breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशलाइफस्टाइल
Trending

Raksha Bandhan 2022:दो दिन पड़ रही है रक्षाबंधन,गलती से भी न बांधे इस समय राखी,जानें शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन पर मान्यता है कि राखी(Rakhi)भद्राकाल में बांधना शुभ नहीं होता। इसलिए जरुरी है कि आपको पता हो इस साल भद्राकाल कब से कब तक है और आखिर भद्राकाल में रक्षाबंधन को मनाना निषेद्ध क्यों है?

Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal

भाई-बहन के पवित्र और निश्चल प्यार का प्रतीक पर्व रक्षाबंधन(RakshaBandhan)प्रति वर्ष शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा(Purnima)तिथि को धूमधाम से मनाया जाता है।

हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का विशेष महत्व है।इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर उनकी लंबी उम्र की कामना करती है और भाई भी आजीवन अपनी बहनों की रक्षा करने का वचन देते हुए रक्षा सूत्र हाथ पर बंधवाते है।

इस वर्ष रक्षाबंधन कब है(Raksha-Bandhan-2022-kab-hai)?इस बात को लेकर लोगों के मन में दुविधा है,चूंकि पूर्णिमा की तिथि इस साल दो दिन पड़ रही (Raksha Bandhan 2022 Date)है।

ऐसे में अगर आप भी जानना चाहते है कि रक्षाबंधन कब है,राखी बांधने का शुभ मुहूर्त क्या है? और किस समय गलती से भी राखी न बांधे(Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal). 

तो आज हम आपके इन्हीं सवालों के जवाब लेकर आएं है ताकि आप भी वक्त रहते आराम से अपना रक्षाबंधन(Raksha Bandhan 2022)का त्यौहार धूमधाम से मना सकें।

Raksha-Bandhan-2022-kab-hai-Raksha- Bandhan-date-rakhi-shubh-muhurat-2
राखी बांधने का शुभ समय

 

यह भी पढ़े: Sawan 2022:सावन कब से शुरु है?सावन का पहला सोमवार व्रत कब है,पूजा का शुभ मुहूर्त,विधि क्या है?

 

 

 

 

 

 

 

जानें रक्षाबंधन 2022 कब है? । Raksha Bandhan 2022 Date

 

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि गुरुवार, 11 अगस्त 2022 को सुबह 10 बजकर 38 मिनट पर शुरू होकर अगले दिन 12 अगस्त को 7 बजकर 5 मिनट पर खत्म हो रही है।

तो इस लिहाज से 12 अगस्त को उदया तिथि होने के बाद भी रक्षा बंधन गुरुवार, 11 अगस्त 2022 को ही मनाया जाएगा, क्योंकि पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त 2022 को पूरा दिन है।

 

Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal

 

 

 

 

यह भी पढ़े:Shanti Jayanti 2022:शनि जयंती पर साढ़ेसाती और शनि ढैय्या से मुक्ति पाएं,करें ये 5अचूक उपाय

 

 

 

 

 

रक्षा बंधन 2022 में राखी बांधने का शुभ मुहूर्त | Raksha Bandhan 2022-Rakhi shubh muhurat 

 

रक्षाबंधन तिथि(Raksha-Bandhan-date)11 अगस्त 2022, गुरुवार

पूर्णिमा तिथि आरंभ- 11 अगस्त, सुबह 10 बजकर 38 मिनट से

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 12 अगस्त. सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त(Rakhi Shubh Muhurat)- 11 अगस्त को सुबह 9 बजकर 28 मिनट से रात 9 बजकर 14 मिनट

अभिजीत मुहूर्त- दोपहर 12 बजकर 6 मिनट से 12 बजकर 57 मिनट तक

अमृत काल- शाम 6 बजकर 55 मिनट से रात 8 बजकर 20 मिनट तक

ब्रह्म मुहूर्त – सुबह 04 बजकर 29 मिनट से 5 बजकर 17 मिनट तक

 

Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal

 

 

यह भी पढ़े: guruvar-ke-totke-गुरुवार के दिन करें ये छोटा सा काम,धन-दौलत संग होंगे गुरु बलवान

 

रक्षाबंधन पर मान्यता है कि राखी(Rakhi)भद्राकाल में बांधना शुभ नहीं होता। इसलिए जरुरी है कि आपको पता हो इस साल भद्राकाल कब से कब तक है और आखिर भद्राकाल में रक्षाबंधन को मनाना निषेद्ध क्यों है?

