breaking_newsअन्य ताजा खबरेंफैशनलाइफस्टाइल
Trending

guruvar-ke-totke-गुरुवार के दिन करें ये छोटा सा काम,धन-दौलत संग होंगे गुरु बलवान

इस दिन सभी कष्टों से मुक्ति के लिए और धन-दौलत,सुख-समृद्धि के लिए आप साईं बाबा की पूजा और व्रत भी कर सकते है...

guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare

क्या आपने कभी सोचा है की सप्ताह के हर दिन का अपना एक अलग ही महत्व होता है l

आज हम आपको सप्ताह के दिन गुरुवार के बारे में, उसके महत्व के बारे में बताएँगे l 

गुरुवार सप्ताह का पांचवा और धार्मिक तौर पर बेहद महत्वपूर्ण दिन होता हैl

सनातन परंपरा को मानने वाले लोग चाहे कितने ही बड़े मांसाहार के शौकीन क्यों न हो,

गुरुवार के दिन तामसी भोजन से परहेज करते हैंl इसके पीछे की वजह यह है कि इस गुरुवार के दिन भगवान विष्णु

और बृहस्पति देव का दिन माना गया हैl बृहस्पति देव को धन और समृद्धि के साथ ही संतान

और शिक्षा का दाता माना गया हैl गुरुवार को बृहस्पतिवार भी कहा जाता हैl

शुक्र ग्रह है भोग-विलास व सम्पन्नता का कारण ऐसे करो प्रसन्न

ऐसी मान्यता है कि गुरुवार के दिन कुछ टोटके(guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare) करने से आर्थिक परेशानियां खत्म होती हैl

घर में धन, दौलत, सुख, शांति, वैभव, समृ़द्ध और शांति का वास होता है और अकाल मृत्यु का भय समाप्त होता हैl

अगर आप भी अपनी जिंदगी में परेशानियों से जूझ रहे हैं तो प्रत्येक गुरुवार को इन उपायों को जरुर आजमाएं, निश्चित ही लाभ होगाl

guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare

पीले वस्त्र धारण करें : प्रत्येक गुरुवार को सुबह सवेरे स्नानादि से निवृत होकर भगवान विष्णु का स्मरण करें

और पूरे दिन पीले वस्त्र ही धारण करेंl भूल कर भी मांसाहार अथवा नशे की सामग्री का प्रयोग न करेंl

इस उपाय से बृहस्पति की कृपा होती है और धन संबंधित परेशानियां दूर होती जाती हैl

सुख समृद्धि और धन दौलत की प्राप्ति के लिए गुरुवार को करें ये उपाय 

guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare

मंदिर में पीले पुष्प चढ़ाएं : वैसे तो गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा होती है लेकिन आप जिस किसी भी देवता के उपासक हैं,

उनके मंदिर जाएं तो पीले फूल ही अर्पित करेंl देवता एक दूसरे के वाहक होते हैंl

ऐसा करने से कारोबार में लगातार वृद्धि होती जाती है और घाटा कम होता जाता हैl

 

कच्चा दूध चढ़ाएं : घर के आंगन में तुलसी(Tulsi) माता का पौधा हो तो सुबह स्नान के पश्चात

और शाम को दिया जलाने के समय उस पर कच्चा दूध चढ़ाएंl इससे परिवार में सुख शांति आती हैl

 

मंत्र का जाप करें : गुरुवार के दिन जब स्नान वगैरह से निवृत हो जाएं तो ओम ग्रां ग्रीं ग्रों सः गुरुवे नमः मंत्र का 108 बार जाप करें या फिर ओउम नमो:भगवते वासुदेवाय:नम: का भी पांच मिनट तक जाप कर सकते है।

‘मंगल’ ग्रह कर रहा है ‘अमंगल’..? तो आजमायें यह अचूक उपाय

guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare

11 गुरुवार तक इस प्रक्रिया को दोहराएंl इससे संतान और धन का सुख प्राप्त होता हैl

 

स्नान करें हल्दी से : गुरुवार के दिन स्नान करने से पूर्व पानी में एक चुटकी हल्दी(Haldi) डालकर स्नान करेंl

स्नान के पश्चात पूजा करने से पूर्व मस्तक पर केसर का तिलक लगाएंl इसके बाद ही किसी भी काम को करेंl

 

विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ : अगर परिवार में दुखों का बसेरा होता जा रहा है

तो स्नान के पश्चात भगवान विष्णु की तस्वीर या मूर्ति के सामने घी का दीपक जलाएं और श्री विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करेंl

 

गरीबों के बीच करें दान : हिंदू धर्म में दान को काफी प्रमुखता दी गई हैl दान देने से अपने रोग, दुख और बला दूर होते जाते हैंl

आर्थिक और पारिवारिक परेशानियों से निजात पाने के लिए प्रत्येक गुरुवार को पीली वस्तुएं

जैसे हल्दी, दाल, चना, बेसन, फल आदि गरीबों के बीच दान करेंl

 

साईं बाबा की पूजा और व्रत-गुरुवार का दिन मुख्य रुप से अपने गुरु की पूजा अर्चना का दिन होता है।

इस दिन सभी कष्टों से मुक्ति के लिए और धन-दौलत,सुख-समृद्धि के लिए आप साईं बाबा की पूजा और व्रत भी कर सकते है।

आप चाहे तो इस दिन अपने किसी भी गुरु की,जिसे आप अपना आराध्य मानते है,उनकी श्रद्धा से पूजा करके,उनकी कृपा प्राप्त कर सकते है।

 

guruvar-ke-totke-guruwar-ke-upay-guru ko majboot kare

 

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 4 =

Back to top button