breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशफैशनलाइफस्टाइल
Trending

Ram Navami: आज रामनवमीं पर इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा,मिलेगी सुख-संपत्ति

राम नवमीं के दिन मां सिद्धिदात्री सभी मनोकामनाएं पूरी करती है और कष्ट हरती है....

Ram Navami 2021 today puja shubh muhurat

नई दिल्ली:चैत्र नवरात्रि(Navratri 2021) के नौवें दिन रामनवमीं मनाई जाती है।

हिंदू धर्म का पवित्र पर्व रामनवमीं(Ram Navami 2021)आज,बुधवार,21 अप्रैल 2021 को देशभर में धूमधाम से मनाया जा रहा है।

 इस वर्ष रामनवमीं कोरोनाकाल(Coronavirus) में आ रही है।

इसलिए पाबंदियों के चलते भक्तजन आज रामनवमीं(Ram Navami) को अपने-अपने घरों में ही धूमधाम से परिवालों संग मना रहे है।

रामनवमीं के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम(Ram) का जन्म हुआ था। दरअसल, जब श्री राम ने जन्म लिया था तब चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी दोपहर थी और कर्क लग्न था।

RamNavami images- Happy Ram Navami-Hindi shayari

इसी कारण चैत्र नवरात्र(Chaitra Navratri)की नवमी तिथि को राम नवमी के रूप में भी धूमधाम से मनाया जाता है।

इतना ही नहीं, राम नवमीं के दिन मां दुर्गा(Durga ma) के नौवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। इस दिन उपवास रखने की भी मान्यता है।

राम नवमीं के दिन मां सिद्धिदात्री सभी मनोकामनाएं पूरी करती है और कष्ट हरती है। इसके साथ ही मान्यता है कि रामनवमीं की पूजा शुभ मुहूर्त में करने से प्रभु राम सुख-संपत्ति के साथ,सुरक्षित जीवन और सम्मान का आशीर्वाद प्रदान करते है।

Ram Navami 2021 today puja shubh muhurat-min
रामनवमीं पूजा शुभ मुहूर्त

पुण्य फल की प्राप्ति के लिए रामनवमीं पर आप राम रक्षा स्रोत का पाठ कर सकते है और अगर आप स्रोत पढ़ने में असमर्थ है तो महज एक श्लोक पढ़कर भी आप श्री राम की कृपा प्राप्त कर सकते है।

श्री राम का मुख्य मन्त्र है- ‘रां रामाय नम:’ आज इस मन्त्र का जप करने से आपको सुख और सम्मान की प्राप्ति होगी।

 

राम नवमीं पूजा का शुभ मुहूर्त-Ram Navami 2021 today puja shubh muhurat

 नवमी तिथि प्रारम्भ- 20 अप्रैल रात 12 बजकर 44 मिनट से शुरू

 नवमी तिथि समाप्त-  21 अप्रैल रात 12 बजकर 33 मिनट तक

 

राम नवमीं की पूजा विधि

 -सबसे पहले आप राम नवमीं के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान आदि से निवृत होकर भगवान राम का ध्यान करें और व्रत रखने का संकल्प लें।

-फिर इसके बाद पूजा की थाली में तुलसी पत्ता और कमल का फूल अवश्य रखें।

-रामलला की मूर्ति को माला और फूल से सजाकर पालने में झूलाएं।

-इसके बाद राम नवमी की पूजा षोडशोपचार करें। इसके साथ ही रामायण का पाठ तथा राम रक्षास्त्रोत का भी पाठ करें।

-भगवान राम को खीर, फल और अन्य प्रसाद चढ़ाएं। पूजा के बाद घर की सबसे छोटी कन्या के माथे पर तिलक लगाएं और श्री राम की आरती उतारें। 

-पूजा आदि के बाद हवन करने का भी विधान है | आज तिल, जौ और गुग्गुल को मिलाकर हवन करना चाहिए |

-हवन में जौ के मुकाबले तिल दो गुना होना चाहिए और गुग्गुल आदि हवन सामग्री जौ के बराबर होनी चाहिए |

-राम नवमी के दिन घर में हवन आदि करने से घर के अन्दर किसी भी प्रकार की अनिष्ट शक्ति का प्रवेश नहीं हो पाता और घर की सुख-समृद्धि सदैव बनी रहती है।

 

राम नाम का जाप करने के लिए इस प्रकार बनाएं राम यंत्र

Ram Navami 2021 today puja shubh muhurat-Ram Yantra

राम यंत्र बनाने के लिये आपको एक भोजपत्र, अनार की कलम और केसर की स्याही की जरूरत होगी लेकिन अगर आप इन सब चीज़ों को ना जुटा पायें, तो आप केवल एक सफेद कागज और एक लाल स्केच पेन या पेन लें |

-अब भोजपत्र पर या सफेद कागज पर एक बिंदू बनाइये | फिर इस बिंदू के बाहर एक त्रिकोण बनाइये |

-अब फिर से उस त्रिकोण के विपरीत एक और त्रिकोण बनाइये | इस तरह ये एक षटकोण बन जायेगा |

-अब षटकोण के बाहर एक वृत्त बनाइये | फिर वृत्त के बाहर 8 कमल की पंखुड़िया बनाईए |

-राम यंत्र बनाते समय हर स्टेप को करने की एक ही प्रक्रिया है | वह प्रक्रिया यह है- सबसे पहले पूर्व दिशा में श्री राम का स्मरण करते हुए अपनी आँखों को बंद करके, दोनों भौहों के बीच त्रिपुटी पर अपना ध्यान केंद्रित करें और ऊँ शब्द का सस्वर 6 बार उच्चारण करें ।

-फिर दाहिनी नाक से सांस खींचिएं, रोकिए और श्री राम का स्मरण करके बाईं नाक से निकाल दीजिए ।

-ऐसा 6 बार करना है । फिर ‘राम’ शब्द का सस्वर 108 बार उच्चारण करके अपनी आँखें खोलिये।

-इस प्रकार आपका यंत्र तैयार हो जायेगा।

Ram Navami 2021 today puja shubh muhurat

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + two =

Back to top button