संघर्षों की कठपुतली, बदलाव कब..?

International-women’s-day-2023-when-and-why-celebrate-Importance-women’s-day-2023-theme:

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास | International women’s day history

सदियों से विश्वभर में महिला और पुरुषों के बीच अवसरों,पालन-पोषण और अधिकारों को लेकर भेदभाव रहा है।उनके पास पुरुषों जितने संसाधन कभी नहीं थे।

काम भले ही उन्हें ज्यादा करना पड़ता था। लेकिन उसकी एवज में भुगतान बहुत निम्न मिलता था। इतना ही नहीं,मतदान करने जैसे अधिकार भी महिलाओं को प्राप्त नहीं थे।

वर्ष 1908 में इसी भेदभाव और उत्पीड़न पर महिलाओं में वाद-विवाद होने लगा और आखिर इसपर आवाज उठाते हुए तकरीबन 15,000 महिलाओं ने न्यू यॉर्क की सड़कों पर रैली निकाली थी. 1910 पर इसपर कोपेनहेगन में कामकाजी महिलाओं को लेकर कोन्फ्रेंस हुई थी।

फिर वर्ष 1911 में जर्मनी की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी की लीडर क्लारा जेटकिन ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का प्रस्ताव रखा और 19 मार्च के दिन इसे मनाया।

वहीं, 1913-1914 में 23 फरवरी के दिन रूस (Russia) में पहला महिला दिवस मनाया गया और आगे चलकर वैश्विक स्तर पर इसे 8 मार्च मनाया जाना घोषित कर दिया। यूनाइटेड नेशंस में महिला दिवस मनाने की शुरुआत 1975 में हुई थी।

Women’s Day special: सच्चा महिला सम्मान – करों उन्हें बंधनों से आजाद

 

अंतर्राष्ट्रीय माहिला दिवस 2023 की थीम | International Women’s Day 2023 Theme

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (IWD) हर साल एक अलग थीम के साथ मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2023 की थीम(International Women’s Day 2023 Theme)पहले से ही तय है और लोगों को उसी के आधार पर कार्यक्रमों की योजना बनानी चाहिए।

हमें इस दिन उन सभी महत्वपूर्ण महिलाओं को याद करना चाहिए जिन्होंने अपने अधिकारों के लिए संघर्ष किया। यह दिन हमारे समाज के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को विभिन्न देशों में सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है और लोग महिलाओं के अधिकारों के बारे में बात करने के लिए अभियानों या कार्यक्रमों में भाग लेते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (IWD) 2023 की थीम(International Women’s Day 2023 Theme)पहले ही घोषित की जा चुकी है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इस वर्ष की थीम “डिजिटल: लैंगिक समानता के लिए इनोवेशन और टेक्नोलॉजी”(DigitALL: Innovation and technology for gender equality)है।

सभी कार्यक्रम, अभियान और कार्यक्रम इसी विषय पर केंद्रित होंगे। आपको भी उनमें भाग लेना चाहिए और महिलाओं का समर्थन करना चाहिए।

 

International-women’s-day-2023-when-and-why-celebrate-Importance-women’s-day-2023-theme

 

 

 

 

 

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का महत्व | International Women’s Day Importance/Significance

 

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस सिर्फ इसलिए नहीं मनाया जाता क्योंकि इसे कैलेंडर में दिखाना है बल्कि इसलिए मनाया जाता है क्योंकि आज भी ऐसी अनेक महिलाएं हैं जो उत्पीड़न का शिकार होती हैं, शिक्षा से वंचित हैं, भ्रूण हत्या के लिए मजबूर होती हैं, जिनके पास काम के साधन नहीं हैं या भुखमरी में जी रही हैं।

इनके लिए आवाज उठाना और इस भेदभाव को कम करना आवश्यक है, इसीलिए आज भी इस दिन का उतना ही महत्व है जितना सालों पहले था।

 

 

 

 

International-women’s-day-2023-when-and-why-celebrate-Importance-women’s-day-2023-theme

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button