breaking_newsअन्य ताजा खबरेंएप्सटेक्नोलॉजीदेशराजनीति
Trending

RBI ने किया सतर्क,गुरुग्राम-हैदराबाद में एप से करोड़ों के लोन घोटाले का पर्दाफाश

यह लोन 30 मोबाइल एप के द्वारा कर्ज बांटा जा रहा था और इन एप संचालकों ने रिजर्व बैंक (RBI) से कोई मंजूरी नहीं ली थी...

हैदराबाद:RBI warns for apps loan scam-आपको भी अगर किसी एप से करोड़ों के लोन पाने का ऑफर आया है तो संभल जाएं चूंकि यह घोटोला हो सकता है। इसी के तहत आरबीआई(RBI) ने ग्राहकों को सतर्क किया है।

दरअसल,तेलंगाना पुलिस ने करोड़ों रुपये के लोन घोटाले का भंडाफोड़ करते हुए 75 बैंक खातों में जमा 423 करोड़ रुपये जब्त कर लिए हैं।

ये लोन देने वाले ऋण की रकम पर 35 फीसदी तक ब्याज वसूल रहे थे।

यह लोन 30 मोबाइल एप के द्वारा कर्ज बांटा जा रहा था और इन एप संचालकों ने रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) से कोई मंजूरी नहीं ली थी।

कर्ज न चुका पाने पर उधार देने वालों के उत्पीड़न और यातनाओं से परेशान होकर 3 लोगों द्वारा आत्महत्या कर लेने के बाद तेलंगाना पुलिस को अलर्ट किया गया था।

इसके बाद हैदराबाद और गुरुग्राम(Gurugram-Hyderabad)में छापेमारी की गई।

पुलिस एजेंसियों ने हरियाणा के गुरुग्राम और हैदराबाद में कई स्थानों पर छापेमारी कर 16 लोगों को गिरफ्तार किया है।

इस स्कैम के अतंर्गत खुलासा हुआ कि एप(Apps) के जरिये कर्ज देने के लिए 3 कॉल सेंटर में करीब एक हजार लोगों को नौकरी पर रखा गया था। इसमें ज्यादातर कॉलेज ग्रेजुएट थे।

साइबराबाद पुलिस ने स्वतंत्र जांच शुरू कर सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

इसमें अमेरिका से इंजीनियर डिग्री लेकर लौटा एक युवक शामिल है।

32 साल का शरत चंद्र दो कंपनियों ओनियन क्रेडिट प्रा.लि. और क्रेड फॉख्स टेक्नोलॉजीस के जरिये कर्ज बांटने का यह कारोबार चलाता था।

 एप के जरिये कर्ज देने का यह कारोबार 2018-19 से शुरू हुआ।

शरत चंद्र लोन देने वाले ऐसे ऐप बनाकर बेंगलुरु में कई कंपनियों को बेचता भी थी।

 

RBI warns for apps loan scam

 

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन www.samaydhara.com के को-फाउंडर और बिजनेस हेड है। लेखन के प्रति गहन जुनून के चलते उन्होंने समयधारा की नींव रखने में सहायक भूमिका अदा की है। एक और बिजनेसमैन और दूसरी ओर लेखक व कवि का अदम्य मिश्रण धर्मेश जैन के व्यक्तित्व की पहचान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 5 =

Back to top button