 

 

 

 

 

 

 

भद्रा काल में क्यों नहीं बांधते राखी?Bhadra Kaal mein rakhi kyo nahi bandhe

दरअसल,पौराणिक कथाओं के अनुसार भद्रा शनिदेव की बहन हैं। ऐसी मान्यता है जब माता छाया के गर्भ से भद्रा का जन्म हुआ तो समूची सृष्टि में तबाही होने लगी और वे सृष्टि को तहस-नहस करते हुए निगलने लगीं।

सृष्टि में जहां पर भी किसी तरह का शुभ और मांगलिक कार्य संपन्न होता भद्रा वहां पर पहुंच कर सब कुछ नष्ट कर देती।

इस कारण से भद्रा काल को अशुभ माना गया है।

ऐसे में भद्रा काल होने पर राखी नहीं बांधनी चाहिए। इसके अलावा भी एक अन्य कथा है।

रावण की बहन ने भद्राकाल में राखी बांधी जिस कारण से रावण के साम्राज्य का विनाश हो गया है।

इस कारण से जब भी रक्षा बंधन के समय भद्राकाल होती है उस दौरान राखी नहीं बांधी जाती है।

Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal

 

 

 

 

 

 

Sawan 2022:आज से सावन शुरू,सावन के सोमवार व्रत में इस विधि से करें भोले को प्रसन्न,गलती से भी न खाएं ये चीजें

 

 

 

 

 

 

रक्षा बंधन 2022 भद्रा काल | Raksha Bandhan 2022 Bhadra Kaal

रक्षाबंधन(Rakshabandhan)का पर्व चतुर्दशी युक्त पूर्णिमा में गुरुवार को प्रदोष काल युक्त श्रवण नक्षत्र तथा आयुष्मान व सौभाग्य योग में मनाया जाएगा। गुरुवार को पूर्णिमा सुबह 10:49 बजे से अगले दिन सुबह 7:06 बजे तक रहेगी।

शुक्रवार को सूर्योदय के बाद पूर्णिमा तिथि की अवधि ढाई घंटे से कम होने के कारण रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्त को ही प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा में मनेगा।

हालांकि गुरुवार को भद्रा काल रात 8:52 बजे तक रहेगा व शास्त्रों में भद्रा काल में राखी बांधना निषेध है। ऐसे में राखी बांधने का श्रेष्ठ समय रात 8:52 से 9:15 बजे तक रहेगा।

चर के चौघड़िए में भद्रा के बाद रात 9:48 तक राखी बांधी जा सकती है। भद्रापुच्छ काल में शाम 5:07 से 6:19 बजे तक राखी बांधी जा सकती है।

 

रक्षा बंधन के दिन भद्रा काल की समाप्ति- रात 08 बजकर 51 मिनट पर

रक्षा बंधन के दिन भद्रा पूंछ- 11 अगस्त को शाम 05 बजकर 17 मिनट से 06 बजकर 18 मिनट तक

रक्षा बंधन भद्रा मुख – शाम 06 बजकर 18 मिनट से लेकर रात 8 बजे तक

 

 

(नोट: इस लेख में दी गई जानकारी,सामान्य प्रचलित मान्यताओं के आधार पर लिखी गई है। समयधारा इसकी सटीकता को प्रमाणित नहीं करता )

 

 

 

 

Raksha-Bandhan-2022-date-rakhi-shubh-muhurat-vidhi-Bhadra Kaal

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button